• इसकी बात मानो!

    एक आदमी सड़क पर बेहोश हो गया उसके इर्द-गिर्द भीड़ जमा हो गई, हर कोई उसे होश में लाने के लिए सलाहें देने लगा बेचारे को थोड़ी ब्रांडी दो एक बुढिया बोली!

    इसके मुंह पर पानी के छींटे मारो कोई बोला!

    इसे ब्रांडी दो बुढिया ने दोहराया!

    इसे पंखा झलो कोई बोला!

    इसे ब्रांडी दो बुढिया बोली!

    इसे अस्पताल ले जाओ किसी ने कहा!

    इसे ब्रांडी दो बुढिया फिर बोली!

    तभी बेहोश पड़ा आदमी उठकर बैठ गया और जोर से चिल्लाया:

    आप सब लोग अपनी बकवास बंद कीजिये और उस बेचारी बुढिया की बात सुनिए!
  • सिर में दर्द!

    एक शराबी आदमी सुबह सुबह अपने सिर को पकड़ कर जोर से कराह रहा था!

    तभी उसकी पत्नी ने ताना मारते हुए कहा अगर तुम रात को इतनी शराब नहीं पीते तो अभी तुम्हारे सिर में इतना दर्द नहीं होता!

    उसके पति ने कहा ये सब पीने कि वजह से नहीं हुआ, जब रात को मैं बिस्तर पर आया तो मैं बिलकुल ठीक था पर जब सुबह उठा तो मेरे सिर में जोर का दर्द था ये सब सोने कि वजह से हुआ!
  • पीने की समस्या!

    एक आदमी एक बार में गया और उसने एक जिन और सोडा मंगवाया उसने इसमें से आधा पिया और बाकि बार वाले के ऊपर गिरा दिया!

    बार वाले को काफी गुस्सा आया उसने उस शराबी को कॉलर से पकड़ा और खींच कर उसे अपने सामने लाया और पूछा, तुमने ऐसा क्यों किया?

    शराबी ने माफ़ी मांगते हुए कहा मुझे माफ़ कर दीजिये सर मैं माफ़ी मांगता हूँ, मैं इसमें कुछ नहीं कर सकता, ये एक बीमारी है जिससे मुझे छुटकारा नहीं मिल रहा है मैं बहुत शर्मिंदा हूँ! बार वाले ने कहा क्या तुम्हें कोई और नजर नहीं आया इस समस्या के लिए!

    शराबी ने कहा मैंने ऐसा कभी नहीं सोचा था की ये मैं आप पर फेकूंगा!

    बार वाले ने कहा जाओ अब तब तक मत आना जब तक तुम अपना इलाज न करवा लो और वो शराबी वहां से चला गया!

    लगभग तीन महीने बाद वापिस उसी बार मैं आया और जिन और सोडा लाने को कहा, शराबी ने इसे आधा पी लिया और बाकि बार वाले पर फेंक दिया!

    बार वाला जोर से चिल्लाया, मुझे याद है मैंने तुम्हें कहा था कि जब तक अपना इलाज न करवा लो तब तक यहाँ नहीं आना!

    शराबी ने कहा, मुझे याद है, पर अब मुझे शर्म नहीं आती!
  • ये और वो!

    एक बार में तीन आदमी बैठे हुए थे ,उनमें से एक ने ज्यादा शराब पी ली थी और वो उन दोनों से झगड़ पड़ा पुलिस उस शराबी को पकड़ कर जेल ले गयी!

    अगले दिन उस आदमी को जज के सामने पेश किया गया!

    जज ने उस आदमी को पूछा, तुम कहाँ काम करते हो?

    उस आदमी ने कहा "यहाँ और वहां!

    जज ने पूछा तुम कमाते क्या हो?

    आदमी ने कहा "ये और वो!

    जज ने कहा इसे जेल में डाल दो!

    वो आदमी बोला जज साहब रुकिए ये तो कहिये मुझे बाहर कब छोड़ा जायेगा!

    जज ने उससे कहा, जल्दी या देरी से!