•  

    एक बार पठान बार में गया। वहां जाकर उसने बार में मौजूद सभी लोगों, जिनमें बार मालिक भी शामिल था, के लिए अपनी तरफ से एक-एक पैग व्हिस्की का ऑर्डर दिया।

    "आज सभी लोग मेरी तरफ से पियो।" पठान ने झूमते हुए घोषणा की।

    आधे घण्टे बाद पठान ने फिर से सभी लोगों के लिए एक-एक पैग व्हिस्की का ऑर्डर दिया। बार मालिक को भी एक पैग और मिला।

    फिर तो हर आधे घण्टे बाद यही क्रम चलने लगा। पांचवें पैग के बाद बार मालिक को चिंता होने लगी। उसने पठान को एक तरफ बुलाकर कहा, "भाईसाहब, आपका अभी तक का बिल तीन हजार पांच सौ रुपये हो गया है।"

    "बिल, कैसा बिल? मेरे पास तो फूटी कौड़ी भी नहीं है।" पठान ने जेबें उल्टी करके दिखाते हुए कहा।

    अब तो बार मालिक का पारा सातवें आसमान पर चढ़ गया। उसने लात घूंसों से पठान की जमकर पिटाई की और आखिर में बार के कर्मचारियों से कहकर पठान को बाहर फिंकवा दिया।

    अगले दिन शाम को बार अभी खुला ही था कि पठान अंदर आया और बोला, "एक पैग व्हिस्की मेरे लिए और एक-एक यहां मौजूद सभी लोगों के लिए मेरी तरफ से।"

    फिर बार मालिक की तरफ उंगली करके बोला, "सिर्फ तुमको छोड़कर। तुम चार पैग के बाद बहक जाते हो।"
  • पत्नी का गुस्सा! एक दंपत्ति की शादी को साठ वर्ष हो चुके थे। उनकी आपसी समझ इतनी अच्छी थी कि इन साठ वर्षों में उनमें कभी झगड़ा तक नहीं हुआ। वे एक दूजे से कभी कुछ भी नहीं छिपाते थे। हां, पत्नी के पास उसके मायके से लाया हुआ एक डिब्बा था जो उसने अपने पति के सामने कभी नहीं...
  • पठान की नाराज़गी! एक बार पठान की बीवी मायके गयी हुई थी। पठान उसे लेने अपने ससुराल गया। जब बीवी को लेकर पठान ससुराल से वापस आने लगा तो उसकी सास ने उसके हाथ में 20 रुपये दे दिए।
    दोनों वापस घर आ गए। घर आने पर पठान कई दिनों तक अपनी...
  • संसार का सबसे बड़ा दुःख! एक बार एक साधु भगवान से प्रार्थना कर रहा था, "हे भगवान, यह संसार कितना दुखी है, कितने कष्ट हैं इसे, तुम मुझे इस संसार के सारे कष्ट दे दो। तुम चाहे मुझे दुखी कर दो...
  • हर तरफ युवतियां! अगर बारिश हो तो
    बारिश में नहाती युवतियां;
    अगर गर्मी हो तो
    धूप में तपती युवतियां...
  • अहमियत बीवी की! सुबह उठ कर पत्नी को पुकारते हैं, सुनो चाय लाओ।
    थोड़ी देर बाद फिर आवाज़, सुनो नाश्ता...