• एक मर्द का दर्द!

    पिछले हफ्ते मेरी दाढ़ में दर्द हुआ और मैं जिंदगी में पहली बार दाँतों के डॉक्टर के पास गया। रिसेप्शन में बैठे-बैठे मेरी नजर वहाँ दीवार पर लगी डॉक्टर की डिग्री पर पड़ी और उस पर लिखे डॉक्टर के नाम को पढ़ते ही मानो मुझ पर बिजली गिर पड़ी।

    "डॉ. नंदिता प्रधान" यानि, स्कूल के दिनों की हमारी क्लास की हीरोइन। गोरी-चिट्टी, ऊँची-लम्बी, घुँघराले बालों वाली खूबसूरत लड़की।

    अब झूठ क्या बोलूँ, क्लास के दूसरे लड़कों के साथ साथ मैं खुद भी उस पर मरता था, अपनी नंदू पर।

    मेरे दिल की धड़कन बढ़ गई। मेरा नंबर आने पर मैंने धड़कते दिल से, नंदू के चेम्बर में प्रवेश किया। उसके माथे पर झूलते घुँघराले बाल अब हट चुके थे, गुलाबी गाल अब फूलकर गोल गोल हो गए थे, नीली आँखें मोटे चश्मे के पीछे छुप गयी थीं लेकिन फिर भी नंदू बहुत रौबदार लग रही थी।

    लेकिन उसने मुझे पहचाना नहीं। मेरी दाढ़ की जाँच हो जाने के बाद मैंने ही उससे पूछा, "तुम कान्वेंट में पढ़ती थी ना?"

    वो बोली, "हाँ"

    मैंने पूछा, "10 वीं से कब निकली? 1991 में ना?"

    वो बोली, "करेक्ट! लेकिन आपको कैसे मालूम?"

    मैंने मुस्कराते हुए जवाब दिया, "अरे, तुम मेरी ही क्लास में थी।"

    फिर
    वो
    भैंस,
    चश्मिश,
    हथनी,
    मोटी,
    भद्दी,
    टुनटुन
    मुझसे बोली... "सर आप कौन सा सब्जेक्ट पढ़ाते थे?"
  • अच्छा शिक्षक!

    एक बार गणित के शिक्षक ने पप्पू को बुलाया और अपनी कापी चेक कराने के लिए कहा।

    पप्पू: मास्टरजी मैंने तो होमवर्क किया ही नहीं।

    मास्टर: तुम्हारा तो पढने में मन ही नहीं लगता, अब बताओ की होमवर्क ना करने का तुम्हारे पास क्या बहाना है?

    पप्पू: जी मास्टर जी वो कल आपने जो गुणा-भाग समझाया था ना वो मुझे समझ नहीं आया।

    मास्टर: नालायक तुम्हे वह सामान्य सा गुणा-भाग समझ नहीं आया, मैं जब तुम्हारी उम्र का था तो 15-15 अंकों वाला गुणा-भाग चुटकियों में कर देता था।

    पप्पू: कर देते होंगे मास्टर जी, क्योंकि आपको पक्का कोई अच्छा टीचर पढाता होगे।
  • शराबी की मज़बूरी!

    शराब की लत से प्रेशान एक शख्स डॉक्टर के पास गया और बोला, "डॉक्टर साहब मेरी शराब छुडाओ।"

    डॉक्टर ने पूछा: रोजाना कितनी पीते हो?

    शराबी बोला: चार पैग।

    डॉक्टर बोला: धीरे-धीरे एक पैग कम कर दो।

    शराबी एक हफ्ते बाद डॉक्टर के पास पहुंचा।

    डॉक्टर ने पूछा: अब कितनी शराब पीते हो?

    शराबी ने जवाब दिया: तीन पैग।

    डॉक्टर ने कहा: अब एक पैग और कम कर दो।

    दो हफ्ते बाद शराबी फिर डॉक्टर के पास गया।

    डॉक्टर ने पूछा: अब कितनी पीते हो मेरे भाई।

    शराबी बोला: सर दो पैग।

    डॉक्टर ने बोला: बस अब एक पैग और कम कर दो।

    शराबी ने उदास होकर जवाब दिया: सॉरी डॉक्टर साहब पूरी बोतल को एक पैग में तो नहीं खत्म कर सकता मैं।
  • पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट!

    एक दिन दफ्तर से घर आते हुए पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट हो गयी,
    और जो बीवी से मिलने की जल्दी थी वह ज़रा सी लेट हो गयी;

    जाते ही बीवी ने आँखे दिखाई - आदत अनुसार हम पर चिल्लाई;
    तुम क्या समझते हो मुझे नहीं है किसी बात का इल्म;
    जरुर देख रहे होगे तुम सक्रेटरी के साथ कोई फिल्म;

    मैंने कहा, "अरी पगली, घर आते ही ऐसे झिडकियां मत दिया कर;
    कभी तो छोड़ दे, मुझ बेचारे पर इस तरह शक मत किया कर";

    पत्नी फिर तेज होकर बोली, "मुझे बेवकूफ बना रहे हो;
    6 बजे दफ्तर बंद होता है और तुम 10 बजे आ रहे हो";

    मैंने कहा, "अब छोड़ यह धुन -
    मेरी बात ज़रा ध्यान से सुन";
    एक आदमी का एक हज़ार का नोट खो गया था;
    और वह उसे ढूंढने के जिद्द पर अड़ा था";

    पत्नी बोली, "तो तुम उसकी मदद कर रहे थे';
    मैंने कहा, "नहीं रे पगली मै ही तो उस पर खड़ा था";

    सुनते ही पत्नी हो गयी लोट-पोट;
    और बोली, "कहाँ है वह हज़ार का नोट";

    मैंने कहा, "बाकी तो खर्च हो गया यह लो सौ रुपये का नोट";

    वह बोली, "क्या सब खा गए बाकी के 900 कहाँ गए";

    मैंने कहा, "असल में जब उस नोट के ऊपर मै खडा था;
    तो एक लडकी की निगाह में उसी वक़्त मेरा पैर पडा था;
    कही वह कुछ बक ना दे इसलिए वह लडकी मनानी पडी;
    उसे उसी की पसंद के पिक्चर हाल में फिल्म दिखानी पडी;
    फिर उसे एक बढ़िया से रेस्टोरेन्ट में खाना खिलाना पड़ा;
    और फिर उसे अपनी बाइक से घर भी छोड़कर आना पड़ा;
    तब कहीं जाकर तुम्हारे लिए सौ रुपये बचा पाया हूँ;
    यूँ समझो जानू तुम्हारे लिए पानी पूरी का इंतजाम कर लाया हूँ";

    अब तो बीवी रजामंद थी - क्योंकि पानी पूरी उसे बेहद पसंद थी;
    तुरंत मुस्कुराकर बोली, "मै भी कितनी पागल हूँ इतनी देर से ऐसे ही बक बक किये जा रही थी;
    सच में आप मेरा कितना ख़याल रखते है और मै हूँ कि आप पर शक किये जा रही थी"!