• काबिल कुता!

    एक दुकान के बाहर लिखा था, "इन्सानों की तरह बात करने वाला कुत्ता बिकाऊ है।"

    एक आदमी दुकानदार से जाकर बोला, "मैं उस कुत्ते को देखना चाहता हूं।"

    दुकानदार ने कहा,"साथ के कमरे में बैठा है, जा कर मिल लो।"

    ग्राहक उस कमरे में गया तो उसने देखा, कुर्सी पर एक हट्टा-कट्टा कुत्ता बैठा था तो उसने उस से पूछा, "क्यों भई, तुम यहां क्या कर रहे हो?"

    कुता बोला, "कर तो मैं बहुत कुछ सकता हूं, लेकिन आजकल इस दुकान की रखवाली करता हूं। इससे पहले अमेरिका के जासूसी महकमे में काम करता था और कई खूंखार आतंकवादियों को पकड़वाया, फिर मैं इंग्लैंड चला गया जहां पुलिस के लिए मुखबरी करता था। एक साल बाद यहां आ गया।"

    कुत्ते की बात सुन उस आदमी ने दुकानदार से पूछा, "इतने गुणवान कुत्ते को आप बेचना क्यों चाहते हैं?"

    दुकानदार: जी क्योंकि यह अव्वल नम्बर का झूठा है।
  • बगुले की टांग!

    एक बार एक शिकारी अपने नौकर के साथ शिकार पर गया। वहाँ उन्होंने पानी में एक जंगली बगुला देखा।

    नौकर एक दम से चिल्लाया, "मारिये साहब, वो एक टाँग वाला बगुला है, उड़ नहीं पायेगा।"

    शिकारी ने मुस्कुराते हुए हुश किया और बगुले ने अपनी दूसरी टाँग निकाली और उड़ने लगा। शिकारी ने तुरंत उसे गोली मार दी।

    जब नौकर ने शाम को बगुले को पकाया तो उसका मन हुआ कि उसका स्वाद चख लिया जाये। उसे इतना स्वादिष्ट लगा कि वो पूरी टाँग खा गया।

    खाने के वक़्त शिकारी ने देखा कि बगुले की एक टाँग गायब है। लेकिन खाने के समय मूड ना बिगड़े इसलिए शिकारी ने चुप-चाप खाना खा लिया। खाना खत्म करने के बाद शिकारी ने अपने नौकर से पूछा कि तुमने जो बगुला पकाया था, उसकी एक टाँग गायब थी।

    नौकर ने झट से उत्तर दिया, "नहीं साहब, अगर आप सुबह की तरह हुश करते तो वो अपनी दूसरी टाँग भी निकाल लेता!"
  • पतियों की परेशानी पुलिस भी समझती है!

    एक सीनियर सिटिजन अपनी नई कार 100 की स्पीड में चला रहे थे। चलते-चलते उन्होंने शीशे में देखा कि पुलिस की एक गाडी उनके पीछे लगी हुई है।

    उन्होंने कार की स्पीड और बढ़ा दी। 140 फिर 150 और फिर 170...।

    अचानक उन्हें याद आया कि इन हरकतों के लिहाज से वे बहुत बूढ़े हो चुके हैं और ऐंसी हरकतें उन्हें अब शोभा नहीं देतीं।

    उन्होंने सड़क के किनारे कार रोक दी और पुलिस का इंतज़ार करने लगे।

    पुलिस की गाडी करीब आकर रुकी और उसमे से इंस्पेक्टर निकलकर बुजुर्ग महाशय के पास आया। उसने अपनी घडी में समय देखा और बुजुर्ग से बोला, "सर, मेरी शिफ्ट ख़त्म होने में मात्र 10 मिनट बाकी हैं। आज शुक्रवार है और शनिवार, रविवार मेरा अवकाश है। इतनी स्पीड से कार चलाने का अगर आप मूझे कोइ ऐंसा कारण बता सके जो मैंने आज तक नहीं सुना हो तो मैं आप को छोड़ दूंगा।"

    बुजुर्ग ने बहुत गंभीर होकर इंस्पेक्टर की तरफ देखा और कहा, "बहुत साल पहले मेरी बीवी एक पुलिसवाले के साथ भाग गयी थी। मैंने सोचा कि तुम उसे लौटाने आ रहे हो।"

    इंस्पेक्टर वहाँ से जाते हुए बोला, "हेव ए गुड डे, सर।"
  • भगवान का सहारा!

    एक लड़की अपने होने वाले मंगेतर को अपने मम्मी पापा से मिलाने के लिए घर लेकर आयी, खाना खाने के बाद लड़की की माँ ने अपने पति से कहा,"कुछ लड़के के बारे में पता करो।"

    लड़की के पिता ने लड़के को अकेले में बुलाया और उससे बातचीत करने लगे।

    लड़की के पिता ने पूछा, "तो तुम्हारा प्लान क्या है?"

    लड़का: मैं रिसर्च स्कॉलर हूँ!!

    "रिसर्च स्कॉलर बहुत अच्छे तो तुम मेरी बेटी को एक सुन्दर सा घर कैसे दे पाओगे जिसकी उसे आदत है?", लड़की के पिता ने पूछा।

    लड़का: मैं पढ़ाई करूँगा और भगवान हमारी मदद करेंगे।

    लड़की का पिता: और तुम किस तरह उसके लिए सगाई कि अंगूठी खरीदोगे जिसके योग्य वो है?

    "मैं और ज्यादा ध्यान से पढ़ाई करूँगा बाकि भगवान हमारी मदद करेंगे", लड़के ने कहा।

    "और बच्चे उन्हें कैसे पालोगे?", लड़की के पिता ने कहा।

    लड़का:चिंता मत कीजिये सर भगवान कोई न कोई रास्ता निकाल ही लेगा।

    और हर बार जितनी बार लड़की के पिता ने कुछ भी पूछा, तो लड़के ने कहा कि कोई न कोई रास्ता भगवान निकाल ही लेगा।

    बाद में लड़की की माँ ने लड़की के पिता से कहा, " ये सब कैसे होगा जी?"

    लड़की के पिता ने कहा, "पता नहीं, उसके पास न कोई नौकरी है न कोई प्लान पर अच्छी खबर ये है कि वो मुझे भगवान समझ रहा है।"