•  

    एक बार एक बूढी महिला अपने घर के आँगन मैं बैठी स्वेटर बुन रही थी कि तभी अचानक एक आदमी उसकी आँख बचाते हुए उसकी कुर्सी के नीचे बम रख कर भाग गया।

    आदमी को इतनी जल्दी में भागते हुए देख, कुछ लोगों को शक हुआ तो उन्होंने आँगन में झाँक कर देखा तो उनकी नज़र बुढिया की कुर्सी के नीचे रखे बम पर पड़ी।

    यह देख कर उन लोगों ने बुढिया को आगाह करने के लिए घर के बाहर से ही चिल्लाना शुरू कर दिया "बुढिया बम है, बुढिया बम है।"

    यह शोर-गुल सुन कर बुढिया एक पल के लिए चौंकी और फिर शर्माते हुए बोली, " अरे अब वो बात कहाँ, बम तो मैं जवानी में होती थी।"
  • शराबी की व्यथा! एक बार एक शराबी रात के 12 बजे शराब की दुकान के मालिक को फ़ोन करता है और कहता है, "तेरी दुकान कब खुलेगी?"
    दुकानदार: सुबह 9 बजे।
    शराबी फिर थोड़ी देर बाद दोबारा...
  • कार नई है या बीवी? एक दिन संता और बंता पार्क के बाहर बैठे होते हैं, कि इतने में वहां पर एक कार आकर रूकती है जिसमे से एक आदमी उतरता है और साथ बैठी हुई अपनी पत्नी के लिए दरवाज़ा खोलता, उस आदमी को ऐसा करते हुए बंता, संता से कहता है...
  • शादी क्या है? 1. शादी एक खुली जेल है जिसके बंधन में आजीवन रहना होता है।
    2. शादी एक ऐसी साझेदारी है जिसमें पूँजी पति लगाता है, लाभ पत्नी पाती है।
    3. शादी एक ऐसी कहानी है जो झील...
  • ज्यादा समझदारी भी अच्छी नहीं! एक दिन पप्पू ढेर सारी चॉकलेट खा रहा था।
    एक आदमी ने देखा तो उससे रहा नहीं गया और वह पप्पू को सलाह देने लगा।
    आदमी: बेटा इतनी...
  • फ़ालतू की बकवास! एक सिनेमा घर में कोई किशोर किशोरी लगभग आधा समय आपस में ही बातें करते रहे।
    उनके पास बैठे दर्शकों को यह बहुत बुरा लग रहा था। जब एक दर्शक...