•  

    एक औरत अपने बच्चे के लिए रो रही थी।

    एक इंजीनियर ने औरत से रोने की वजह पूछी।

    औरत ने कहा, "मेरा बच्चा बीमार है और मेरे पास दवा के लिए पैसा नहीं है।"
    इंजीनियर ने 500 का नोट दिया और कहा, "जाओ दवा ले लो और 100 का दूध भी ले लेना और बाकी के पैसे मुझे वापस दे देना।"

    औरत थोड़ी देर बाद दवा और दूध ले आई।

    बाकी के 200 रुपये इंजीनियर को वापस कर दिए।

    इंजीनियर खुश हुआ और सोचने लगा कि नेकी कभी बेकार नहीं जाती।

    बच्चे को दूध भी मिल गया, दवा भी मिल गई

    और

    मेरा नकली नोट भी चल गया।
  • गुरु, गुरु ही होता है! एक रात, चार कॉलेज विद्यार्थी देर तक मस्ती करते रहे और जब होश आया तो अगली सुबह होने वाली परीक्षा का भूत उनके सामने आकर खड़ा हो गया।
    परीक्षा से बचने के लिए...
  • धार्मिक आदमी! एक आदमी था जो एक नदी के किनारे एक छोटे से घर में रहता था वह बहुत ही धार्मिक प्रवृति का आदमी था, उसे भगवान पर बहुत विश्वास था!
    एक दिन उस नदी में बाढ़ आ गयी वह आदमी घर समेत बह गया...
  • दरियादिल कंजूस! एक बार एक औरत बच्चे को लिए रो रही थी।
    एक सिंधी उस से रोने की वजह पूछी तो औरत ने कहा, " मेरा बच्चा बीमार है और मेरे पास दवा के लिए पैसे नहीं हैं...
  • शक करना छोड़ दो! एक पत्नी रात को देरी से घर आयी जैसे ही अपने बेडरूम में पहुंची तो उसने देखा कि बेड पर कम्बल के नीचे दो के बजाय चार पैर हैं उसने...
  • पतियों के 500 बहाने! एक सेल्समैन घर-घर जाकर किताबें बेचने का काम करता था उसने एक घर की डोरबेल बजाई तो एक महिला ने दरवाजा खोला।
    सेल्समैन: मैडम मेरे पास एक किताब है...