•  

    चूतिये = फ्री में बैलेंस, मोबाइल, pendrive, T-shirt, झुनझुना आदि के लिए मैसेज भेजते रहते हैं, जो इन्हें कभी नहीं मिलते।

    महा चूतिये =ये 2-2 साल पुराने मैसेज को मार्किट में नया है कहकर फारवर्ड करते रहते हैं। जैसे फलां जगह बच्ची मिली है इसे घर वालों तक पहुंचाओ। इनमें तारीख़ नहीं होती। तारीख़ होती तो पोल खुल जाती।

    अखंड चूतिये = ऐसे एक्सीडेंट की खबरे भेजते हैं, जो 2 साल पहले हुआ था। इनमें भी तारीख़ कभी नहीं होती।

    विश्व प्रसिद्ध चूतिये =व्यर्थ की साईं इमेज, फूल, पत्ती या 1121 ॐ लिखकर कसम देकर लोगों को फारवर्ड करके अपनी बला ग्रुप के मेम्बरों पर चिपकाते हैं। ( क्या मिलता है भाई???)

    ब्रम्हांड प्रसिद्ध चूतिये ="पुजारी मंदिर में पूजा कर रहा था फिर एक सांप/बन्दर आया और उसने इंसान का रूप ले लिया" इसे आगे भेजो लाटरी निकल जायेगी। (अरे मूर्ख तेरी ही नहीं निकली तो दूसरे की क्या खाक निकलेगी?)

    चूतियों के बादशाह =अभी अभी पैदा हुए बच्चे के गले में आलपिन फंस गई, 50 लाख लगेंगे बच्चे के गले में आलपिन कौन डालेगा ? कौनसे ऑपरेशन में 50 लाख लगते हैं भाई ? ऊपर से बोलेंगे कि प्रति शेयर 50 पैसा व्हाट्सऐप की तरफ से मिलेगा। जबकि सच्चाई ये है की व्हाट्सएप्प को 19 बिलियन डॉलर में खरीदने वाले मार्क जकरबर्ग को इससे अभी 25 पैसे नही मिलते।

    सबसे बड़ी बेवकूफी तो तब होती है जब कोई कहता है कि- "मैसेज आगे भेजो आपकी बैटरी फुल चार्ज हो जायगी"/ घोडा दौड़ने लगेगा, भैंस का रंग बदल जायेगा या ताला खुल जायेगा। (भाई physics नाम की भी कोई चीज़ होती है।)

    चुतियापा का कोर्स करने वाले = किसी आदमी के डॉक्यूमेंट, डिग्रियाँ गिर गए हैं, ये मैसेज उस तक पहुचाने में मदद करें. (अरे मंदबुद्धि डॉक्यूमेंट आधार कार्ड,परिचय पत्र आदि में उसका पता नहीं है क्या?)

    यदि इनमें से कोई भी लक्षण आप में हैं, तो आप भी Whatsapp पर अपने चुतियापे का परिचय दे रहे हैं।

    अनावश्यक पोस्ट डालकर मोबाइल को कूड़ाघर नहीं बनायें। कोई भी msg पोस्ट करने से पहले सोच लें कि आप क्या पोस्ट कर रहे हैं। थोड़ा अपना दिमाग लगाएँ।

    अगर आपको भी बेकार के मैसेज से बचना है तो इसे अन्य ग्रुप में भेजो ताकि चूतिये उन्हें पढ़ लें। आपको फालतू के msg आना बंद हो जायेंगे। और ऐसे पागलो से पीछा छूट जायेगा
  • आज की नारी! एक बार एक पति और पत्नी में लड़ाई हो जाती है, तो पति परेशान हो कर बाजार जाता है और आत्महत्या करने के इरादे से एक बोतल जहर ले कर आ जाता है...
  • बुरा मान गयी! हम ने जुर्रत जो दिखाई तो बुरा मान गयी;
    हद हर एक मिटाई तो बुरा मान गयी;
    खुद ही कहती थी कोई तालुक ना रखो;
    कोई दूसरी फंसाई...
  • खुद का जुगाड़! एक बार एक मरीज़ बड़ी दुखी सी हालत में डॉक्टर के पास आया।

    मरीज: डॉक्टर साहब, मेरा खड़ा नहीं होता...
  • लुकाछिपी बंद! पप्पू जब संता के साथ पिकनिक मना कर वापिस आया तो जीतो ने उसे पूछा: आज तो तुम्हें बहुत मज़ा आया होगा अपने पापा के साथ पिकनिक मना कर...
  • देश की राजनीति! बेटा: पापा पॉलिटिक्स क्या है?
    बाप: तेरी माँ घर चलाती है उसे सरकार मान लो, मैं कमाता हूँ मुझे कर्मचारी मान लो, कामवाली काम करती है उसे मजदूर मान...