•  

    कुदरत ने औरतों को हसीन बनाया;
    खूबसूरती दी;
    चाँद सा चेहरा दिया;
    हिरनी सी आँखे;
    मोरनी सी चाल;
    रेशम जैसे बाल!
    कोयल जैसे मीठी आव़ाज!
    फूलों सी मासुमियत दी;
    गुलाब से होंठ;
    शहद सी मिठास दी;
    प्यार भरा दिल दिया;
    फिर जुबान दी;
    और फिर इन सबका सत्यानाश हो गया।
    जब भी इन्होंने अपना मुंह खोला, बस हर वक़्त टे टे टे टे टे टे टे टे टे...
  • थप्पड़ और निंदा! संता ने बंता को थप्पड़ मार दिया। बंता ने तुरंत कड़े शब्दों में इसकी निंदा कर दी।
    संता ने बंता को फिर थप्पड़ मारा। बंता ने और कड़े शब्दों में इसकी निंदा कर दी।
    संता ने बंता को फिर से थप्पड़ मारा...
  • यह कैसी फितरत? एक आदमी एक गाड़ी के ऐक्सिडेंट का चश्मदीद गवाह था। उसे अदालत बुलाया गया। वकील और गवाह के बीच सवाल-जवाब का सिलसिला शुरू हुआ। वकीलः क्या तुमने सच में ऐक्सिडेंट देखा?
    गवाहः जी हां।
  • यह कैसी गोली है? एक आदमी नाई की दुकान पर दाढ़ी बनवाने गया। जब नाई उसके चेहरे पर ब्रश से बढ़िया क्रीम से उतना ही बढ़िया झाग बना रहा था तो उस आदमी ने अपने चेहरे के पिचके गालों की ओर इशारा करते हुए बोला, "मेरे गालों के इस गड्ढे के कारण दाढ़ी बढ़िया...
  • उल्टा-पुल्टा! एक बार एक आदमी के घोड़े को कब्ज़ हो गयी तो वह जानवरों के डॉक्टर के पास गया बोला, "डॉक्टर साहब मेरे घोड़े को बहुत ही बुरी तरह से कब्ज़ हो गयी है, जिस वजह से वह ठीक तरह से शौच भी नहीं जा पा रहा है।"
    आदमी की बात सुन कर डॉक्टर ने...
  • कुछ आधुनिक कबीर दोहे! नयी सदी से मिल रही, दर्द भरी सौगात;
    बेटा कहता बाप से, तेरी क्या औकात;

    पानी आँखों का मरा, मरी शर्म औ लाज;
    कहे बहू अब सास से, घर में मेरा राज;

    भाई भी करता नहीं, भाई पर विश्वास...