•  

    पठान अपनी बेगम को हॉस्पिटल में दाखिल करवाने गया तो वहां उसे उसका सिंधी दोस्त मिल गया।

    सिंधी: अरे तुम यहाँ क्या कर रहे हो?

    पठान: वो मैं तुम्हारी भाभी को यहाँ दाखिल करवाने लाया हूँ।

    सिंधी: क्यों क्या हुआ भाभी को?

    पठान: ओए क्या बताऊँ यार, बाथरूम में नहा रही थी और अचानक चक्कर खा कर गिर गयी। सिर ज़मीन से जा टकराया, खून ही खून बस यार।

    सिंधी: ओह यार यह तो बहुत बुरा हुआ। अब कैसी हैं?

    पठान: अब तो ठीक है। डॉक्टर ने कहा कि अगर और थोडी देर हो जाती तो कोमा में जा सकती थी।

    सिंधी: फिर भाभी ने आवाज लगाई कैसे?

    पठान: ओ पागल, आवाज कहाँ से लगाती, बेहोश पडी थी वो।

    सिंधी: फिर तुम्हें कैसे पता चला?

    पठान: अरे वो तो अच्छा हुआ सामने वाले मकान से खान उसको नहाते हुए देख रहा था। उसी ने आकर हमको बताया वरना ना जाने क्या हो जाता? खुदा भला करे उस खान का, वरना आज-कल तू बता यार अच्छा पडोसी कहाँ मिलता है?
  • मांग का महत्त्व! क्या आपने कभी सोचा है कि औरतें मांग क्यूं भरती हैं?
    .
    .
    .
    .
    .
  • कबीर के आधुनिक दोहे! यदि कबीर जिन्दा होते तो आजकल के दोहे यह होते:
    नयी सदी से मिल रही, दर्द भरी सौगात;
    बेटा कहता बाप से...
  • कार एक्सिडेंट! एक आदमी की गाड़ी का एक्सिडेंट एक महिला की कार से टकराकर हो जाता है, पर एक्सिडेंट के बाद दोनों सुरक्षित बच जाते है!
    जब दोनों गाड़ी से बाहर...
  • देरी के लिए खेद! पठान अपने बेटे के लिए एक खिलौना रेलगाड़ी खरीद कर लाया।
    खिलौना देने के कुछ देर बाद जब वह बेटे के कमरे में गया तो देखा कि बच्चा रेलगाड़ी से खेल रहा है और कह रहा है कि...
  • राज़ की बात! भारतीय लड़कियां खेलों में अच्छी क्यों नहीं हैं?
    क्योंकि, सिर्फ 10% क्रिकेट, हॉकी, टेनिस, बैडमिंटन, शतरंज आदि खेलती हैं बाकि कि 90% तो "जानू" से खेलने में व्यस्त रहती हैं...