• पत्नी की अहमियत!

    सुबह उठ कर पत्नी को पुकारते हैं, सुनो चाय लाओ।

    थोड़ी देर बाद फिर आवाज़, सुनो नाश्ता बनाओ।

    क्या बात है, आज अभी तक अखबार नहीं आया।

    जरा देखो तो, किसी ने दरवाजा खटखटाया।

    अरे आज बाथरूम में साबुन नहीं है क्या?

    देखो तो कितना गीला पड़ा है तौलिया।

    अरे,ये शर्ट का बटन टूटा है, जरा लगा दो और मेरे मौजे कहाँ है, जरा ढूंढ के ला दो।

    लंच के डिब्बे में आलू के परांठे दो ज्यादा रख देना।

    देखो अलमारी पर कितनी धूल जमी पड़ी है, लगता है कई दिनों से डस्टिंग नही की है।

    गमले में पौधे सूख रहे हैं, क्या पानी नहीं डालती हो? दिन भर करती ही क्या हो बस गप्पे मारती हो।

    शाम को डोसा खाने का मूड है, बना देना।

    बच्चों की परीक्षाएं आ रही हैं पढ़ा देना।

    सुबह से शाम तक कर फरमाईशें कर नचाते हैं, चैन से सोने भी नहीं देते, सताते हैं।

    दिनभर में बीवियां कितना काम करती हैं ये तब मालूम पड़ता है जब वो बीमार पड़ती हैं। एक दिन में घर अस्त व्यस्त हो जाता है, रोज का सारा रूटीन ही ध्वस्त हो जाता है। आटे दाल का सब भाव पता चल जाता है। बीवी की अहमियत क्या है, ये पता चल जाता है।

    सभी बीवियों को सलाम!
  • ਦਾਰੂ ਦੀ ਜਨਮ ਗਾਥਾ!

    ਦੁਨੀਆਂ ਵਿੱਚ ਪਹਿਲੀ ਵਾਰ ਦਾਰੂ ਬਨਾਉਣ ਦੀ ਭੱਠੀ, ਇੱਕ ਬਰਗਦ ਦੇ ਪੇੜ ਦੇ ਥੱਲੇ ਲੱਗੀ ਸੀ। ਬਰਗਦ ਤੇ ਇੱਕ ਕੋਇਲ ਤੇ ਤੋਤਾ ਰਹਿੰਦੇ ਸਨ। ਬਰਗਦ ਦੇ ਥੱਲੇ ਇਕ ਸ਼ੇਰ ਤੇ ਇੱਕ ਸੂਅਰ ਵੀ ਆਰਾਮ ਕਰਨ ਆਂਉਦੇ ਸਨ।

    ਪਹਿਲੇ ਹੀ ਦਿਨ ਦਾਰੂ ਕੱਢਦੇ ਸਮੇਂ ਭੱਠੀ ਨੂੰ ਅੱਗ ਲੱਗ ਗਈ ਤੇ ਉਸ ਅੱਗ ਵਿੱਚ ਕੋਇਲ, ਤੋਤਾ, ਸ਼ੇਰ, ਸੂਅਰ ਜਲ ਕੇ ਮਰ ਗਏ ਤੇ ਚਾਰਾਂ ਦੀ ਆਤਮਾ ਸਦਾ ਲਈ ਦਾਰੂ ਵਿਚ ਪ੍ਰਵੇਸ਼ ਕਰ ਗਈ ਤੇ ਜਿਸ ਦਾ ਨਤੀਜਾ ਇਹ ਹੋਇਆ ਕਿ...

    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    ਦੋ ਪੈੱਗ ਤੋਂ ਬਾਅਦ, ਕੋਇਲ ਦੀ ਆਤਮਾ ਦਾ ਅਸਰ ਮਤਲਬ ਮਿੱਠੇ-ਮਿੱਠੇ ਬੋਲ

    ਤੀਸਰੇ ਪੈੱਗ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਤੋਤੇ ਦੀ ਤਰ੍ਹਾਂ ਇੱਕੋ ਗੱਲ ਦੀ ਟੈਂ-ਟੈਂ

    ਚੌਥੇ ਪੈੱਗ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਸ਼ੇਰ ਦੀ ਆਤਮਾ ਦਾ ਅਸਰ, ਮਤਲਬ ਪੂਰੀ ਬਦਮਾਸ਼ੀ

    ਅਗਲੇ ਪੈੱਗ ਤੋਂ ਬਾਅਦ ਸੂਅਰ ਦੀ ਆਤਮਾ ਜਾਗ ਜਾਂਦੀ ਹੈ ਤੇ ਫਿਰ ਤਾਂ ਤੁਸੀਂ ਜਾਣਦੇ ਹੀ ਹੋ...
    .
    .
    .
    .
    ਸਿੱਧਾ ਨਾਲੀ ਵਿੱਚ।
  • इतने कम नंबर!

    काम पर से थक हार कर घर आया, सोफे पर बैठ गया। पत्नी ने पानी का गिलास दिया और बच्चे ने मार्कशीट सामने रखी।

    हिंदी 44
    अंग्रेजी 35
    गणित 37

    आगे कुछ पढ़ने से पहले... "बेटा ! क्या मार्क है ये ? गधे, शर्म नहीं आती तुझे ? नालायक है तू नालायक..."

    पत्नी: अरे आप सुनो तो?

    "तू चुप बैठ! तेरे लाड़ प्यार ने ही बिगाड़ा है इसे. नालायक,अरे बाप दिनभर मेहनत करता है और तू ऐसे मार्क लाता है।"

    लड़का चुपचाप गर्दन नीचे।

    "अरे सुनो... तो!"

    "तू चुप कर, एक शब्द भी मत बोल. आज इसको बताता हूँ।"

    "अरे!"

    पत्नी का आवाज बढ़ गयी, मैं थोडा रुक गया।"

    "सुन तो लो जरा!"

    "सुबह अलमारी साफ करते समय मिली आपकी ही मार्कशीट है वो..."

    भयानक सन्नाटा!
  • दारू का पहाङा!

    दारू एकम दारू - महफिल हुइ चालू

    दारू दुनी गिलास - मजा आयेगा खास

    दारू तिया वाईन - टेस्ट एकदम फाईन

    दारू चौके बियर - डालो नेक्स्ट गियर

    दारू पंजे रम - भूल जाओ गम

    दारू छक्के ब्रांडी - खाओ चिकन हाँडी

    दारू सत्ते व्हिस्की - काॅकटेल है रिस्की

    दारू अठ्ठे बेवडा - लाओ सेव चिवडा

    दारू नम्मे खंबा - ज्यादा हो गइ, थांबा

    दारू दहाम चस्का - नेक्स्ट पार्टी किसका?