• जन-धन खाता!

    एक ग्राहक बैंक में गया।

    ग्राहक: जन-धन में खाता खुलवाना है।

    बैंक मैनेजर: खुलवा लो।

    ग्राहक: क्या ये जीरो बैलेंस में खुलता है।

    बैंक मैनेजर (मन ही मन में साला पता है फिर भी पूछ रहा है): हाँ जी फ्री में खुलवा लो।

    ग्राहक: इसमें सरकार कितना पैसा डालेगी?

    बैंक मैनेजर: जी अभी तो कुछ पता नहीं।

    ग्राहक: तो मैं ये खाता क्यों खुलवाऊँ?

    बैंक मैनेजर: जी मत खुलवाओ।

    कस्टमर: फिर भी सरकार कुछ तो देगी।

    बैंक मैनेजर: आपको फ्री में ATM CARD दे देंगे।

    कस्टमर: जब उसमे पैसा ही नहीं होगा तो ATM का क्या करूँगा?

    बैंक मैनेजर: पैसे डलवाओ भैया तुम्हारा खाता है।

    ग्राहक: मेरे पास पैसा होता तो मैं पहले नहीं खुलवा लेता, तुम खाता खोल रहे हो तो तुम डालो न पैसे।

    बैंक मैनेजर: अरे भाई सरकार खुलवा रही है।

    ग्राहक: तो ये सरकारी बैंक नहीं है?

    बैंक मैनेजर: अरे भाई सरकार तुम्हारा बीमा फ्री में कर रही है, पूरे एक लाख का।

    ग्राहक: (खुश होते हुए) अच्छा तो ये एक लाख मुझे कब मिलेंगे?

    बैंक मैनेजर: (गुस्से में) जब तुम मर जाओगे तब तुम्हारी बीवी को मिलेंगे।

    ग्राहक: (अचम्भे से) तो तुम लोग मुझे मारना चाहते हो और मेरी बीवी से तुम्हारा क्या मतलब है?

    बैंक मैनेजर: अरे भाई ये हम नहीं सरकार चाहती है।

    ग्राहक: (बीच में बात काटते हुए) तुम्हारा मतलब सरकार मुझे मारना चाहती है?

    बैंक मैनेजर: अरे यार मुझे नहीं पता, तुमको खाता खुलवाना है या नहीं?

    ग्राहक: नहीं पता का क्या मतलब? मुझे पूरी बात बताओ।

    बैंक मैनेजर: अरे अभी तो मुझे भी पूरी बात नहीं पता, मोदी ने कहा कि खाता खोलो तो हम खोल रहे हैं।

    ग्राहक: अरे नहीं पता तो यहां क्यों बैठे हो, (जन-धन के पोस्टर को देखते हुए) अच्छा ये 5000 का ओवरड्राफ्ट क्या है?

    बैंक मैनेजर: मतलब तुम अपने खाता से 5000 निकाल सकते हो।

    ग्राहक: (बीच में बात काटते हुए) ये हुई ना बात, ये लो आधार कार्ड, 2 फोटो और निकालो 5000।

    बैंक मैनेजर: अरे यार ये तो 6 महीने बाद मिलेंगे।

    ग्राहक: मतलब मेरे 5000 का इस्तेमाल 6 महीने तक तुम लोग करोगे।

    बैंक मैनेजर: भैया ये रुपये ही 6 महीने बाद आएंगे।

    ग्राहक: झूठ मत बोलो, पहले बोला कि कुछ नहीं मिलेगा, फिर कहा ATM मिलेगा, फिर बोला बीमा मिलेगा, फिर बोलते हो 5000 रुपये मिलेंगे, फिर कहते हो कि नहीं मिलेंगे, तुम्हें कुछ पता भी है?

    बैंक मैनेजर: अरे मेरे बाप कानून की कसम, भारत माँ की कसम, मैं सच कह रहा हूँ, मोदी जी ने अभी कुछ नहीं बताया है, तुम चले जाओ, खुदा की कसम तुम जाओ। मेरी सैलरी इतनी नहीं है कि एक साथ ब्रेन हैमरेज और हार्ट अटैक दोनों का इलाज़ करवा सकूं।
  • जाट से होशियारी मंहगी!

