• दरियादिली!

    गाँव से एक मुसाफिर गुज़र रहा था उसने एक बच्चे को खेलते देखा और बोला, "बेटा क्या आप मुझे थोड़ा सा पानी पिला देंगे?"

    बच्चा: अगर लस्सी हो जाये तो।

    मुसाफिर: तब तो बहुत ही अच्छा होगा।

    बच्चा भाग कर गया और लस्सी ले आया। मुसाफिर ने 5 लोटे लस्सी पीने के बाद बच्चे से पूछा, "क्या तुम्हारे घर में कोई लस्सी नही पीता?"

    बच्चा: पीते तो सब हैं लेकिन आज लस्सी में चूहा गिर गया था और उसी में मर गया था।

    मुसाफिर ने गुस्से में लोटा ज़मीन पर दे मारा।

    बच्चा रोते हुए बोला, "मम्मी इन्होने लोटा तोड़ दिया। अब हम टॉयलेट क्या लेकर जायेंगे?"
  • औरत के कान!

    एक आदमी ने दुर्घटना में दोनों कान खो दिए, कोई भी प्लास्टिक सर्जन उसका समाधान नहीं कर पाया, उसने किसी से सुना कि स्वीडन में कोई सर्जन है जो इसे ठीक कर सकता है और वो उसके पास गया!

    नए सर्जन ने उस कि जांच की, थोड़ी देर सोचा और फिर कहा, मैं तुम्हें ठीक कर दूंगा!

    ओप्रशन के बाद पट्टियां खोली गयी, टांके भी खोल दिए गए और वो वापिस अपने होटल चला गया!

    अगली सुबह उसने बहुत गुस्से में सर्जन को फ़ोन किया और जोर से चिल्लाया कमीने तुमने मुझ में औरत का कान लगाया है!

    सर्जन ने कहा, तो क्या हुआ कान तो कान है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, औरत का हो या मर्द का!

    ऐसा नहीं है, आप गलत बोल रहे हैं, मैं सुन तो सब कुछ सकता हूँ, पर समझ में कुछ भी नहीं आ रहा है!
  • मोबाइल और लड़की!

    मोबाईल बना हैँ हर लड़की की शान,
    मिस कॉल करके लड़कों को करती हैँ परेशान;

    SMS मेँ लिखती Miss You मेरी जान,
    तुम्हारी आवाज़ सुनने को तरसे मेरे कान;

    4-5 Boyfriend बना कर कहती हैँ एक,
    तुम्हीं तो हो मेरी जान;

    अपने राज सहेलियोँ को बताकर करती हैँ हैरान,
    कहती हैँ लड़को को उल्लू बनाना है आसान;

    होश मेँ आओ मेरे भाई लो इनको पहचान,
    मत पड़ो इनके चक्कर मेँ लड़कियाँ होती हैं शैतान;

    लड़को के जनहित मेँ जारी, लड़कियाँ हैँ बड़ी अत्याचारी!
  • अजीब रहस्य!

    अंडरवियर बनाने वाली कंपनी जॉकी को एक बहुत बड़ी परेशानी हो गई।

    दिन में जितनी भी चड्डी बनाते थे दिन के अंत में गिनो तो कम ही हो जाती थी। सिक्योरिटी ने घर जाने के समय सबके बैग-सामान की तलाशी लेनी शुरू की।

    सभी कर्मचारियों के बैग इत्यादि चेक किये गये लेकिन सब कुछ ठीक ही होता था।

    अभी भी कोई पकड़ा नहीं गया लेकिन स्टॉक चोरी होना जारी रहा।

    अब सिक्योरिटी ज्यादा टाइट कर दी... सभी के अंडरवियर चेक किये जाने लगे।

    लेकिन प्रत्येक कर्मचारी एक ही अंडरवियर पहने हुए थे और कोई भी एक से अधिक जोड़ी के साथ नहीं पाया गया।

    फिर... एक दिन, सुरक्षा को सूचित किया गया कि वे सभी कर्मचारीयों को फेक्टरी में आने से पहले जांच करें।