•  

    एक बार एक आदमी की अपनी पत्नी से बहुत घमासान लड़ाई हो गयी तो वह गुस्से में घर छोड़ कर चला गया और जंगल में समाधि लगा कर बैठ गया।

    कईं महीनो की घोर तपस्या के बाद भगवान् उस पर प्रसन्न होकर उसके समक्ष प्रकट हुए और उससे बोले।

    भगवान्: आँखे खोलो वत्स।

    आवाज़ सुन कर उस आदमी ने आँखे खोली तो अपने सामने भगवान् को देख वह आदमी भगवान् से बोला, " हे प्रभु मेरे दुखों का निवारण करो।"

    भगवान्: बोलो वत्स तुम्हारी क्या इच्छा है।

    आदमी: प्रभु मैं अपनी पत्नी से बहुत परेशान हूँ और मैं चाहता हूँ या तो आप उसे गूंगा कर दो या मुझे फिर से कुंवारा बना दो।

    भगवान: वत्स मैंने तुम्हे मन्नत मांगने को बोला था जन्नत मांगने को नहीं।
  • हाजिर-जवाब बच्चा! एक आदमी अपने दोस्त के घर गया और दरवाज़े की घंटी बजाई, जो सुन कर एक बच्चा बाहर आया।
    आदमी: बेटा पापा घर पर हैं...
  • नाम में क्या रखा है! एक बार स्टीवन स्पीलबर्ग एक होटल में डिनर कर रहा था।
    एक चीनी फ़ैन उनके पास गया और आटोग्राफ माँगने लगा...
  • झूठ बोलना पाप है! एक दिन पप्पू के पापा एक रोबोट लेकर आए। वह रोबोट झूठ पकड़ सकता था और झूठ बोलने वाले को गाल पर खींचकर चांटा मार देता था...
  • मच्छरों का मातम! संता ने अपने आलसी नौकर से कहा, यहाँ पर इतने सारे मच्छर गुनगुना रहे हैं तू इन्हें मार गिरा।
    थोड़ी देर बाद संता फिर से बोला...
  • संता का मुर्गी प्रेम! एक बार संता की पालतू मुर्गी मर गयी तो संता को उसके मरने का बहुत दुःख हुआ और वह जोर जोर रोने लगा।
    संता की रोने की आवाज सुनकर बंता...