•  

    एक बार एक पजामा पहने हुए हिन्दुस्तानी से एक अंग्रेज ने पूछा, "आप का यह देशी पैंट (पजामा) कितने दिन चल जाता है?

    हिन्दुस्तानी ने जवाब दिया, "कुछ ख़ास नहीं, मै इसे एक साल पहनता हूँ। उसके बाद श्रीमति जी इसको काट कर राजू के साइज़ का बना देती है। फिर राजू इसे एक साल पहनता है। उसके बाद श्रीमति जी इसको काट छांट कर तकियों के कवर बना लेती है। फिर एक साल बाद उन कवर का झाडू पोछे में इस्तेमाल करते हैं।"

    अंग्रेज बोला, "फिर फेंक देते होंगे?"

    हिन्दुस्तानी ने फिर कहा, "नहीं-नहीं इसके बाद 6 महीने तक मै इस से अपने जूते साफ़ करता हूँ और अगले 6 महीने तक बाइक का साइलेंसर चमकाता हूँ। बाद में मारदडी की हाथ से बनायीं जाने वाली गेंद में काम लेते हैं और अंत में कोयले की सिगडी (चूल्हा) सुलगाने के काम में लेते हैं और सिगड़ी (चुल्हे) की राख बर्तन मांजने के काम में लेते हैं।"

    इतना सुनते ही अंग्रेज रफू चक्कर हो गया।

    किसी भी चीज का सम्पूर्ण इस्तेमाल कोई हम हिन्दुस्तानियों से सीखे। हमें हिंदुस्तानी होने पर गर्व है।
  • ख़ुशी की कविता या कुछ और? मन था उदास... बड़ी हसरतों से निगाहें दरवाजे पर थीं... सहसा कुछ खटका सा हुआ।
    उल्लसित मन से मैं दरवाजे की ओर बढ़ी कि लेकिन यह क्या।
    वह मन का भ्रम था...
  • मूर्ख बच्चा! एक लड़का एक नाई की दुकान में गया और, नाई ने अपने ग्राहक से फुसफुसाते हुए कहा,"ये दुनिया का सबसे मूर्ख बच्चा है तुम देखो मैं अभी...
  • सही खेल गया! एक बार बैंक मैनेजर अपने बीवी बच्चों के साथ होटल में गये।
    बैंक मैनेजर: खाने में क्या क्या है?
    वेटर: जी मलाई कोफ्ता...
  • कबीर के आधुनिक दोहे! यदि कबीर जिन्दा होते तो आजकल के दोहे यह होते:
    नयी सदी से मिल रही, दर्द भरी सौगात;
    बेटा कहता बाप से...
  • तुम्हें कैसे अंडे पसंद है? संता और जीतो की शादी हो गयी, संता ने सोचा ये एक नए ज़माने की शादी है इसलिए दोनों की जिम्मेवारियां बराबर होनी चाहिए...