•  

    रविवार के दिन पति देव थोड़ी देरी से उठे और उठते ही बोले, "आज तो बड़ी गर्मी है, ठन्डे-ठन्डे पानी से नहाया जाये"... (सीटी बजाते हुए बाथरूम में घुस गए)

    नहाने के बाद पति: अरे सुनो ज़रा तौलिया देना।

    पत्नी (चिल्लाते हुए): तुम्हारा हमेशा का ही यह काम है, बिना तौलिये के नहाने जाते हो। अब मैं नाश्ता बनाऊँ या तुम्हें तौलिया दूँ। चड्डी बनियान भी धो के नल पे टांग देते हो उसे भी मुझे ही उठाना पड़ता है। आज तक नहाने के बाद कभी वाइपर भी नहीं लगाया। फिर दूसरे चड्डी बनियान के लिए भी मुझे बुलाओगे।

    कल तो बाल्टी भी खली छोड़ दी थी तुमने। फिर जब बाहर निकलोगे तो पूरे घर में गीले पैरों के निशान बना दोगे। फिर उस पर मिटटी पड़ेगी तो सब जगह गन्दी हो जाएगी। एक बार नौकरानी उसपे फिसल गयी थी फिर 3 दिन तक नहीं आई थी। पता है मेरा क्या हाल हुआ था काम कर कर के।

    पति (मन में सोचते हुए ): साला नहा कर गलती कर दी।
  • जरूरी निवेदन! सेवा में,
    मुख्य अध्यापक जी,
    श्रीमान जी,
    बात नयुं ए कि इब श्कूल मा जी...
  • सच्चा प्यार! एक बार तीन दोस्त थे। तीनो को एक ही लड़की पसंद आ गयी तो तीनो ने फैंसला किया कि वे तीनो एक साथ लड़की को प्रोपोज़ करेंगे और लड़की का फैंसला आखिरी फैंसला होगा।
    तीनों दोस्त लड़की के पास पहुंचे...
  • पप्पू की होशियारी! टीचर: नेपोलियन की मृत्यु किस लड़ाई में हुई?
    पप्पू: उसकी आखिरी लड़ाई में।
    टीचर: स्वतंत्रता की...
  • हाज़िर जवाब पप्पू! एक बार एक अध्यापक कक्षा में बच्चों को रक्त प्रवाह (ब्लड प्रेशर) के बारे में पढ़ा रहा था।
    अध्यापक: बच्चों जैसा...
  • कुदरत का करिश्मा कुदरत ने औरत को हसींन बनाया।
    खूबसूरती दी।
    चाँद सा चेहरा दिया।
    हिरणी सी आँखें...