•  

    एक बार संता को कहीं जाना था। दरवाजा खोला तो देखा हल्की बारिश हो रही है। जाना पैदल है और बारिश बढ़ भी सकती है।

    सोचने लगा कि क्या करूँ फिर ख्याल आया कि,"पास के मिश्रा जी के घर से छाता ले लूँगा।"

    छाता लेने के लिए उनके घर की ओर चल पड़ा तो रास्ते में सोचने लगा कि,"हो सकता है मिश्रा जी घर पर न हों कोई बात नहीं भाभी जी तो इस समय घर पे ही होंगी। वैसे अच्छी औरत है पर क्या भरोसा मना कर दे।"

    अरे नहीं सात बज रहे हैं मिश्रा जी अभी घर पे ही होंगे। आदमी सही है पर मूड का कुछ कह नहीं सकते खुश है तो खुश नहीं तो फिर बस।

    अरे पर मैंने क्या करना है उसके मूड का एक छाता ही तो मांग रहा हूँ कोई जायदाद थोड़ी न मांग ली।

    वैसे भी मना नहीं करेंगे।

    कितनी बार मेरा स्कूटर मांग के ले गए हैं मैंने तो कभी मना नहीं किया, पर इंसान का क्या पता मना ना करे कोई बहाना ही बना दे।

    एक छाते के लिए बहानेबाजी,छि!! इंसान अपना वक़्त कितनी जल्दी भूल जाता है।

    ये तो अच्छी बात नहीं है। मैं भी चुप रहने वाला नहीं हूँ। होगा मिश्रा अपने घर का साला एहसान फरामोश।

    गुस्से में संता ने मुठियाँ भींच ली।

    छाता न हुआ कोई बड़ी चीज़ हो गयी। मुझे क्या चुतिया समझा है बहनचोद, नहीं देना है तो न दे। पर ये न सोच लेना की कोई हम गिरे हुए है। एक छाता नहीं खरीद सकते।

    सोचते-सोचते मिश्रा जी का घर आ गया।

    संता ने डोर बेल बजायी।

    मिश्रा जी लुंगी पहने हुए बाहर निकले, "अरे आईये आईये संता जी!"

    संता गुस्से से एकदम लाल सामने आया घुमा के मिश्रा जी के नाक पे एक घूंसा जमाया और बोला: "गांड में डाल ले अपना छाता। बहनचोद!"
  • उम्रदराज़ प्यार! एक रात, एक उम्रदराज पति-पत्नी सोने की तैयारी में थे।
    पति को नींद आ रही थी जबकि पत्नी...
  • बूब्स की आत्मकथा! मेरा जनम 12 साल बाद हुआ, रंग लायी मेरे चाहने वालों की दुआ;
    जब मैं बिलकुल चूची थी...
  • सोच! बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड एक कमरे में ख़ामोश बैठे थे।
    गर्लफ्रेंड की...
  • सेक्स की परिभाषा! पप्पू: पापा, यह सेक्स क्या होता है?
    संता यह सुनकर सोच में पड़ गया...
  • पठान की मुसीबत! एक बार एक पठान बड़ा दुखी होकर डॉक्टर के पास गया।
    डॉक्टर: क्या हुआ, इतने दुखी...