• दोस्तों का अंतर!

    लड़की का फेसबुक पे स्टेटस - वो बेवफा निकला।

    कमेंट्स लड़कों के:

    1. डिअर, वो आपके लायक था ही नहीं।
    2. तुम कहाँ वो साला बन्दर कहाँ।
    3. हमने तो पहले ही कहा, सब मेरे जैसे नहीं होते।
    4. कभी हमें अजमा के देखो, पता चलेगा भरोसा क्या है।
    5. जो भी हुआ अच्छा ही हुआ, चिंता मत करो जानू।
    लड़के का फेसबुक पे स्टेटस - वो बेवफा निकली।

    कमेंट्स नजदीकी दोस्तों के:

    1. साले, तेरी शकल ही गधे जैसी है।
    2. तेरे से बस आज तक कोई पटी है?
    3. तुझ जैसो से भी लड़की पटेगी।
    4. उससे तेरी नामर्दी का पता चल गया होगा।
    5. तेरे से कुछ नहीं होगा बच्चे, चल अब उसका नम्बर मुझे दे।
  • औरतें और उनकी ख़ूबसूरती!

    कुदरत ने औरतों को हसीन बनाया;
    खूबसूरती दी;
    चाँद सा चेहरा दिया;
    हिरनी सी आँखे;
    मोरनी सी चाल;
    रेशम जैसे बाल!
    कोयल जैसे मीठी आव़ाज!
    फूलों सी मासुमियत दी;
    गुलाब से होंठ;
    शहद सी मिठास दी;
    प्यार भरा दिल दिया;
    फिर जुबान दी;
    और फिर इन सबका सत्यानाश हो गया।
    जब भी इन्होंने अपना मुंह खोला, बस हर वक़्त टे टे टे टे टे टे टे टे टे...
  • काबिल कुता!

    एक दुकान के बाहर लिखा था, "इन्सानों की तरह बात करने वाला कुत्ता बिकाऊ है।"

    एक आदमी दुकानदार से जाकर बोला, "मैं उस कुत्ते को देखना चाहता हूं।"

    दुकानदार ने कहा,"साथ के कमरे में बैठा है, जा कर मिल लो।"

    ग्राहक उस कमरे में गया तो उसने देखा, कुर्सी पर एक हट्टा-कट्टा कुत्ता बैठा था तो उसने उस से पूछा, "क्यों भई, तुम यहां क्या कर रहे हो?"

    कुता बोला, "कर तो मैं बहुत कुछ सकता हूं, लेकिन आजकल इस दुकान की रखवाली करता हूं। इससे पहले अमेरिका के जासूसी महकमे में काम करता था और कई खूंखार आतंकवादियों को पकड़वाया, फिर मैं इंग्लैंड चला गया जहां पुलिस के लिए मुखबरी करता था। एक साल बाद यहां आ गया।"

    कुत्ते की बात सुन उस आदमी ने दुकानदार से पूछा, "इतने गुणवान कुत्ते को आप बेचना क्यों चाहते हैं?"

    दुकानदार: जी क्योंकि यह अव्वल नम्बर का झूठा है।
  • थप्पड़ और निंदा!

    संता ने बंता को थप्पड़ मार दिया।
    बंता ने तुरंत कड़े शब्दों में इसकी निंदा कर दी।

    संता ने बंता को फिर थप्पड़ मारा।
    बंता ने और कड़े शब्दों में इसकी निंदा कर दी।

    संता ने बंता को फिर से थप्पड़ मारा।
    बंता ने और कड़े शब्दों में इसकी निंदा की और इन हरकतों से बाज आने की चेतावनी जारी कर दिया।

    संता ने बंता को फिर थप्पड़ मारा।
    बंता ने इसे निंदनीय कृत्य निरूपित किया और कहा कि यह हमला संता के हताशा का परिचायक है।

    संता ने बंता को फिर से थप्पड़ मारा।
    अबकी बार बंता ने अपने चारों ओर सुरक्षा कड़ी करने के निर्देश जारी कर दिया, और दो टूक शब्दों में संता को बता दिया कि यह हमला कायराना हरकत है।

    संता ने बंता को फिर से थप्पड़ मारा।
    अबकी बार बंता ने फौरन मीटिंग बुला कर सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की और आवश्यक निर्देश जारी कर दिया और संता को उचित समय पर कार्यवाही की चेतावनी दी।

    संता ने बंता को फिर से थप्पड़ मारा।
    अबकी बार बंता अपने सुरक्षा कर्मियों को संता के घर के चारों तरफ तैनात की हमले के लिए तैयार रहने का निर्देश देता है।

    संता माहौल को भांप कर बंता को शांति वार्ता के लिए नियंत्रण देता है।

    अगले दिन बंता संता की बीवी के लिए सूट का कपड़ा, शाल तथा बच्चों के लिए मिठाई लेकर शांतिवार्ता के लिए पहुंच जाता है, वार्ता सौहार्दपूर्ण माहौल में संपन्न होती है।

    बंता सीना फुलाकर वापस आ जाता है।

    अगले दिन बंता को फिर थप्पड़ पड़ता है और मेरे पास घटना का वर्णन करने के लिए शब्द खत्म हो गये, लेकिन सिलसिला जारी है।