• हिफाज़त का फरिश्ता!

    एक आदमी पहाड़ी रास्ते से जा रहा था, अचानक उसको एक आवाज आयी रुको। वो रुक गया जैसे ही वो रुका उसके सामने एक बड़ी सी चट्टान गिरी।

    वो आवाज का शुक्रिया करके आगे बढा।

    कुछ दिन बाद वो आदमी फिर कहीं जा रहा था। फ़िर वही आवाज आयी... रुको। वो रुक गया, तभी उसके बगल से एक कार बड़ी तेजी से गुजर गयी।

    उसने फ़िर आवाज का शुक्रिया अदा किया और पूछा, "आप कौन हैं भाई, जो बार बार मेरी जान बचा रहे हैं?"

    आवाज आयी हिफाजत करने वाला... फरिश्ता।

    उसने दोबारा शुक्रिया अदा किया और रोते हुए पूछा, "शादी के वक्त आप कहाँ थे भाई?"

    जवाब आया, "आवाज़ तो उस वक्त भी लगाई थी... या तो डी जे बजवा लेता या फिर आवाज सुन लेता!"
  • कुछ देशी तरीके!

    एक खीरा लें, अब इसमें से "आ" की मात्रा हटा दें आपकी खीर तैयार है!
    ज़ुड़े रहें आपको और भी चीज़ें बनानी सिखांएंगे!

    खीरा से खीर बनाने की अपार सफलता के बाद पेश है "बर्फी" बनाने का सबसे आसान तरीका!
    बर्फ का एक टुकड़ा लें, इसमें "ई" की मात्रा लगा दें... आपकी बर्फी तैयार है!

    अब पेश है लस्सी बनाने का तरीका! यह थोड़ा मुश्किल तरीका है!
    इसलिए सबसे पहले एक रस्सी लें। इसमें कुछ हटाने की जरूरत नहीं। बस थोड़ा तुतला कर बोलें। लस्सी तैयार है!

    अब प्रस्तुत है "पेड़ा" बनाने का देशी और नायाब तरीका!
    एक पेड़ लें अब इसमें वही आ की मात्रा लगा दें जो खीरा में से निकाली थी।
    आपका पेड़ा तैयार है!
  • अच्छा समय!

    एक औरत का पति काफी समय से कोमा में था। उसे कभी होश आता और कभी वो कोमा में चला जाता पर वो औरत हमेशा अपने पति के साथ ही रही। कभी भी उसे नहीं छोड़ा।

    एक दिन आदमी को होश आया और उसने अपनी पत्नी को पास बुलाने का इशारा किया। पत्नी अपने पति के पास गयी।

    पति ने भरी हुई आँखों से उसे कहा, "तुम्हें पता है न तुम हमेशा मेरे साथ रही हो। मेरे हर दुःख के समय तुम मेरे पास थी। जब मुझे नौकरी से निकाला गया तो उस समय तुम मेरे साथ थी। जब मेरा कारोबार डूब गया तब भी तुम साथ थी। जब हमारा घर नीलाम हुआ तब भी तुम साथ थी। फिर अब जब मेरा एक्सीडेंट हुआ और मेरी यह हालत हो गयी तब भी तुम मेरे साथ ही थी। अब बस मैं तुम्हें यही कहना चाहता हूँ कि अब तुम मुझे छोड़ कर चली जाओ, क्योंकि शायद तुम्हारे जाने से मेरा अच्छा समय आ जाये।"
  • फर्क!

    एक मासूम हिमालय की तराई में भेड़े चरा रहा था, तभी वहा से एक गुज़रते हुए पर्यटक ने लड़के से पूछा, "ये भेड़े कितना दूध देती है ?"

    लड़का: कौनसी, सफ़ेद वाली या काली वाली ?

    पर्यटक: सफ़ेद वाली।

    लड़का: 3 लीटर।

    पर्यटक: और काली वाली ?

    लड़का: ये भी 3 लीटर देती है।

    पर्यटक: ये ऊन कितनी देती है।

    लड़का: कौनसी सफ़ेद वाली या काली वाली ?

    पर्यटक: सफ़ेद वाली।

    लड़का: 5 किलो।

    पर्यटक: और काली वाली ?

    लड़का: वो भी 5 किलो।

    पर्यटक: अबे साले जब ये दूध बराबर देती है, ऊन बराबर देती है तो फिर ये काली भेड़ ,सफ़ेद भेड़ क्या लगा रखी है?

    लड़का: जी वो बात ये है की ये सफ़ेद भेड़ मेरे पिताजी की है।

    पर्यटक: और ये काली भेड़ ?

    लड़का: ये भी मेरे पिताजी की ही है।