•  

    एक प्रसिद्द हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर की मृत्यु हो गयी और सभी सम्बन्धी व मित्र उसकी अंतिम क्रिया के लिए समय से पहुँच गये!

    नियमित रूप से एक ताबूत लाया गया जिसके सामने एक बहुत बड़ा हृदय (दिल) बनाया गया था!

    जब पादरी ने धर्मोपदेश समाप्त किये तो सभी ने अपने-अपने तरीकों से उसे अलविदा कहा!

    सामने से हृदय वाला हिस्सा खोला गया और ताबूत धीरे-धीरे नीचे की और जाने लगा और जब ताबूत बिल्कुल नीचे पहुँच गया तो हृदय वाला हिस्सा फिर से बंद हो गया!

    जैसे ही हृदय वाला हिस्सा बंद हुआ एक शोक सभा में आया आदमी जोर से हँसने लगा!

    उसके साथ खड़े आदमी ने उससे पूछा अरे भाई किसलिए हंस रहे हो?

    उस आदमी ने कहा मैं अपने अंतिम संस्कार के बारे में सोचकर हँस रहा हूँ!

    पहले वाले आदमी ने पूछा उसमें हँसने वाली क्या बात है?

    उस आदमी ने कहा मैं एक स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर हूँ!
  • एक दौर वो भी था... धूप में लेंस लेकर कागज़ जलाने वाला नासा का वैज्ञानिक माना जाता था।
    जिस लड़के को माउथ ऑर्गन बजाना आता था वो रॉकस्टार माना जाता था।...
  • राज की बात! लक्ष्मी जी नाराज हो गयी - और चली गयी स्विट्जरलैंड के बैंक में।
    सरस्वती माता नाराज होकर चली गयी जापान...
  • एक भयानक सत्य कथा! भारत में प्रथम श्रेणी में पास होने वाले विद्यार्थी टेक्नीकल में प्रवेश लेते हैं और वह डॉक्टर या इंजिनियर बनते है...
  • पक्की सरकार! देश में चाहे किसी की भी सरकार चले पर एक मुख्य सरकार है जो कभी नहीं बदलेगी और वो है...
    .
    .
    .
    .
    .
  • अजब मसला! रात का समय था, सुनसान सड़क पर शर्मा जी अकेले चले आ रहे थे।
    अचानक सामने से दो व्यक्ति शर्मा जी के आगे आ गए...