• फ़िल्मी डॉक्टर!

    सोचो अगर डॉक्टर फिल्म बनाते तो फिल्मों के नाम क्या होते?

    कभी खांसी कभी जुखाम।

    कहो न बुखार है।

    टीवी नंबर 1।

    हम ब्लड दे चुके सनम।

    रहना है अब हॉस्पिटल में।

    बचना अय मरीजों।

    दिल तो कमजोर है।

    एक हसीना दो किडनी।

    अजब मरीजों की गजब बीमारी।
  • डॉक्टर की होशियारी!

    मरीज: डॉक्टर साहब, जल्दी कुछ करो, मेरे पैरों पर एक औरत ने गाड़ी चढा दी।

    डॉक्टर ने अच्छे से चेक किया और पाया कि मामूली चोट है पर मरीज घबराया हुआ है।

    डॉक्टर: ओ हो, भाई आपरेशन करना पडेगा, बहुत खर्चा आयेगा... तैयार हो?

    मरीज: कुछ भी करो जल्दी करो। कमीनी ने मरा सोच कर उठाया भी नहीं।

    इतने में ही डॉक्टर की पत्नी का फोन आया।

    डॉक्टर: हैलो

    पत्नी: हैलो छोड़ो, ये बताओ मैं क्या करूं? मुझसे कार चलाते में एक आदमी मर गया जय हिंद चौक पर।

    डॉक्टर: आदमी ने कपड़े कैसे पहन रखे थे?

    पत्नी: हरी टी शर्ट और काली पैंट।

    डॉक्टर: ओ हो, तो उसे तुमने मारा है। पुलिस खूनी को तलाश करती हुई घूम रही है।

    पत्नी: तो अब क्या करूं?

    डॉक्टर: करना क्या है, 4-6 महीने के लिए मायके भाग जा जल्दी।

    पत्नी: ठीक है जा रही हूँ।

    मरीज: डॉक्टर साहब करो ना कुछ।

    डॉक्टर: भाई कुछ नहीं हुआ है तेरे को, ये ले 500 रूपये और चार बियर ले आ, दोनो पियेंगे... और हाँ, यह हरी टी शर्ट निकाल के जा।
  • केलकुलेटर का धोखा!

    एक डॉक्टर के पास एक बेहाल मरीज़ गया।

    मरीज़: डॉ. साहब पेट में बहुत दर्द हो रहा है।

    डॉ: अच्छा, ये बताओ आखिरी बार खाना कब खाया था?

    मरीज़: खाना तो रोज ही खाता हूँ।

    डॉ: अच्छा-अच्छा, (2 ऊँगली उठाते हुए ) आखिरी बार कब गए थे?

    मरीज़: जाता तो रोज ही हूँ पर होता नहीं है।

    डॉकटर समझ गए कि कब्ज़ है। अन्दर बहुत सारी बोतलें पड़ी थी उस में से एक उठा लाये और साथ ही केल्क्युलेटर भी लेते आये। फिर पूछा, "घर कितना दूर है तुम्हारा?"

    मरीज़: 1 किलोमीटर।

    डॉक्टर ने केलकुलेटर पे कुछ हिसाब किया और फिर बोतल में से चार चम्मच दवाई निकाल कर एक कटोरी में डाली।

    डॉ: गाडी से आये हो या चल कर?

    मरीज़: चल कर।

    डॉ: जाते वक्त भाग के जाना।

    डॉक्टर ने फिर से केलकुलेटर पे हिसाब किया फिर थोड़ी दवाई कटोरी में से बाहर निकाल ली।

    डॉ: घर कौन सी मंज़िल पे है?

    मरीज़: तीसरी मंज़िल पे।

    डॉक्टर ने फिर से केलकुलेटर पे हिसाब किया फिर थोड़ी दवाई कटोरी में से और बाहर निकाल ली।

    डॉ: लिफ्ट है या सीढियाँ चढ़ के जाओगे?

    मरीज़: सीढियां।

    डॉक्टर ने फिर से केलकुलेटर पे हिसाब किया फिर थोड़ी दवाई कटोरी में से और बाहर निकाल ली।

    डॉ: अब आखिरी सवाल का जवाब दो। घर के मुख्य दरवाजे से टॉयलेट कितना दूर है?

    मरीज़: करीब 20 फुट।

    डॉक्टर ने फिर से केलकुलेटर पे हिसाब किया फिर थोड़ी दवाई कटोरी में से और बाहर निकाल ली।

    डॉ: अब मेरी फीस दे दो मुझे पहले फिर ये दवाई पियो और फटाफट घर चले जाओ, कहीं रुकना नहीं और फिर मुझे फोन करना।

    मरीज़ ने वैसा ही किया। आधे घंटे बाद मरीज़ का फोन आया और एकदम ढीली आवाज में बोला, "डॉक्टर साहब, दवाई तो बहुत अच्छी थी आपकी पर आप अपना केलकुलेटर ठीक करवा लेना। हम 10 फुट से हार गये।
  • जैसे को तैसा!

    एक बार एक डॉक्टर रात को सोया हुआ था। रात को अचानक डॉक्टर की नींद खुली उसने देखा कि उसका टॉयलेट पूरी तरह से ब्लॉक हो गया है।

    उसने अपनी पत्नी से कहा, "मैं अभी प्लम्बर को बुलाता हूं।"

    पत्नी ने पूछा, "तुम प्लम्बर को रात को तीन बजे बुलाओगे?"

    डॉक्टर: हाँ क्यों नहीं, मैं तो बुलाऊंगा। हम भी तो जाते हैं रात को अगर कोई मरीज बीमार हो जाये।

    उसने प्लम्बर को फोन किया, शिकायत की और उसे रात को ही आने को कहा। प्लम्बर ने सुबह आने को कहा तो डॉक्टर ने फिर से वही बात कही, "अगर मैं रात को मरीज देखने जा सकता हूं तो तुम क्यों नहीं आ सकते?"

    रात को करीब 3:30 बजे प्लम्बर आंखों को मसलता हुआ पहुंचा। डॉक्टर ने उसे टॉयलेट दिखाया।

    प्लम्बर बाहर गया, वहां कुछ गोलियां पड़ी हुई थी। उसने दो गोलियां उठा कर टॉयलेट में डाल दी और डॉक्टर से कहा, "अगर कोई फर्क नहीं पड़े तो सुबह फिर से मुझे कॉल कर लेना।