• मास्टर तो मास्टर ही हैं!

    एक मास्टर जी के घर में 7-8 मास्टर मेहमान आ गए।

    मास्टर जी की बीवी बोली, "घर मे चीनी नहीं है, चाय कैसे बनाऊँ?"

    मास्टर ने कहा, "तुम सिर्फ चाय बनाकर ले आओ, बाकी मैं संभाल लूंगा।"

    बीवी चाय बनाकर ले आई।

    मास्टर जी ने कहा, "जिस के हिस्से में फीकी चाय आएगी, कल हम सब उनके घर मेहमान बनकर खाने के लिए आएंगे।"

    सभी मास्टरों ने खुशी से चाय पी ली। एक ने तो यहाँ तक कह दिया, "मेरी चाय में तो इतनी चीनी है, कि डर है कहीं डायबिटीज ना हो जाए।"
  • मोबाइल और लड़की!

    मोबाईल बना हैँ हर लड़की की शान,
    मिस कॉल करके लड़कों को करती हैँ परेशान;
    SMS मेँ लिखती Miss You मेरी जान,
    तुम्हारी आवाज़ सुनने को तरसे मेरे कान;

    4-5 Boyfriend बना कर कहती हैँ एक,
    तुम्हीं तो हो मेरी जान;

    अपने राज सहेलियोँ को बताकर करती हैँ हैरान,
    कहती हैँ लड़को को उल्लू बनाना है आसान;

    होश मेँ आओ मेरे भाई लो इनको पहचान,
    मत पड़ो इनके चक्कर मेँ लड़कियाँ होती हैं शैतान;

    लड़को के जनहित मेँ जारी, लड़कियाँ हैँ बड़ी अत्याचारी!
  • सास से प्यार!

    यह एक जग प्रसिद्ध सच है कि सभी बहुओं को अपनी सास से परेशानी रहती है।

    ऐसे ही एक दिन सभी बहुएं इकट्ठी हुई और उन्होंने फैसला किया कि, वे सब अपनी सास से माफ़ी मांगेगी और कहेंगी, उन्होंने जो भी किया उनसे वो गलती से हुआ।

    एक हफ्ते बाद सभी बहुओं ने पिकनिक जाने का कार्यक्रम बनाया, जिसमें पूरे परिवार के साथ अपनी अपनी सास को भी ले गयी।

    सारी सास एक ही बस में थी जो सबसे आगे चली थी रास्ते में उनकी बस का एक्सिडेंट हो गया।

    और सभी सास मर गयी, सारी बहुएं जोर-जोर से बिलख-बिलख कर रो रही थी।

    पर एक बहु को शायद कुछ ज्यादा ही दुःख हुआ वो जमीन पर हाथ पटक पटक कर रो रही थी। सभी उसे सांत्वना देकर कह रहे थे, कम से कम तुम्हारी सास बिना किसी चिंता के मरी है। तुम्हारा उससे कोई झगड़ा नहीं था पर वो अभी भी जोर-जोर से चिल्ला रही थी।

    जब वो बार-बार बोलने पर चुप नहीं हो रही थी तो एक औरत ने उसे पूछा, "तुम इतना क्यों चिल्ला रही हो, क्या तुम्हारी सास ज्यादा खास थी?"

    उस औरत ने अपने आप को थोड़ा संभाला और सिसकते हुए कहा, "नहीं, उनसे बस छूट गयी है।"
  • डॉक्टर से तो बढई भला!

    एक बार एक आदमी डॉक्टर के पास गया और बोला;

    आदमी: डॉक्टर साहब, मैं बहुत परेशान हूँ, जब भी मैं बिस्तर पर लेटता हूँ तो मुझे लगता है की बिस्तर के नीचे कोई है। जब मैं बिस्तर के नीचे देखने जाता हूँ तो लगता है ऊपर कोई है। नीचे, ऊपर, नीचे, ऊपर यही करता रहता हूँ, सो नहीं पता। मेरा अच्छा सा इलाज़ कीजिये नहीं तो मैं पागल हो जाऊंगा।

    डॉक्टर: तुम्हारा इलाज़ लगभग दो साल तक चलेगा, तुम्हे हफ्ते में तीन बार आना पड़ेगा, और अगर तुमने मेरे बताये अनुसार इलाज़ किया तो तुम बिलकुल ठीक हो जाओगे।

    आदमी: डॉक्टर साहब, पर आपकी फीस कितनी होगी?

    डॉक्टर: 100 रुपये एक बार आने के और 200 रुपये एक महीने की दवाई के।

    आदमी गरीब था, इसीलिए फिर आने का कह कर चला गया।

    6 महीने बाद वही आदमी डॉक्टर को सड़क पर घूमते हुए मिला तो डॉक्टर ने उस से पूछा," क्यों भाई, तुम अपना इलाज़ करवाने क्यों नहीं आये?"

    आदमी: "डॉक्टर साहब जिस इलाज के आप 300 रुपये मांग रहे थे, वह मेरे पडोसी ने सिर्फ 20 रूपए में कर दिया"।

    डॉक्टर ने हैरानी से पूछा: अच्छा वो कैसे?

    आदमी: "जी वो एक बढई है, और उसने मेरे पलंग के चारो पाँव सिर्फ 5 रुपये प्रति पाँव के हिसाब से काट दिए"।