• कला का पारखी!

    जुम्मन मियां की बाजार की एक गली में छोटी सी मगर बहुत पुरानी कपड़े सीने की दुकान थी।

    उनकी इकलौती सिलाई मशीन के बगल में एक बिल्ली बैठी एक पुराने गंदे कटोरे में दूध पी रही थी।

    एक बहुत बड़ा कला पारखी जुम्मन मियां की दुकान के सामने से गुजरा। कला पारखी होने के कारण जान गया कि कटोरा एक एंटीक आइटम है और कला के बाजार में बढ़िया कीमत में बिकेगा।

    लेकिन वह ये नहीं चाहता था की जुम्मन मियां को इस बात का पता लगे कि उनके पास मौजूद वह गंदा सा पुराना कटोरा इतना कीमती है। उसने दिमाग लगाया और जुम्मन मियां से बोला,- 'बड़े मियां, आदाब, आपकी बिल्ली बहुत प्यारी है, मुझे पसंद आ गई है। क्या आप बिल्ली मुझे देंगे? चाहे तो कीमत ले लीजिए।'

    जुम्मन मियां ने पहले तो इनकार किया मगर जब कलापारखी कीमत बढ़ाते-बढ़ाते दस हजार रुपयों तक पहुंच गया तो जुम्मन मियां बिल्ली बेचने को राजी हो गए और दाम चुकाकर कला पारखी बिल्ली लेकर जाने लगा।

    अचानक वह रुका और पलटकर जुम्मन मियां से बोला- `बड़े मियां बिल्ली तो आपने बेच दी। अब इस पुराने कटोरे का आप क्या करोगे? इसे भी मुझे ही दे दीजिए। बिल्ली को दूध पिलाने के काम आएगा। चाहे तो इसके भी 100-50 रुपए ले लीजिए।'

    जुम्मन मियां ने बड़े प्यार से कटोरे को सहलाते हुए जवाब दिया, `नहीं साहब, कटोरा तो मैं किसी कीमत पर नहीं बेचूंगा, क्योंकि इसी कटोरे की वजह से आज तक मैं 50 बिल्लियां बेच चुका हूं।
  • खुराफाती पप्पू!

    एक बार मास्टर जी अपनी क्लास के बच्चो से पूछने लगे, `बच्चो जिस तरह Twenty - 20 क्रिकेट आने से क्रिकेट देखने का मजा बढ़ गया, उसी तरह तुम्हारी परीक्षा लेने का तरीका किस तरह से रोमांचक बनाया जा सकता है?`

    जब कोई नहीँ बोला तो पप्पू इस सवाल का जवाब देने के लिए खड़ा हो गया।

    मास्टर जी उसके खुराफाती दिमाग को जानते थे। आँखें तरेरी पर फिर भी न चाहते हुए बोले, `जल्दी से बता।`

    पप्पू गंभीर होकर बोला, `मास्टर जी हमारा पेपर एक घंटा 20 मिनट का होना चाहिए। हर बीस मिनट के बाद छात्रों को आपस मेँ बात करने के लिए के लिए दो मिनट का `Time Off ` मिलना चाहिए।

    बच्चों को एक `Free Hit` मिलनी चाहिए, जिसमेँ बच्चे किसी भी एक सवाल का अपनी मर्जी से उत्तर लिख सकेँ।

    पहले 20 मिनट मेँ `Power Play` होना चाहिए जिसमे ड्यूटी वाला मास्टर कमरे से बाहर रहे।

    और हर एक सही उत्तर लिखने पर `Cheer Leaders` आकर कमरे मेँ डांस करेँ।`
  • मेरा दोस्त हीरा है!

    छगन को लड़की वाले देखने आये!

    छगन थोडा नर्वस हो रहा था इसलिए उसने अपने दोस्त पप्पू को भी बुला लिया था!

    लड़की के पिता ने पूछा - `बेटा शराब पीते हो ?`

    छगन - `जी नहीं, शराब तो दूर की बात है मैं तो बीड़ी सिगरेट तक नहीं पीता !`

    लड़की का बाप - `जुआ बगैरह खेलते हो ?`

    छगन - `नहीं, मैंने तो कभी ताश को हाथ तक नहीं लगाया ...`

    लड़की का बाप - `बहुत अच्छा बेटा, एक बात और बताओ बस ... किसी लड़की -वडकी से चक्कर तो नहीं है ?`

    छगन - `जी नहीं ...! मैंने आज तक किसी लड़की पर बुरी नजर नहीं डाली !`

    लड़की का बाप अपने साथ आये आदमी से बोला - `लड़का तो सचमुच बहुत अच्छा है ...! !`

    यह सुनते ही छगन का दोस्त पप्पू बोला - `आप सही कह रहे हैं अंकल जी ... एकाध छोटी-मोटी कमी को छोड़ दें तो मेरा दोस्त हीरा है हीरा !`

    लड़की का बाप - `कमी ? कैसी कमी बेटा ?`

    पप्पू - `कुछ ख़ास नहीं ... बस इसे हर बात में झूठ बोलने की बुरी आदत है !!!`
  • हाँ या ना में जवाब!

    एक बार कचहरी में एक गवाह बहुत लम्बे लम्बे बयान दे रहा था जिस कारण सरकारी वकील नाराज हो गया और गवाह से बोला, "इतना अधिक बोलने की जरूरत नहीं है। तुमसे जो पूछा जाये उसका जवाब केवल हाँ या ना में ही दो।"

    गवाह: लेकिन हुजूर हर सवाल का जवाब हाँ या ना में नहीं दिया जा सकता।

    वकील: क्यों नहीं दिया जा सकता, बिलकुल दिया जा सकता है। तुम मुझसे कोई भी सवाल पूछो मैं केवल हाँ या ना में जवाब देकर दिखाता हूँ।

    गवाह: तो ठीक है हुजूर आपकी ज़िद्द पर मैं आपसे एक सवाल पूछता हूँ। आप सिर्फ हाँ या ना में ही जवाब दीजियेगा।

    वकील: ठीक है पूछो।

    गवाह: अच्छा बताइये कि आपकी बीवी ने आपको पीटना छोड़ दिया या नहीं?

    बेचारे वकील बाबू अब तक कोमा में हैं।