अपनी अपनी कहानी सुनाओ!

दो लोग स्वर्ग में जाने के लिए लाईन में खड़े थे यमदूत ने उन्हें रोकते हुए कहा, स्वर्ग लगभग पूरा भर गया है इसलिए जिसकी मौत बहुत कष्ट सहकर हुई है उसे ही मै अंदर जाने दूंगा इसलिए आप लोग एक एक करके अपनी अपनी मरने की कहानी सुनाओ और फिर मैं तय करुंगा कि किसे अन्दर भेजा जाये!

पहला आदमी उसके पास आया और अपनी कहानी सुनाने लगा!

मुझे मेरे बीवी पर शक था कि उसका किसी के साथ चक्कर चल रहा है इसलिए आज मैं जल्दी घर आया ताकि मैं उसे रंगे हाथों पकड़ सकूँ जब मैं अपने घर पहुंचा जो 19वे माले पर स्थित अपार्टमेंट में है, जैसे ही मैं घर के अन्दर गया मुझे लगा कि अन्दर कुछ गड़बड़ है लेकिन सारा घर छान मारने के बाद भी मुझे कोई नही मिला!

आखिर मैं बाल्कॉनी में गया और वहां मुझे एक आदमी मिला जो बाल्कॉनी में रेलिंग से लटक रहा था 19वे माले पर जमीं से काफी ऊपर उसको देखते ही मेरा दिमाग फिर गया और मैं उसे मारने लगा हाथों से पैर से जैसे मार सकता था वैसे ही मैं उसे मारे ही जा रहा था, लेकिन वह साला नीचे गिर ही नही रहा था आखिर मैं घर के अन्दर गया और एक हथौड़ा ले आया और उस हथौड़े से उसकी उँगलियों पर जोर-जोर से मारने लगा, वह ज्यादा देर तक टिक नही सका और वह नीचे गिर गया लेकिन 19वे माले से नीचे गिरने पर भी वह नीचे एक झाड़ी में फंस गया और बच गया, मेरा दिमाग और भी सटक गया, मैं किचन में गया और फ्रिज उठाकर उसके ऊपर फैंक दिया, वह फ्रिज बराबर उस पर गिर गया और वह वहीँ खत्म हो गया!

लेकिन तब तक मेरा गुस्सा और तनाव इतना बढ़ गया था कि मैं भी हर्टअटैक आने से वहीँ बाल्कॉनी पर ही मर गया!

अरे तुम्हारा आज का दिन काफी बुरा रहा यमदूत ने उस आदमी से कहा और उसे अंदर भेज दिया!

लाईन में खड़े दूसरे आदमी से भी यमदूत ने कहा कि अन्दर जगह नहीं है अगर तुम्हारी मौत भी कष्ट सह कर हुई हो तभी तुम अन्दर जा सकोगे और उसे भी अपनी कहानी सुनाने के लिए कहा!

दूसरा आदमी अपनी कहानी सुनाने लगा:

आज का दिन मेरे लिए बहुत ही हैरानी वाला था, हुआ यूँ कि मैं 20वे माले पर एक अपार्टमेंट में रहता हूँ और आज भी रोज की तरह व्यायाम कर रहा था जैसे ही मैं व्यायाम करके कमरे की तरफ बड़ा सीढ़ियों पर अचानक मेरा पैर फिसला और, मैं फिसलता हुआ नीचे लुढ़क गया मैंने अपने आप को सँभालने की कोशिश भी की पर मैं संभल नहीं पाया और निचली बाल्कॉनी से बाहर ही निकल गया, ये तो मैंने जैसे कैसे बाल्कॉनी की रेलिंग को पकड़ लिया और, तभी एक आदमी आया और मुझे मारने लगा मुझे कुछ समझ नहीं आया कि हुआ क्या पर वो लगातार मुझे मारे जा रहा था, फिर न जाने उसे क्या हुआ वो कमरे के अन्दर गया और हाथ में एक हथौड़ा लेकर आया और मेरी उँगलियों पर मारने लगा, थोड़ी देर तो मैंने सहा लेकिन जब सहन नहीं हुआ तो हाथ रेलिंग से छूट गये और मैने सोचा जाने दो आज मैं बच नही पाऊंगा, लेकिन फिर से मेरी किस्मत ने मेरा साथ दिया और नीचे एक घनी झाड़ी में फंस गया, मैं घबरा गया था लेकिन मुझे कोई चोट तक नहीं आयी थी जब मैं सोच ही रहा था कि मैं अब ठीक हूँ इतने में एक रेफ्रिजरेटर मेरे उपर गिरा और मैं यहां पहुँच गया!

यमदूत ने कहा वाकई तुम्हारे साथ बहुत बुरा हुआ, चलो तुम भी अन्दर चले जाओ!
Send to your FB Contact's Inbox directly
 
Hide Comments
Show Comments
एक बार तीन दोस्त थे। तीनो को एक ही लड़की पसंद आ गयी तो तीनो ने फैंसला किया कि वे तीनो एक साथ लड़की को प्रोपोज़ करेंगे और लड़की का फैंसला आखिरी फैंसला होगा।
तीनों दोस्त लड़की के पास पहुंचे...
कुदरत ने औरत को हसींन बनाया।
खूबसूरती दी।
चाँद सा चेहरा दिया।
हिरणी सी आँखें...
एक लड़का एक कोचिंग सेंटर में प्री-मेडिकल-टेस्ट की तैयारी कर रहा था।
फिजिक्स उस लड़के को बिलकुल समझ में नहीं आता था और सारे लेक्चर उसके सिर के ऊपर से निकल जाते थे।
एक दिन उसने टीचर से पूछा...
एक बहुत बड़ा सरोवर था। उसके तट पर मोर रहता था, और वहीं पास एक मोरनी भी रहती थी। एक दिन मोर ने मोरनी से प्रस्ताव रखा कि "हम तुम विवाह कर लें, तो...
जिस समय रावण मरणासन्न अवस्था में था, उस समय भगवान श्रीराम ने लक्ष्मण से कहा कि इस संसार से नीति, राजनीति और शक्ति का महान् पंडित विदा ले रहा है, तुम उसके पास जाओ और...