•  

    एक बार एक कारखाने के मालिक की मशीन ने काम करना बंद कर दिया. कई दिनों की मेहनत के बाद भी मशीन ठीक नहीं हो पायी. मालिक को रोज लाखों का नुकसान हो रहा था।

    तभी वहाँ एक कारीगर पहुँचा और उसने दावा किया की वो मशीन को ठीक कर सकता है।

    मालिक फौरन ही उसे कार्यशाला में ले गया।

    मशीन ठीक करने से पहले कारीगर ने मालिक से कहा कि वो मशीन तो ठीक कर देगा लेकिन मेहनताना अपनी मर्जी से तय करेगा।

    मालिक का तो रोज लाखों का नुकसान रोज हो रहा था इसलिये वो मान गया।

    कारीगर ने पूरी मशीन का मुआयाना किया और एक पेच को कस दिया।

    मशीन को चालू किया गया. मशीन ने कार्य करना शुरू कर दिया था।

    मालिक बहुत खुश हु़आ।

    कारीगर ने दस हजार रूपया मेहनताना मांगा।

    मालिक को बहुत आश्चर्य हुआ।

    केवल एक पेच कसने के दस हजार रूपय! लेकिन उसने अपना वादा निभाया और दस हजार रूपए कारीगर को देते हुये पूछा कि एक पेच कसने के दस हजार रूपय कुछ ज्यादा नहीं हैं?

    कारीगर ने तुरंत जवाब दिया, "साहब पेच कसने का तो केवल मैंने एक रूपया लिया है, बाकि 9999 रूपय तो कौन सा पेच कसना है यह पता करने के लिये हैं।"
  • ऊपर वाले का संकेत! एक आदमी और एक औरत दोनों की कारों का आपस में ज़बरदस्त एक्सीडेंट हो जाता है। किस्मत से दोनों अपनी कारों से सही सलामत बाहर निकलते हैं।
    महिला कारों की तरफ हैरत से देखकर आदमी से बोलती है...
  • बादशाह का प्यार! एक बार एक बादशाह को एक लड़की पसंद आ गयी। उस लड़की का बाप सुनार था, बादशाह ने सुनार को दरबार में आने के लिए बुलावा भेजा।
    चार दिन गुजरने के बाद भी सुनार बादशाह...
  • नहले पे दहला! एक करोड़पति मर गया और स्वर्ग का दरवाजा खटखटाने लगा।
    देव: कौन हो तुम?
    करोड़पति: मैं धरती पर करोड़पति था। मुझे...
  • तलाक का अनोखा कारण! बंता: प्रीतो और मैं तलाक ले रहे है।
    संता हैरान होते हुए, "क्यों क्या हुआ तुम दोनों तो बहुत अच्छे से रहते हो।"
    बंता: जब से हम लोगों ने शादी की है तब से प्रीतो मुझे...
  • धोखेबाज लिपिका जी डाक्टर साहब के क्लिनिक पर भागी भागी गईं, थोड़ी घबराई हुई थोड़ी सहमी हुई उनके चेहरे पर कुछ बुरा होने के आसार दिखाई दे रहे थे।
    डाक्टर साहब की उनपर...