•  

    नेता: हाँ। अब सही समय आ गया है।

    जनता: क्या आप देश को लूट खाओगे?

    नेता: बिल्कुल नहीं।

    जनता: हमारे लिए काम करोगे?

    नेता: हाँ। बहुत।

    जनता: मंहगाई बढ़ाओगे?

    नेता: इसके बारे में तो सोचो भी मत।

    जनता: आप हमे जॉब दिलाने में मदद करोगे?

    नेता: हाँ। बिल्कुल करेंगे।

    जनता: क्या आप देश मे घोटाला करोगे?

    नेता: पागल हो गए हो क्या बिलकुल नहीं।

    जनता: क्या हम आप पर भरोसा कर सकते हैं?

    नेता: हाँ।

    जनता: नेता जी...

    चुनाव जीत कर नेता जी वापस आये।

    अब आप नीचे से ऊपर पढ़ो।
  • डेढ होशियारी! एक पैसेंजर ट्रेन इंदौर से भीलवाडा की तरफ रवाना होनी थी। रात दस बजे सभी डिब्बे खचाखच भर गए. हमारे एडमिन जी भी चढ़ तो गए...
  • मरने की चाहत! बुजुर्ग पति-पत्नी एक साथ गुज़र गए। जब ऊपर पहुँचे तो चित्रगुप्त ने बहीखाता देख कर एक दूत से कहा, "इन्हें स्वर्ग में ले जाओ।"...
  • यह कैसा दहेज़? एक बार एक अमीर आदमी एक लड़की के प्यार में पड़ गया और हर हालत में उससे शादी करना चाहता था।
    एक दिन...
  • मनोविज्ञान का प्रयोग! एक बार एक शिक्षक कक्षा में बच्चों को मनोविज्ञान का प्रयोग करके दिखा रहा होता है! प्रयोग की शुरुआत मैं वह एक चूहा लेता है...
  • पत्नी का प्यार! पत्नी जब मायके जाती है और फिर जब पति कि याद आती है तो कैसे रोमांटिक sms भेजती है देखिये।
    "मेरी मोहब्ब्त को...