•  

    भारत में प्रथम श्रेणी में पास होने वाले विद्यार्थी टेक्नीकल में प्रवेश लेते हैं और वह डॉक्टर या इंजिनियर बनते है।

    द्वितीय श्रेणी में पास होने वाले MBA में एडमिशन लेते हैं और व्यवस्थापक/प्रबंधक बनते है तथा प्रथम श्रेणी वालों को हैंडल करते हैं।

    तृतीय श्रेणी में पास होने वाले कहीं पर भी प्रवेश नहीं लेते हैं। वह राजनीती में जाते है और प्रथम एवं द्वितीय श्रेणी वालो को हैंडल करते हैं।

    फेल होने वाले भी कहीं पर भी प्रवेश नहीं लेते हैं और वह अंडरवर्ल्ड में जा कर तीनों पर कंट्रोल करते है।

    और जो कभी स्कूल में गए ही नहीं वह बाबा-साधू बनते हैं और उपर लिखे चारों उनके पैर पढ़ते है।
  • अजब मसला! रात का समय था, सुनसान सड़क पर शर्मा जी अकेले चले आ रहे थे।
    अचानक सामने से दो व्यक्ति शर्मा जी के आगे आ गए...
  • वही ज़माना! एक आदमी ने हॉस्टल में रहने वाले लड़के के कमरे का दरवाज़ा खटखटाया। थोड़ी देर बाद लड़के ने दरवाजा खोला...
  • टूट गया भरोसा! एक बार एक आदमी बड़ी आराम से अपनी गाड़ी में जा रहा था कि अचानक सामने से आ रही एक महिला की गाड़ी आ कर उसकी गाड़ी...
  • बिका हुआ माल वापस नहीं होगा! बीवी शौहर से लड़ रही थी। शौहर ने तंग आकर अपनी सास को मैसेज किया,
    "आप की प्रॉडक्ट मेरे मुताबिक...
  • एक मर्द का दर्द! पिछले हफ्ते मेरी दाढ़ में दर्द हुआ और मैं जिंदगी में पहली बार दाँतों के डॉक्टर के पास गया। रिसेप्शन में बैठे-बैठे मेरी नजर वहाँ दीवार पर लगी डॉक्टर...