• एक बार संता अपनी प्रेमिका के साथ पार्क में बाहों में बाहें डाल कर बैठा हुआ था और कुछ बड़ी ही रूमानी बातें कर रहा था कि तभी अचानक वहां एक हवलदार आया और संता से बोला, " आपको शर्म नहीं आती आप एक समझदार व्यक्ति होकर खुलेआम पार्क में ऐसी हरकत कर रहे हैं"।

    संता: देखिये हवालदार साहब आप गलत समझ रहे हैं, जैसा आप सोच रहे हैं वैसा कुछ भी नहीं है।

    हवलदार: तो कैसा है?

    संता: जी हम दोनों शादीशुदा हैं।

    हवालदार: अगर तुम शादीशुदा हो तो फिर अपनी ये प्यार भरी गुटरगूं अपने घर पर क्यों नहीं करते।

    संता: हवालदार साहब कर तो लें पर वहां मेरी पत्नी और और इसके पति को शायद अच्छा नहीं लगेगा।
  • बीवी हो तो ऐसी! पत्नी:खाने में क्या बनाऊँ?
    पति: कुछ भी बना लो क्या बनाओगी?
    पत्नी: जो आप कहो...
  • मनुष्य के विकास की विभिन्न अवस्थाएं! शादी से पहले: हीरो नंबर 1।
    शादी के बाद: कुली नंबर 1।
    शादी से पहले: मैंने प्यार किया...
  • अब संता क्या कहे! स्कूल से अपने बेटे पप्पू के काफी सारे प्रेम प्रसंगों और बुरी आदतों की शिकायतें आने के बाद एक दिन संता उसे बुलाया और कहा...
  • दरियादिल कंजूस! एक बार एक औरत बच्चे को लिए रो रही थी।
    एक सिंधी उस से रोने की वजह पूछी तो औरत ने कहा, " मेरा बच्चा बीमार है और मेरे पास दवा...
  • पति बेचारा! एक बार एक पति और पत्नी में लड़ाई हो जाती है, तो पति परेशान हो कर बाज़ार जाता है और आत्महत्या करने के इरादे से एक बोतल ज़हर ले कर आ जाता है...