•  

    एक कवित्री की सुहागरात के बाद उसकी सहेली ने जब पूछा कि कैसी रही उसकी सुहागरात तो कवित्री ने अपने अंदाज़ में कुछ यूँ दिया जवाब:

    आये थे वो ज़रा देर से, दिल जला दिया;
    पहले किया उन्होंने दरवाज़ा बंद और फिर दीपक बुझा दिया;
    पहले दबाई चूचियाँ उन्होंने टटोलकर,
    फिर खेलने लगे मेरी चूत से चड्डी खोल कर;
    एक जंग ऐसी छिड़ी पलंग पर,
    फिर तैयार कर गोले वाली तोप अपनी दाग दी उन्होंने मेरी सुरंग पर;
    करते रहे हमला लगातार वो, आने लगा मुझे भी अजीब सा मज़ा;
    इसी मज़े में छाया कुछ ऐसा नशा कि भूल गयी मैं इसके बाद की सजा;
    कुछ यूँ गुज़री सुहागरात मेरी कि पूरी हो गयी मेरे मन की हर एक रज़ा।
  • फंस गया बेचारा! मगनलाल ने एक कॉल सेंटर में काम करने वाली लड़की रूबी से शादी कर ली। सुहागरात को मगनलाल अपना लौड़ा टाइट कर के आया...
  • लंड पे निबन्ध: 1. प्रस्तावना: लंड ये एक ऐसी चीज है जो धरती पर पाए जाने वाले प्रत्येक मर्द के पास पाया जाता है। इसका जन्म मानव शारीर के साथ ही हो जाता...
  • सेक्स वाला बंदर! एक औरत एक दुकान में एक बोर्ड पढती है जिस पर लिखा था - "सेक्स करने वाला बन्दर "
    औरत दुकानदार से कहती है उसे एक चाहिए...
  • पुरुष का 'लिंग'! सबसे पवित्र चीज है पुरुष का `लिंग`
    ये बहूत विनम्र है, हमेशा झुका रहता है
    ये दयालु है...
  • कवियित्री की सुहागरात! उस रात की बात न पूछ सखी जब साजन ने खोली अँगिया
    स्नानगृह में नहाने को जैसे ही मैं निर्वस्त्र हुई,
    मेरे कानों को लगा सखी, दरवाज़े पर है खड़ा कोई,
    धक्-धक् करते...
ADVERTISEMENT
ADVERTISEMENT