    एक जाट के पड़ोस में बनिया रहता था। बनिया की बीवी गुजर गई। जाट ने सोचा बनिया के पास बहुत पैसे हैं, कुछ आमदनी की जाये।

    जाट छाती पीटता हुआ बनिये के घर जा कर रोते हुए कहने लगा, "मेरा तुम्हारी बीवी से बहुत प्यार था। मैं उसके बिना कैसे जीऊंगा, मुझे भी इसके साथ जला आओ।"

    बनिया हाथ जोड़ कर बोला, "चौधरी दूर- दूर से रिस्तेदार आने वाले हैं। ऐसे मत कर। बहुत बेइज्जती होगी।"

    जाट: ठीक है, एक लाख रुपए दे दे, मैं चुपचाप चला जाऊंगा।

    बनिये ने एक लाख रुपए दे दिए और जाट खुशी खुशी अपने घर चला गया।

    कुछ दिन बाद जाट की घरवाली मर गई। बनिये ने सोचा अब मौका आया है जाट से ब्याज समेत पैसे वापिस लाऊंगा।

    बनिया रोता हुआ जाट के घर जा कर बोला, "मेरा और तुम्हारी घरवाली का बहुत प्यार था। मैं भी इसके साथ मरूंगा, मने भी इसके साथ फूँक आओ।"

    यह सुनकर जाट अपने लड़कों से बोला, "छोरो, थारी माँ कहे तो करै थी कि मेरा एक बनिये तै प्यार है। अच्छा तो ये ही है वो बनिया, फूँक आओ इस ने भी अपनी माँ के साथ।"

    बनिया: चौधरी माफ कर दे। मैं तो मजाक कर रहा था।

    जाट: ठीक है, दो लाख रुपये ले आ, वरना लड़के तनै फूकण नै तैयार खड़े हैं।
  • सयाना आदिवासी!

    एक बार एक आदिवासी बाप-बेटा शिकार पे गए।

    एक पतली सी औरत को देख कर बेटे ने पूछा, "पापा इसे खा ले?"

    पिता: नहीं इस से हम दोनों का पेट नहीं भरेगा।

    आगे गए तो एक मोटी औरत नज़र आई।

    बेटा: पापा इसे खा ले?"

    पिता: नहीं, इस में मोटापा बहुत है, कोलेस्ट्रॉल बढ़ जायेगा।

    भूख से निढाल बच्चे को एक बहुत सुन्दर लड़की नज़र आई।

    बेटा: पापा, ये बिलकुल ठीक है इसे खा लेते है।

    पिता: "नहीं बेटा, इसे घर ले जाते है और तेरी मम्मी को खा लेते है।"
  • पत्नी का पत्र!

    गांव में एक स्त्री थी । उसके पति आई.टी.आई मे कार्यरत थे। वह आपने पति को पत्र लिखना चाहती थी, पर अल्पशिक्षित होने के कारण उसे यह पता नहीं था कि पूर्णविराम (Full Stop) कहां लगेगा ।

    इसीलिये उसका जहां मन करता था वहीं पूर्णविराम लगा देती थी ।

    तो एक बार उसने अपने पति को कुछ इस प्रकार चिठ्ठी लिखी:

    मेरे प्यारे जीवनसाथी मेरा प्रणाम आपके चरणो मे।

    आप ने अभी तक चिट्टी नहीं लिखी मेरी सहेली को। नौकरी मिल गयी है हमारी गाय को। बछडा दिया है दादाजी ने। शराब की लत लगाली है मैने। तुमको बहुत खत लिखे पर तुम नहीं आये कुत्ते के बच्चे। भेड़िया खा गया दो महीने का राशन। छुट्टी पर आते समय ले आना एक खूबसूरत औरत। मेरी सहेली बन गई है। और इस समय टीवी पर गाना गा रही है हमारी बकरी। बेच दी गयी है तुम्हारी मां। तुमको बहुत याद कर रही है एक पडोसन। हमें बहुत तंग करती है।

    तुम्हारी चंदा।