• शराबी बुढिया!

    एक बार एक बुज़ुर्ग महिला शराब की दुकान में जाती है और वहां बैठे हुए एक शराबी को समझाते हुए कहती है;

    महिला: बेटा तुम्हे पता है शराब पीना बहुत ही बुरी बात है इस से तुम्हारी सेहत को कितना नुकसान हो सकता है!

    उस महिला की बात सुन कर वह शराबी कहता है;

    शराबी: माता जी बात तो आपकी सही है पर मैं क्या करूँ मैं तो अपनी परेशानियां भुलाने के लिए शराब पीता हूँ!

    शराबी की बात सुन कर महिला फिर उसे समझाते हुए कहती है;

    महिला : बेटा शराब पीने से परेशानी कैसे हल हो सकती है ज़रा मुझे भी समझाओ?

    शराबी: तो ठीक है आप भी ज़रा एक पेग लगा कर देखो और अगर उसके बाद भी आप मुझे शराब छोड़ने के लिए कहेंगी तो मैं शराब पीना हमेशा के लिए छोड़ दूंगा!

    शराबी की बात सुन महिला जवाब देती है;

    महिला: ठीक है बेटा पर मेरी एक शर्त है, की तुम मेरे लिए शराब स्टील के गिलास मैं लाना, क्योंकि मैं नहीं चाहती की किसी को पता चले की मैं तुम्हारे साथ शराब पी रही हूँ!

    शराबी उस महिला की बात मान जाता है और काउंटर पर जाकर वेटर से कहता है;

    शराबी: मुझे एक पेग व्हिस्की दो स्टील के गिलास में डाल कर!

    शराबी की बात सुन वेटर मुस्कुराता है और जवाब देता है;

    वेटर: अच्छा तो वह शराबी बुढिया आज फिर आ गयी !

  • दुकान खुलने का वक़्त!

    एक बार एक शराबी रात के 12 बजे शराब की दुकान के मालिक को फ़ोन करता है और कहता है;

    शराबी: तेरी दुकान कब खुलेगी?

    दुकानदार: सुबह 9 बजे!

    शराबी फिर थोड़ी देर बाद दोबारा दुकानदार को फ़ोन करके पूछता है;

    शराबी: तेरी दुकान कब खुलेगी?

    दुकानदार: कहा ना सुबह 9 बजे!

    कुछ देर बाद शराबी फिर से दुकानदार को फ़ोन कर देता है और पूछता है;

    शराबी: भाईसाहब आपकी दुकान कब खुलेगी?

    दुकानदार: अबे तुझे कितनी बार बताऊँ सुबह 9 बजे खुलेगी इसीलिए सुबह 9 बजे आना और जो भी चाहिए हो ले जाना!

    शराबी: अबे, मैं तेरी दुकान के अन्दर से ही बोल रहा हूँ!
  • तुम्हारा कोई दोष नहीं!

    एक शराबी की पीने की लत से तंग आकर उसकी पत्नी ने उसे तलाक दे दिया और बच्चों को लेकर मायके चली गई बॉस ने भी नौकरी से निकाल दिया!

    हैरान परेशान वह अपने घर में अकेला बैठा था कि तभी उसकी नज़र अलमारी में लगी शराब की बोतलों पर पड़ गई गुस्से में वह उठा और एक खाली बोतल उठाकर दीवार में दे मारी कमबख्त, तेरी वजह से मेरी बीवी मुझे छोड़कर चली गई!

    फिर उसने दूसरी बोतल उठाई और उसे भी तोड़ दिया हरामजादी, तेरी वजह से मेरे बच्चे मुझसे दूर हो गए!

    तीसरी बोतल का भी यही हश्र किया और चिल्लाया तेरी वजह से मेरी नौकरी चली गई!

    जैसे ही उसने चौथी बोतल उठाई, तो वह भरी हुई थी, उसे संभालकर दूसरी अलमारी में रखते हुए बोला मेरे दोस्त, तुम ज़रा एक तरफ हो जाओ, मुझे मालूम है इस सब में तुम्हारा कोई दोष नहीं है!
  • बड़ा कौन है!

    एक शराबी पूरा टून्न हो कर घर जा रहा था!

    रास्ते में मंदिर के बाहर पुजारी दिखा!

    शराबी ने पुजारी से पूछा सबसे बड़ा कौन?

    उस से पीछा छुड़ाने के लिए पूजारी ने कहा ये मंदिर बड़ा शराबी बोला मंदिर बड़ा तो धरती पर कैसे खड़ा!

    पुजारी: धरती बड़ी!

    शराबी: धरती बड़ी तो शेषनाग पर क्यों खड़ी?

    पुजारी: शेषनाग बड़ा!

    शराबी: शेषनाग बड़ा तो शिव के गले में क्यों पड़ा!

    पुजारी: शिव बड़ा!

    शराबी: शिव बड़ा तो पर्वत पर क्यों खड़ा?

    पुजारी: पर्वत बड़ा!

    शराबी: पर्वत बड़ा तो हनुमान की ऊँगली पर क्यों पड़ा?

    पुजारी: हनुमान बड़ा!

    शराबी: हनुमान बड़ा तो राम के चरणों में क्यों पड़ा?

    पूजारी: राम बड़ा!

    शराबी: राम बड़ा तो रावण के पीछे क्यों पड़ा?

    पूजारी: अरे मेरे बाप तू बता कौन बड़ा?

    शराबी: इस दुनिया में वो बड़ा जो पूरी बोतल पीकर भी अपनी टांगो पर खड़ा!