• पति-पत्नी के कुछ किस्से!

    पत्नी: चलो एक खेल खेलते हैं, मैं छुपती हूँ और आप मुझे ढूंढ़ना। अगर आपने ढून्ढ लिया तो मैं आपके साथ शॉपिंग करने चलूंगी।
    पति: और अगर नहीं ढून्ढ पाया तो?
    पत्नी: ऐसा मत कहो जानू, बस दरवाज़े के पीछे ही छुपूंगी।

    एक औरत अपने बॉयफ्रेंड के साथ बाजार में घूम रही थी कि तभी उसका पति मिल गया। पति दोनों को देखा और पत्नी के बॉयफ्रेंड को पीटना शुरू कर दिया।
    पत्नी: मारो और मारो, अपनी बीवी को कभी घुमाने नहीं ले गया औरों की बीवियों को घुमाता है।
    तभी बॉयफ्रेंड को जोश आ गया और उसने पति को पीटना शुरू कर दिया।
    औरत: मारो और मारो, खुद तो कभी घुमाने ले जाता नहीं और दूसरों को भी नहीं घुमाने देता।

    पति: साहब मेरी पत्नी गुम हो गयी है।
    पोस्ट मॉस्टर: अभे अँधा है क्या? ये पोस्ट ऑफिस है, पुलिस स्टेशन नहीं।
    पति: माफ़ करना भाई, क्या करूँ ख़ुशी के मारे कुछ समझ नहीं आ रहा कि किधर जाऊं।
  • बेचारा पति!

    पति-पत्नी बच्चे के लिए कपडे खरीदने बाजार गए तो कपड़े की दुकान में अपने पति से पूछा, "बच्चे के लिए ये टी शर्ट अच्छी रहेगी न?"

    पति: हाँ बहुत अच्छी रहेगी।

    पत्नी: पर थोड़ी बड़ी नहीं लग रही है?

    पति: हाँ थोड़ी बड़ी तो है।

    पत्नी: ये हरे रंग वाली ठीक रहेगी?

    पति: हाँ हरा बढ़िया रंग होता है।

    पत्नी: पर ये हरा रंग ज्यादा डार्क तो नहीं है?

    पति: हाँ डार्क तो है।

    पत्नी: ये नीले रंग वाली मुझे बढ़िया लग रही है।

    पति: हाँ बहुत बढ़िया रंग है।

    पत्नी: पर इसमें कालर नहीं है।

    पति: बिना कालर की टी शर्ट भी कोई टी शर्ट हुई भला?

    पत्नी: ये लाल रंग वाली मस्त लगेगी अपने गुड्डू पर।

    पति: हाँ मस्त लगेगा गुड्डू इस मे।

    पत्नी: दुकान वाले भैया ये लाल रंग वाली टी शर्ट दे देना इनको बहुत पसंद आई है।

    तीन दिन बाद टी शर्ट की धुलाई में सारा लाल रंग निकल गया। पत्नी ने गुस्से में पति से बोली, "एक काम भी ढंग से नहीं आता है आपको.... लाल रंग भी कोई रंग होता है? निकल गया न सारा रंग...दुकान में कह रही थी हरे रंग वाली टी शर्ट ले लो पर आप मेरी सुनो तब न... हर काम में अपनी मन की करते हैं.... देख लिया नतीजा? एक टी शर्ट तो पसंद नहीं कर सकते पता नहीं ऑफिस में क्या साहब गिरी करते होंगे?"
  • आखिर पत्नी क्या है?

    फौजी: सारे दुश्मन हम से डरते हैं और हम बीवी से।

    मोची: मैं जूतों की मरम्मत करता हूँ और बीवी मेरी।

    टीचर: मैं कॉलेज में लैक्चर देता हूँ और घर में बीवी से सुनता हूँ।

    ऑफिसर: मैं ऑफिस में बॉस हूँ और घर में बीवी का नौकर।

    जज: मैं कोर्ट में फैसला सुनाता हूँ और घर में इंसाफ के लिए तरसता हूँ।

    दुकानदार: मैं दुनिया को बनाता हूँ फिर घर में पत्नी मुझे बनाती है।

    डॉक्टर: मैं दुनिया को ठीक करता हूँ और घर में बीवी मुझे ठीक करती है।

    फेसबुकिया: मैं दुनिया को पकाता हूँ और घर में बीवी मुझे पकाती है।

    अकाउंटेंट: मैं दुनिया का हिसाब रखता हूँ और बीवी मेरा हिसाब बराबर करती है।

    फैसला आपके हाथ में है... कुंवारे रहो खुश रहो।

    जो शादी कर चुके हैं वो कुछ नहीं कर सकते।
  • पति पर निबंध!

    पति एक घरेलू प्राणी है , यह सभी घरों में अनिवार्य रूप से पाया जाता है।

    इस घरेलू प्राणी को पालने का पूरा अधिकार पत्नी पद से सम्मानित महिला को प्राप्त होता है।

    1. इसकी दो आंखे होती है जिससे यह मूक रहकर मात्र देखता है।

    2. इसके दो कान होते है जिससे पत्नी कि डांट फटकार सुनता है।

    3. इसका एक मुख होता है जिसके खुलने पर पूर्णतः पाबंदी होती है।

    4. इसकी इकलौती कटी नाक में अदृश्य नकेल होती है।

    5. यह काफी कुछ मनुष्य से मिलता जुलता प्राणी होता है।

    6. वैसे पति होने से पूर्व यह मनुष्य कि श्रेणी में होता है। पति के प्रकार:

    जोरू का गुलाम: यह प्रजाति हमारे देश में बहुतायत रूप से पायी जाती है। इस प्रजाति के पति टिकाऊ, मेहनती, सीधे व वफादार होते है। यह उम्दा नस्ल के होते है। डांट, मार, गालियाँ इन पर प्रभावहीन होती हैं। पालने के लिए यह पति सबसे अच्छे होते हैं।

    जोरू का बादशाह: यह प्रजाति धीरे धीरे लुप्त होती जा रही है। इसलिए सरकार जल्द ही इनके संरक्षण के लिए "बादशाह पति संरक्षण" नामक अभियान चलाने जा रही है।