• बेवफा पत्नी!

    एक बार बहुत ज्यादा शराब पीने के बाद एक आदमी अपनी गाडी में बैठ कर अपने घर जा रहा होता है तो उसे रास्ते में ट्रैफिक पुलिस का एक हवालदार रोक लेता है!

    परन्तु उस के पिछले रिकॉर्ड को देखते हुए वह ट्रैफिक हवलदार उसका चालान नहीं करता और उस से कहता है;

    हवलदार: भाई साहब क्योंकि आपका पिछला रिकॉर्ड अच्छा है इस लिए मैं आपको यह सलाह देना चाहूँगा कि, क्योंकि आपने बहुत ज़यादा शराब पी रखी है इसीलिए आप अपनी गाडी यहीं पार्किंग मैं खड़ी कर दें और और मैं आपको आपके घर छोड़ देता हूँ!

    हवलदार की बात सुन वह आदमी राजी हो जाता है और हवलदार के साथ उसकी गाडी में बैठ कर अपने घर की तरफ चल पड़ता है, कुछ दूर चलने के बाद वे एक कॉलोनी में पहुँच जाते हैं तो वह आदमी एक घर के सामने पहुँच कर हवलदार से कहता है;

    आदमी (नशे झूमते हुए): हवलदार साहब यही मेरा घर है!

    हवलदार: क्या आपको अच्छे से याद है?

    आदमी: आपको यकीन नहीं है, तो आप मेरे पीछे-पीछे आते जाओ!

    उस आदमी की बात सुन हवलदार उसके पीछे चल पड़ता है, नशे में झूमते हुए वह आदमी घर का दरवाज़ा खोलता है और हवलदार को सीधा अपने बेडरूम में ले जाता है और कहता है;

    आदमी: साहब ये देखो ये मेरा बेडरूम है, ये मेरा बेड है, ये मेरी पत्नी है और वो देखो वो उसके साथ मैं सो रहा हूँ!
  • सांभा की मौत!

    गब्बर: अरे ओ सांभा?

    सांभा: जी सरदार।

    गब्बर: कितने आदमी थे रे?

    सांभा: 2 सरदार।

    सरदार: मुझे गिनती नहीं आती, 2 कितने होते हैं?

    सांभा: सरदार, 2 एक के बाद आता है।

    गब्बर: और 2 के पहले?

    सांभा: 2 के पहले 1 आता है।

    गब्बर: तो बीच में कौन आता है?

    सांभा: बीच में कोई नहीं आता।

    गब्बर: तो फिर दोनों एक साथ क्यों नहीं आते?

    सांभा: 2 एक के बाद ही आ सकता है, क्योंकि 2 एक से बाद आता है।

    गब्बर: 2 एक से बाद आता है, कितना बड़ा है वो?

    सांभा: 2 एक से बाद आता है।

    गब्बर: अगर 2 एक से बाद है तो एक-एक से कितना बड़ा है?

    सांभा: सरदार, मैंने तुम्हारा नमक खाया है, मुझे गोली मार दो, पर मेरा दिमाग तो मत खाओ!
  • ज्ञान की बात!

    एक लड़का एक कोचिंग सेंटर में प्री-मेडिकल-टेस्ट की तैयारी कर रहा था।

    फिजिक्स उस लड़के को बिलकुल समझ में नहीं आता था और सारे लेक्चर उसके सिर के ऊपर से निकल जाते थे।

    एक दिन उसने टीचर से पूछा, `सर, हम लोग यहाँ डॉक्टर बनने की तैयारी करने आए हैं वैज्ञानिक बनने की नहीं, फिर हमें फिजिक्स क्यों पढ़ना पड़ता है?`

    टीचर ने मुस्कुरा कर कहा, `फिजिक्स मेडिकल साइंस के लिए बड़ा उपयोगी विषय है। यह लोगों की ज़िन्दगी बचाने में मदद करता है।`

    लड़के ने हलके से व्यंग्यात्मक अंदाज़ में कहा, `अच्छा, वो कैसे सर? ज़रा हमें भी तो बताईये कि फिजिक्स से लोगों की जिंदगी कैसे बचाई जा सकती है?`

    `अरे वो फिजिक्स ही तो है जो तुम जैसे गधों को मेडिकल कॉलेज में एडमिशन लेने से रोकता है ...`, टीचर ने समझाते हुए कहा!
  • सही कीमत!

    जुम्मन मियां की बाजार की एक गली में छोटी सी मगर बहुत पुरानी कपड़े सीने की दुकान थी।

    उनकी इकलौती सिलाई मशीन के बगल में एक बिल्ली बैठी एक पुराने गंदे कटोरे में दूध पी रही थी।

    एक बहुत बड़ा कला पारखी जुम्मन मियां की दुकान के सामने से गुजरा। कला पारखी होने के कारण जान गया कि कटोरा एक एंटीक आइटम है और कला के बाजार में बढ़िया कीमत में बिकेगा।

    लेकिन वह ये नहीं चाहता था की जुम्मन मियां को इस बात का पता लगे कि उनके पास मौजूद वह गंदा सा पुराना कटोरा इतना कीमती है। उसने दिमाग लगाया और जुम्मन मियां से बोला,- 'बड़े मियां, आदाब, आपकी बिल्ली बहुत प्यारी है, मुझे पसंद आ गई है। क्या आप बिल्ली मुझे देंगे? चाहे तो कीमत ले लीजिए।'

    जुम्मन मियां ने पहले तो इनकार किया मगर जब कलापारखी कीमत बढ़ाते-बढ़ाते दस हजार रुपयों तक पहुंच गया तो जुम्मन मियां बिल्ली बेचने को राजी हो गए और दाम चुकाकर कला पारखी बिल्ली लेकर जाने लगा।

    अचानक वह रुका और पलटकर जुम्मन मियां से बोला- `बड़े मियां बिल्ली तो आपने बेच दी। अब इस पुराने कटोरे का आप क्या करोगे? इसे भी मुझे ही दे दीजिए। बिल्ली को दूध पिलाने के काम आएगा। चाहे तो इसके भी 100-50 रुपए ले लीजिए।'

    जुम्मन मियां ने बड़े प्यार से कटोरे को सहलाते हुए जवाब दिया, `नहीं साहब, कटोरा तो मैं किसी कीमत पर नहीं बेचूंगा, क्योंकि इसी कटोरे की वजह से आज तक मैं 50 बिल्लियां बेच चुका हूं।