बुढ़िया कहाँ गई!

एक बार एक बुढ़िया मर गयी तो उसकी बेटी जोर-जोर से रोने लगी और बोली।

बेटी: "अम्मा कहाँ गयी तू, जहां ना धूप-ना छाँव, ना रोटी-ना सब्जी, ना बिजली ना पानी।

साथ में ही संता और बंता भी शोक मनाने गये हुए थे।

संता ने साथ में बैठे बंता को कोहनी मारी और बोला, "अबे देख बुढ़िया कहीं हमारे घर पे तो नहीं चली गयी?"
Send to your FB Contact's Inbox directly
Hide Comments
Show Comments
संता: जल्दी से यहाँ एक एम्बुलेंस भेज दीजिये, मेरे दोस्त को एक गाडी ने टक्कर मार दी है। उसके नाक से और कान से खून बह रहा है। शायद उसकी टांग भी टूट गयी है।
ऑपरेटर: आप किस जगह...
एक बार संता बार में बैठकर कागज पर कुछ गुणा-भाग कर रहा था और पागलों की तरह हँस रहा था। तभी वहां बंता आया और उसने संता से पूछा, "क्या हुआ संता, तुम...
एक औरत सड़क पर गोद में अपने बच्चे को लेकर रोये जा रही थी, तभी वहाँ से संता गुज़र रहा था। संता ने उसके रोने का कारण पूछा।
औरत बोली, "बच्चा बहुत बीमार है और...
बंता: अरे यार संता तुम जो तोता लाये थे, कैसा है वो?
संता: क्या बताऊँ यार कल हमारा तोता पेट्रोल पी गया।
बंता: अरे, फिर क्या हुआ?
संता: होना क्या था...
एक दिन संता ऑफिस जाने के लिए जब बस में चढ़ा तो कंडक्टर ने हँसते हुए पूछा, "कल रात आप ठीक-ठाक घर पहुँच गए थे? कहीं गिरे तो नहीं या रास्ता तो नहीं भूले थे घर का?"
संता (गुस्से से): क्यों, कल रात...