• आखिर पत्नी क्या है?

    फौजी: सारे दुश्मन हम से डरते हैं और हम बीवी से।

    मोची: मैं जूतों की मरम्मत करता हूँ और बीवी मेरी।

    टीचर: मैं कॉलेज में लैक्चर देता हूँ और घर में बीवी से सुनता हूँ।

    ऑफिसर: मैं ऑफिस में बॉस हूँ और घर में बीवी का नौकर।

    जज: मैं कोर्ट में फैसला सुनाता हूँ और घर में इंसाफ के लिए तरसता हूँ।

    दुकानदार: मैं दुनिया को बनाता हूँ फिर घर में पत्नी मुझे बनाती है।

    डॉक्टर: मैं दुनिया को ठीक करता हूँ और घर में बीवी मुझे ठीक करती है।

    फेसबुकिया: मैं दुनिया को पकाता हूँ और घर में बीवी मुझे पकाती है।

    अकाउंटेंट: मैं दुनिया का हिसाब रखता हूँ और बीवी मेरा हिसाब बराबर करती है।

    फैसला आपके हाथ में है... कुंवारे रहो खुश रहो।

    जो शादी कर चुके हैं वो कुछ नहीं कर सकते।
  • चालाकी पड़ गयी भारी!

    एक डॉक्टर ने नया-नया क्लिनिक खोला तो बाहर बोर्ड टाँग दिया, जिसपे लिखा था, "किसी भी बीमारी का इलाज़ मात्र 300/- रुपये में और अगर हम आपका इलाज़ नहीं कर पाये तो हम आपको 1000/- रुपये देंगे।"

    यह बोर्ड पढ़कर एक दिन एक आदमी के मन में ख्याल आया कि क्यों न कोई चालाकी की जाये और 1000/- रुपये कमाये जाएँ। इसी सोच के साथ आदमी डॉक्टर के पास पहुँच गया।

    डॉक्टर: आईये बैठिये, बताइये क्या तक़लीफ है आपको?

    आदमी: डॉक्टर साहब, मैं अपना स्वाद खो चुका हूँ। कुछ भी खाता या पीता हूँ तो स्वाद का पता ही नहीं चलता।
    डॉकटर ने पूरी बात सुनी और नर्स से कहा कि 22 नंबर वाली बोतल में से कुछ बूंदे इनकी जीभ पर डाल दो।

    नर्स से जैसे ही बूंदे आदमी की जीभ पर डाली, आदमी एक दम से चिल्लाया, "यह तो पेशाब है।"

    डॉक्टर: मुबारक हो आपका स्वाद वापस आ गया।

    आदमी बहुत शर्मिंदा हुआ और उसे 300/- रूपये भी गंवाने पड़े।

    कुछ दिनों बाद वो फिर से डॉक्टर के पास अपना हिसाब बराबर करने पहुँच गया।

    डॉक्टर: जी अब क्या तकलीफ हो गयी।

    आदमी: डॉक्टर साहब, मैं अपनी यादाश्त कमज़ोर हो गयी है।

    डॉक्टर ने नर्स से कहा कि 22 नंबर वाली बोतल में से दवाई निकाल कर इनको दो।

    यह सुन कर आदमी तुरंत बोला, "डॉक्टर साहब वो दवाई तो स्वाद वापस लाने के लिए है न।"

    डॉक्टर: मुबारक हो आपकी यादाश्त भी वापस आ गयी है।
  • फिजूलखर्ची!

    एक बार जीतो और प्रीतो चांदनी चौक में घूम रही थी कि, तभी उनकी नज़र एक महिला पर पड़ी है जो कि अपने पति को खिड़की से धक्का दे देती है जिस से पति नीचे रखे कूड़ेदान में जा गिरता है, यह देख जीतो, प्रीतो से कहती है;

    "यह दिल्ली कि महिलाएं बहुत फिजूलखर्च होती हैं!"

    जीतो कि बात सुन प्रीतो हैरानी से पूछती है;

    प्रीतो: वह कैसे!

    जीतो: अब देखो ना यह आदमी अभी और चार-पांच साल इसके काम आ सकता था, फिर भी इससे कूड़े में फ़ेंक दिया!
  • जन्मदिन का तोहफा!

    एक बार एक आदमी अपनी पत्नी के लिए के लिए पियानो लेकर आया, तो उसके दोस्त ने उस से पूछा, "यार तुम ये पियानो क्यों ले रहे हो?"

    आदमी: यार वो मेरी बीवी पियानो बजाना सीखना चाहती थी इसीलिए ये उसके जन्मदिन का तोहफा है।

    कुछ दिनों बाद दोनों दोस्त फिर मिले तो दूसरे दोस्त ने पूछा, "और बताओ क्या भाभी ने अब पियानो बजाना सीख लिया है?"

    आदमी: नही, हमने उसे वापस कर दिया और मैं उसकी जगह शहनाई लाया हूँ।

    दोस्त: शहनाई वो किस लिए?

    आदमी: शहनाई बजाते हुए मेरी बीवी कम से कम अपनी बेसुरी आवाज़ में गाना तो नही गा पाएगी।