• क्या खाओगे?

    पत्नी:खाने में क्या बनाऊँ?

    पति: कुछ भी बना लो क्या बनाओगी?

    पत्नी: जो आप कहो।

    पति: दाल चावल बना लो।

    पत्नी: सुबह ही तो खाए थे।

    पति: तो रोटी सब्जी बना लो।

    पत्नी: बच्चे नहीं खायेंगे।

    पति: तो छोले पूरी बना लो।

    पत्नी: मुझे तली हुई चीजों से परहेज़ है।

    पति: तो अंडा भुर्जी बना लो।

    पत्नी: आज बृहस्पतिवार है।

    पति: पराठे?

    पत्नी: रात को पराठे नहीं खाने चाहिए।

    पति: कढी-चावल?

    पत्नी: दही नहीं है।

    पति: इडली सांभर?

    पत्नी: समय लगेगा न, पहले बोलना था।

    पति: होटल से मंगवा लेते हैं।

    पत्नी: रोज़ रोज़ बाहर का खान ठीक नहीं है।

    पति: अच्छा मैग्गी बना लो।

    पत्नी: पेट नहीं भरेगा।

    पति: तो फिर क्या बनाओगी?

    पत्नी: जो आप कहो।
  • करवा चौथ विशेष!

    आदरणीय पति देव साहब,

    आपको सूचित किया जाता है कि आपके लम्बी आयु की वैलिडिटी खत्म होने वाली है और रिचार्ज की तिथि आ गयी है।

    8 अक्टूबर 2017 को स्पेशल करवा चौथ रिचार्ज करवा कर लंबी उम्र पाएं।

    प्लान्स इस प्रकार हैं:
    मेगा प्लान - प्लेटिनम का सेट दीजिए और पाइए 100 साल की उम्र।
    सुपर प्लान - हीरे का सेट दीजिए और पाइए 90 साल की उम्र।
    बोनस प्लान - सोने का सेट दीजिए और पाइए 80 साल की उम्र।
    रेगुलर प्लान - चांदी की पायल दीजिए और पाइए 70 साल की उम्र।
    छोटू रिचार्ज - साड़ी देकर आप अपनी 10 साल उम्र और बड़ा सकते हैं।

    विशेष नोट:
    सभी प्लान्स की वैधता केवल एक साल के लिए यानी अगले करवाचौथ तक ही होगी।
    मौके का भरपूर फायदा उठाएं।
  • पत्नी हमेशा पत्नी ही रहती है!

    मृत्युशय्या पर पड़े जैकब ने अपनी पत्नी सारा को बुलवाया और उससे कहा,

    "प्रिय सारा, मैं अपनी वसीयत करना चाहता हूं। मैं अपने सबसे बड़े बेटे अब्राहम को आधी संपदा देना चाहता हूं। वह बहुत धर्मनिष्ठ इंसान है।"

    "अरे, नहीं, जैकब! अब्राहम को और अधिक संपत्ति की कोई ज़रूरत नहीं है। उसका अपना व्यवसाय है और वह हमारे धर्म को बहुत गहराई से मानता है। तुम जो भी उसे देना चाहते हो वह इसहाक को दे दो, वह ईश्वर के अस्तित्व को लेकर हमेशा पशोपेश में रहता है और उसे दुनिया में सही तरीके से जीने के ढंग सीखने बाकी हैं।"

    "ठीक है। तुम कहती हो तो मैं इसहाक को दे दूंगा। फिर अब्राहम को मैं अपना हिस्सा दे देता हूं।"

    "मैंने कहा न, प्रिय जैकब, अब्राहम को वाकई किसी चीज़ की ज़रूरत नहीं है। तुम्हारा हिस्सा मैं रख लूंगी और उसमें से वक्त-ज़रूरत पर बच्चों की मदद कर दिया करूंगी।"

    "तुम ठीक कहती हो, सारा। अब हम अपनी इज़राइल वाली जमीन की बात कर लेते हैं। मुझे लगता है कि इसे डेबोरा को देना चाहिए।"

    "डेबोरा को? तुम्हारा दिमाग खराब हो गया है क्या? उसके पास पहले से ही इज़राइल में जमीन है। जमीन-जायदाद के पचड़ों में पड़कर उसकी घर-गृहस्थी चौपट नहीं हो जाएगी? मुझे लगता है कि हमारी बेटी मिशेल की हालत वास्तव में मदद करने लायक है।"

    जैकब जैसे-तैसे अपनी ताकत बटोरकर बिस्तर से उठा और झुंझलाते हुए बोला,

    "देखो सारा, तुमने उम्र भर बहुत अच्छी पत्नी और आदर्श मां का फर्ज निभाया। मैं जानता हूं कि तुम वाकई हमारे बच्चों की भलाई चाहती हो, लेकिन मुझे बताओ कि मर कौन रहा है, तुम या मैं?"
  • पत्नियों की माया!

    अलग-अलग महिलाएं अपने पतियों से लड़ रही थी।

    पायलट की पत्नी: ज्यादा उड़ो मत समझे।

    मास्टर की पत्नी: मुझे मत सिखाओ ये आपका स्कूल नहीं।

    डेंटिस्ट की पत्नी: दांत तोड़ के हाथ में दे दूंगी।

    डॉक्टर की पत्नी: तबियत दुरुस्त कर दूंगी।

    MBA की पत्नी: अपने काम से काम रखो।

    इंजीनियर की पत्नी: ज्यादा करंट मत मारो।

    चार्टर्ड अकाउंटेंट की पत्नी: पहले पास तो हो लो, फिर बात करना बुड्ढे।