• कार एक्सिडेंट!

    एक आदमी की गाड़ी का एक्सिडेंट एक महिला की कार से टकराकर हो जाता है, पर एक्सिडेंट के बाद दोनों सुरक्षित बच जाते है!

    जब दोनों गाड़ी से बाहर आते है तो महिला पहले अपनी गाड़ी को देखती है जो पूरी तरह क्षतिग्रस्त होती है, फिर सामने कि तरफ जाती है जहाँ आदमी भी अपनी गाड़ी को बड़ी गौर से देख रहा होता है!

    तभी वह महिला उससे रूबरू होते हुए कहती है देखिये कैसा संयोग है कि गाड़ियाँ पूरी तरह से टूटफूट गयी पर हमें चोट तक नहीं आयी ये सब भगवान कि मर्जी से हुआ है ताकि हम दोनों मिल जाए!

    मुझे लगता है कि अब हमें आपस में दोस्ती कर लेनी चाहिए आदमी ने भी सोचा कि इतना नुक्सान होने के बाद भी गुस्सा करने के बजाय दोस्ती के लिए कह रही है तो कर लेता हूँ और कहता है कि आप बिल्कुल ठीक कह रही है कि ये सब भगवान की मर्जी से हुआ है!

    तभी महिला ने कहा एक चमत्कार और देखिये कि पूरी गाड़ी टूटफूट गयी पर अन्दर रखी शराब की बोतल बिल्कुल सही है!

    आदमी ने कहा कि वाकई ये तो हैरान करने वाली बात है!

    महिला ने बोतल खोली और कहा की आज हमारी जान बची है, हमारी दोस्ती हुई है तो क्यों न थोड़ी सी ख़ुशी मनाई जाए!

    महिला ने बोतल को उस आदमी की तरफ बढ़ाया उसने भी बोतल को पकड़ा और मुहं से लगाया और आधी करके बोतल वापिस महिला को दे दी!

    फिर कहने लगा, आप भी लीजिये! महिला ने बोतल को पकड़ा उसका ढक्कन बंद किया और एक तरफ रख दी!

    आदमी ने पूछा क्या आप शराब नहीं पियेंगी?

    महिला: नहीं ... मुझे लगता है मुझे पुलिस का इन्तजार करना चाहिए!
  • ख़ुशी मिलती है!

    एक आदमी ने एक वकील के ऑफिस में फ़ोन किया और वकील का नाम लेकर कहा कि मैं अपने वकील से बात करना चाहता हूँ।

    रिसेप्शन वाले ने कहा, "जी माफ़ कीजिये, पिछले हफ्ते ही उनका देहांत हो गया।"

    अगले दिन फिर से उस आदमी ने उसी तरह पूछा, "जी, क्या मैं अपने वकील के साथ बात कर सकता हूँ?"

    रिसेप्शन वाले ने फिर से वही बात कही कि माफ़ कीजिये उनका पिछले हफ्ते देहांत हो गया।

    अगले दिन फिर से उस आदमी ने फोन किया, "क्या मैं अपने वकील से बात कर सकता हूँ?"

    रिसेप्शन वाले ने उस दिन दुखी होकर उसे पूछ ही लिया, "सर आज ये आपका तीसरा दिन है, लगातार मैं आपको बता रहा हूँ कि आपके वकील मर चुके हैं। आप फिर भी बार-बार फोन करके क्यों पूछ रहे हैं?"

    उस आदमी ने बड़ी सहजता से जवाब दिया, "क्योंकि यह सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी मिलती है कि अब मेरे पैसे बच जायेंगे।"
  • सबसे रईस कौन!

    एक बार ट्रेन में एक इंजिनियर, एक डॉक्टर और एक वकील में चर्चा होने लगी कि सबसे ज्यादा रईस कौन है?

    तीनो का ही जवाब था "मैं"।
    इतने में पास बैठे एक सज्जन ने कहा कि आप साबित करके बताओ कि आप में से सबसे ज्यादा रईस कौन है?

    सबसे पहले इंजिनियर ने जेब से 500/- का नोट निकाला और उसकी सिगरेट बना कर माचिस जलाई और पीने लगा।

    डॉक्टर को इसमें अपनी तौहीन नज़र आई, उसने जेब से 1000/- का नोट निकाला और सिगरेट बनाई और जला कर उसे पीने लगा।

    यह देख सब दंग रह गए और अब सब वकील की तरफ देखने लगे।

    वकील ने अपना ब्रीफकेस खोला, चेकबुक निकाली और एक चेक भरा 5 लाख रुपये, फिर उस चेक की सिगरेट बनाई और माचिस जला कर उसे पीने लगा और बोला, "सबसे बड़ा रईस वो जो बिना नुकसान किये मज़े ले।"

    शिक्षा: सब कुछ करने का लेकिन वकीलों से दूर रहने का।
  • ख़ास सेवा!

    एक बार एक पुजारी और वकील मर गए और दोनों स्वर्ग के दरवाजे पर खड़े हो गए, यमदूत ने उन दोनों को अन्दर भेजा और दोनों अन्दर चले गए।

    अन्दर एक और यमदूत खड़ा था जो उन दोनों को उनके कक्ष तक ले गया।

    पहले पुजारी को उसके कक्ष तक छोड़ा जो एक छोटा सा कमरा था जिसमें एक बिस्तर और छोटा सा मेज़ लगा था। पुजारी ने यमदूत को धन्यवाद कहा और यमदूत वकील को लेकर उसके कक्ष कि तरफ चल पड़ा।

    जब वो दूसरे कक्ष के पास पहुँचा तो ये एक बहुत बड़ा कमरा था जिसमे डबल बेड, एक बड़ी अलमारी, किताबों से भरा हुआ रैक और एक सुन्दर औरत और भी बाकी सभी प्रकार की सुविधाओं से वो कमरा भरा हुआ था।

    वकील ने कहा कि मुझे यह समझ नहीं आया कि आपने पुजारी को एक छोटा सा कमरा दिया और मुझे सारी सुविधाओं से भरा ये इतना बड़ा कमरा?

    इस पर यमदूत बोला, "साहब हमारे पास यहाँ स्वर्ग में बहुत से पुजारी हैं पर वकील आप पहले हैं इसलिए।"