• नहाना भी गलती है!

    रविवार के दिन पति देव थोड़ी देरी से उठे और उठते ही बोले, "आज तो बड़ी गर्मी है, ठन्डे-ठन्डे पानी से नहाया जाये"... (सीटी बजाते हुए बाथरूम में घुस गए)

    नहाने के बाद पति: अरे सुनो ज़रा तौलिया देना।

    पत्नी (चिल्लाते हुए): तुम्हारा हमेशा का ही यह काम है, बिना तौलिये के नहाने जाते हो। अब मैं नाश्ता बनाऊँ या तुम्हें तौलिया दूँ। चड्डी बनियान भी धो के नल पे टांग देते हो उसे भी मुझे ही उठाना पड़ता है। आज तक नहाने के बाद कभी वाइपर भी नहीं लगाया। फिर दूसरे चड्डी बनियान के लिए भी मुझे बुलाओगे।

    कल तो बाल्टी भी खली छोड़ दी थी तुमने। फिर जब बाहर निकलोगे तो पूरे घर में गीले पैरों के निशान बना दोगे। फिर उस पर मिटटी पड़ेगी तो सब जगह गन्दी हो जाएगी। एक बार नौकरानी उसपे फिसल गयी थी फिर 3 दिन तक नहीं आई थी। पता है मेरा क्या हाल हुआ था काम कर कर के।

    पति (मन में सोचते हुए ): साला नहा कर गलती कर दी।
  • मेड इन इंडिया!

    एक जापानी पर्यटक भारत की सैर पर आया हुआ था। आखिरी दिन उसने एयरपोर्ट जाने के लिए एक टैक्सी ली और ड्राइवर को चलने के लिए कहा।

    यात्रा के दौरान एक 'होण्डा' बगल से गुज़री। जापानी ने उत्तेजित होकर खिड़की से सिर निकाला और चिल्लाया‚ `होण्डा‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!`

    कुछ देर बाद एक 'टोयोटा' तेज़ी से टैक्सी के पास से गुज़री‚ और फिर जापानी बाहर झुका और चिल्लाया‚ `टोयोटा‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!`

    और फिर एक 'मित्सुबिशी' टैक्सी की बगल से गुज़री। तीसरी बार जापानी खिड़की की ओर झुकते हुए चिल्लाया‚ `मित्सुबिशी‚ वेरी फास्ट! मेड इन जापान!`

    ड्राइवर थोड़ा ग़ुस्से में आ गया मगर चुप रहा और कई सारी कारें गुज़रती रहीं।

    आखिरकार टैक्सी एयरपोर्ट तक पहुँच गयी। किराया 800 रु. बना। जापानी चीखा‚ `क्या? इतना ज़्यादा!`

    तो ड्राइवर चिल्लाया, `मीटर‚ वेरी फास्ट! मेड इन इंडिया।`
  • चाँद का दीदार!

    एक लड़की ने अपने बॉयफ्रेंड से कहा, "तुम मेरे लिए क्या कर सकते हो?"

    लड़का: जो तुम कहो डार्लिंग।

    लड़की: क्या तुम मेरे लिए चाँद ला सकते हो?

    लड़का गया और थोड़ी देर बाद हाथ में कुछ चीज़ छिपा कर लाया और लड़की से कहा, "आँखे बंद करो।"

    लड़की ने आँखें बंद की तो लड़के ने वो चीज़ लड़की के हाथो में दी और लड़की से आँखे खोलने को कहा।

    लड़की ने आखें खोली तो उस चीज़ को देख उसकी आँखों में आंसू थे। क्योकि उसके हाथों में एक आइना था जिसमे उस लड़की का चेहरा नज़र आ रहा था।

    लड़की: तुम मुझे चाँद सा समझते हो?

    लड़का: नहीं, मैं तो तुम्हें सिर्फ ये समझा रहा था कि जिस मुँह से चाँद मांग रही हैं कभी वो थोबड़ा आईने में भी देखा है या नहीं?
  • प्रेम पत्र!

    एक सुन्दर युवती दवाईयों की एक दुकान के सामने काफी देर तक खडी थी। भीड़ छटने का इंतज़ार कर रही थी। दुकान का मालिक उसे शक की नजर से घूर रहा था।

    बहुत देर बाद जब दुकान मे कोई ग्राहक नही बचा, तो वह लड़की दुकान मे आयी।

    एक सेल्समन को धीरे से एक किनारे बुलाया।

    दुकान मालिक अब और भी ज्यादा चौकन्ना हो गया।

    लड़की ने धीरे से एक कागज़ सेल्समन की ओर बढाया और धीरे से फुसफुसायी,

    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    "भैया, मेरी एक डॉक्टर के साथ शादी तय हो गयी है। आज उनकी पहली चिठ्ठी आयी है। थोडा पढ़कर सुनायेंगे क्या?