•  

    घने जंगल से गुजरती हुई सड़क के किनारे एक ज्ञानी गुरु अपने चेले के साथ एक बोर्ड लगाकर बैठे हुए थे, जिस पर लिखा था,

    "ठहरिये... आपका अंत निकट है। इससे पहले कि बहुत देर हो जाये, रुकिए! हम आपका जीवन बचा सकते हैं।"

    एक कार फर्राटा भरते हुए वहाँ से गुजरी। चेले ने ड्राईवर को बोर्ड पढ़ने के लिए इशारा किया। ड्राईवर ने बोर्ड की तरफ देखा और भद्दी सी गाली दी और चेले से यह कहता हुआ निकल गया, "तुम लोग इस बियाबान जंगल में भी धंधा कर रहे हो, शर्म आनी चाहिए।"

    चेले ने असहाय नज़रों से गुरूजी की ओर देखा।

    गुरूजी बोले, "जैसे प्रभु की इच्छा।"

    कुछ ही पल बाद कार के ब्रेकों के चीखने की आवाज आई और एक जोरदार धमाका हुआ।

    कुछ देर बाद एक मिनी-ट्रक निकला। उसका ड्राईवर भी चेले को दुत्कारते हुए बिना रुके आगे चला गया।

    कुछ ही पल बाद फिर ब्रेकों के चीखने की आवाज़ और फिर धड़ाम।

    गुरूजी फिर बोले, "जैसी प्रभु की इच्छा।"

    अब चेले से रहा नहीं गया और वह बोला, "गुरूजी, प्रभु की इच्छा तो ठीक है पर कैसा रहे यदि हम इस बोर्ड पर सीधे-सीधे लिख दें कि 'आगे पुलिया टूटी हुई है'।"
  • बेचारी मैडम! पहली क्लास का बच्चा मैडम से,"मैं आपको कैसा लगता हूँ?"
    मैडम: बहुत ही प्यारे।
    बच्चा: तो फिर मैं...
  • पत्नी और घड़ी के बीच का संबंध! समानताएं:
    1. घड़ी चौबीस घंटे टिक-टिक करती रहती है, और पत्नी चौबीस घंटे किट-किट करती रहती है।
    2. घड़ी की सूइयाँ घूम-फिर कर वहीं आ जाती हैं। उसी प्रकार पत्नी को आप कितना भी समझा लो, वो घूम...
  • होनहार विद्यार्थी! शिक्षक: इंडिया गेट क्या है?
    पप्पू: इंडिया गेट बासमती राइस है सर!
    शिक्षक: चारमीनार क्या हैं?
    पप्पू: चारमीनार...
  • चालाकी पड़ गयी भारी! एक डॉक्टर ने नया-नया क्लिनिक खोला तो बाहर बोर्ड टाँग दिया, जिसपे लिखा था, "किसी भी बीमारी का इलाज़ मात्र 300/- रुपये में और अगर हम आपका इलाज़ नहीं कर पाये तो हम आपको 1000/- रुपये देंगे।"...
  • किस्मत का धनी! एक महिला के 3 दामाद थे।
    उसके दामाद उसे चाहते भी हैं या नहीं यह जानने के लिए एक दिन वह पहले दामाद को लेकर तालाब के किनारे घूमने गई और उसमें कूद पड़ी।
    पहले दामाद...