•  

    पठान: हकीम साहब, मेरे दोस्त की तबियत बहुत ख़राब है, उसे नींद नहीं आ रही है।
    कृपया नींद आने की कोई दवाई दे दीजिये।

    हकीम: यह लो पुड़िया और इस में से पच्चीस पैसे के सिक्के पर जितनी आये उतनी रख कर पानी से दे देना।

    अगले दिन पठान घबराया हुआ आया।

    पठान: हकीम साहब, आपने जो दवाई दी थी उसे खाकर मेरे दोस्त की मौत हो गयी।

    हकीम: वो कैसे? यह बताओ तुमने दवाई दी कैसे थी?

    पठान: आपने कहा था कि पच्चीस पैसे के सिक्के पर जितनी आये उतनी रखकर खिला देना।
    मेरे पास पच्चीस पैसे का सिक्का तो नहीं था। इसलिए मैंने पांच पैसे के सिक्के पर रखकर पांच बार दे दी!
  • पठान की बहादुरी! एक बार पठान अपनी बेगम के साथ मेला देखने गया।
    मेले में हवाई जहाज की सैर...
  • बगुले की टांग! एक बार एक शिकारी अपने नौकर के साथ शिकार पर गया।
    वहाँ उन्होंने पानी में एक जंगली बगुला...
  • संता की परेशानी! एक दिन संता थका हारा डॉक्टर के पास आता है और डॉक्टर से कहता है,
    "डॉक्टर साहब मेरे पड़ोस...
  • हाज़िर जवाब पति! रात भर पति पत्नी लड़ते लड़ते सो गये। दूसरे दिन सुबह हुई तो पति उठा और लेटी हुई पत्नी के लिए गरमा-गरम दूध लेकर हाजिर हुआ...
  • शराब के 5 फायदे! शराब व्यक्ति की नैसर्गिक प्रतिभा को बहार निकलता है| जैसे कोई अच्छा डांसर है लेकिन अपनी शर्म की वजह से लोगो के सामने नहीं नाच पाता...