•  

    एक बार एक आश्रम में एक गुरु अपने शिष्यों को धनुष बाण चलाना सिखा रहा होता है, जिसमे से एक शिष्य निशाना लगता है परन्तु उसका निशाना चूक जाता है।

    शिष्य: साला निशाना चूक गया।

    गुरू: आश्रम मैं अपशब्द बोलना मना है अब मत बोलना।

    शिष्य दोबारा निशाना लगता है और उसका निशाना फिर से चूक जाता है।

    शिष्य: साला निशाना चूक गया।

    गुरु: मैंने तुम्हे मना किया था फिर भी तुमने अपशब्द बोला, अब यदि तुमने फिर से यह अपशब्द बोला तो एक आकाशवाणी होगी और आकाश से एक बाण निकलेगा जो तुम्हारी आँख फोड़ देगा।

    शिष्य तीसरी बार निशाना लगता है और तीसरी बार फिर उसका निशाना चूक जाता है।

    शिष्य: साला फिर निशाना चूक गया।

    तभी अचानक बिजली कडकती है और आकाश से एक बाण निकल कर गुरु की आँख मैं जाता है और साथ ही आकाशवाणी होती है;

    आकाशवाणी: साला निशाना चूक गया।
  • नींद ना आने का इलाज़! एक दिन संता थका हारा डॉक्टर के पास आता है और डॉक्टर से कहता है डॉक्टर साहब मेरे पड़ोस में बहुत सारे कुत्ते है जो रात दिन भौंकते रहते है...
  • एक परेशान आदमी की दास्तान! एक आदमी ड्राइविंग लाइसेंस हासिल करने की कोशिश में था तो ड्राइविंग लाइसेंस के लिए चौथी बार ड्राइविंग टेस्ट दिया...
  • हिसाब बराबर! एक बार एक मरता हुआ पति अपनी पत्नी से अपराध स्वीकारोक्ति करते हुए बोला।
    पति: प्रिये, दो साल पहले अलमारी से तुम्हारा गोल्ड...
  • क्या खाओगे? पत्नी:खाने में क्या बनाऊँ?
    पति: कुछ भी बना लो क्या बनाओगी?
    पत्नी: जो आप कहो...
  • अनोखा दौर! चाणक्य से जब ये प्रश्न पूछा गया कि - आप भी तो योग्य हैं, फिर चंद्रगुप्त को राजा क्यों बनाना चाहते हैं?...