• मेरे साथ चलो!

    एक दोपहर में एक धनी वकील अपनी बड़ी गाड़ी में कहीं जा रहा था, रास्ते में उसने देखा कि सड़क के किनारे दो आदमी घास खा रहे है, उसने अपने ड्राईवर से गाड़ी रोकने को कहा और वह गाड़ी से बाहर निकला और उन दोनों से पूछताछ करने लगा, अरे भई.. तुम लोग घास क्यों खा रहे हो?

    उन दोनों ने कहा साहब क्या करें हमारे पास खाना खाने के लिए पैसे नहीं है!

    ओह.. हो.. चलो मेरे साथ आओ!

    पर साहब मेरी पत्नी और दो बच्चे भी है!

    उन्हें भी साथ लेकर आओ, और तुम भी मेरे साथ आओ उसने दूसरे आदमी से कहा!

    पर साहब मेरे तो छह बच्चे है और बीवी भी है दूसरे आदमी ने कहा, उन्हें भी साथ लेकर आओ, वे सब बड़ी मुश्किल से गाड़ी पर चढ़े और आपस में सट कर बैठ गए!

    जो आदमी सबसे अंत में चढ़ा वो कहने लगा, साहब आप बहुत दयालु है जो आप हम जैसे गरीबों को साथ में लेकर जा रहे हैं!

    वकील कहने लगा अरे कोई बात नहीं मेरे घर के आसपास में लगभग 2 फुट लम्बी घास है!
  • पहला वकील!

    एक बार एक पुजारी और वकील मर गए और दोनों स्वर्ग के दरवाजे पर खड़े हो गए, यमदूत ने उन दोनों को अन्दर भेजा और दोनों अन्दर चले गए!

    अन्दर एक और यमदूत खड़ा था जो उन दोनों को उनके कक्ष तक ले गया!

    पहले पुजारी को उसके कक्ष तक छोड़ा जो एक छोटा सा कमरा था जिसमें एक बिस्तर और छोटा सा डैस्क लगा था पुजारी ने यमदूत को धन्यवाद कहा और यमदूत वकील को लेकर उसके कक्ष कि तरफ चल पड़ा!

    जब वो दूसरे कक्ष के पास पहुँचा तो ये एक बहुत बड़ा कमरा था जिसमे डबल बेड, एक बड़ी अलमारी, किताबों से भरा हुआ रैक और एक सुन्दर औरत और भी बाकि सभी प्रकार की सुविधाओं से वो कमरा भरा हुआ था!

    वकील ने कहा कि मुझे यह समझ नहीं आया कि आपने पुजारी को एक छोटा सा कमरा दिया और मुझे सारी सुविधाओं से भरा ये इतना बड़ा कमरा?

    इस पर यमदूत बोला साहब हमारे पास यहाँ स्वर्ग में बहुत से पुजारी है पर वकील आप पहले हैं इसलिए!
  • बिल भिजवा देता हूँ!

    एक डॉक्टर साहब एक पार्टी में गए अपने बीच शहर के एक प्रतिष्ठित डॉक्टर को पाकर लोगों ने उन्हें घेर लिया किसी को जुकाम था तो किसी के पेट में गैस सभी मुफ्त की राय लेने के चक्कर में थे शिष्टाचारवश डॉक्टर साहब किसी को मना नहीं कर पा रहे थे!

    उसी पार्टी में शहर के एक नामी वकील भी आए हुए थे मौका मिलते ही डॉक्टर साहब वकील साहब के पास पहुंचे और उन्हें एक ओर ले जाकर बोले यार मैं तो परेशान हो गया हूं सभी फ्री में इलाज कराने के चक्कर में हैं तुम्हें भी ऐसे लोग मिलते हैं क्या?

    वकील साहब बहुत मिलते हैं!

    डॉक्टर साहब तो फिर उनसे कैसे निपटते हो?

    वकील साहब बिलकुल सीधा तरीका है मैं उन्हें सलाह देता हूं जैसा कि वो चाहते हैं बाद में उनके घर बिल भिजवा देता हूं!

    यह बात डॉक्टर साहब को कुछ जम गई अगले रोज उन्होंने भी पार्टी में मिले कुछ लोगों के नाम बिल बनाए और उन्हें भिजवाने ही वाले थे कि तभी उनका नौकर अन्दर आया और बोला साहब, कोई आपसे मिलना चाहता है!

    डॉक्टर साहब.... कौन है?

    नौकर वकील साहब का चपरासी है कहता है कल रात पार्टी में आपने वकील साहब से जो राय ली थी उसका बिल लाया है!
  • आखिरी इच्छा!

    एक बार एक आदमी अपने घर के पीछे पेड़ लगाने कि लिए गढ्ढा खोद रहा था कोई 2 फुट खोदने के बाद उसे एक दीपक मिला उसने उसे बाहर निकाला और उसे साफ़ करने लगा अचानक ही उससे एक जिन्न प्रकट हो गया और कहने लगा मैं तुम्हारी तीन इच्छाएँ पूरी कर सकता हूँ!

    उस आदमी ने कहा ये तो बहुत अच्छा है!

    जिन्न ने कहा तुम मुझे पहले ये बताओ तुम सबसे ज्यादा नफरत किससे करते हो, उस आदमी ने कहा कि मैं अपने पड़ोस में रहने वाले वकील से सबसे ज्यादा नफरत करता हूँ जिन्न ने कहा देखो तुम्हारी जो भी तीन इच्छाएँ होगी या जो भी तुम मांगोगे वकील को उसका दुगना मिलेगा!

    उस आदमी ने जल्दबाजी में जिन्न से कहा कि उसे 1 करोड़ रूपए दे दो जिन्न ने कहा ठीक है पर वकील को दो करोड़ मिलेंगे!

    उस आदमी ने अपनी दूसरी इच्छा भी जल्द ही मांग ली उसने जिन्न से कहा कि उसे एक बहुत बड़ा बंगला नौकरों के साथ चाहिए जिन्न ने कहा मिल जायेगा पर वकील को दो बंगले मिलेंगे वो भी नौकरों के साथ!

    अब उस आदमी कि आखिरी इच्छा बची थी उस आदमी ने सोचा कि मैं जो भी मांग रहा हूँ वकील को उसका दुगना मिल रहा है बड़े सोच विचार के बाद उसने जिन्न से कहा कि मेरी आखिरी इच्छा ये है कि आप मुझे मार मार कर अधमरा कर दो!