• राज़ की बात!

    भारतीय लड़कियां खेलों में अच्छी क्यों नहीं हैं?

    क्योंकि, सिर्फ 10% क्रिकेट, हॉकी, टेनिस, बैडमिंटन, शतरंज आदि खेलती हैं बाकि कि 90% तो "जानू" से खेलने में व्यस्त रहती हैं।

    जानू कहाँ हो?

    जानू क्या कर रहे हो?

    जानू कब आओगे?

    जानू आप मुझसे प्यार करते हो न?

    जानू किसके साथ हो?

    जानू मुझे ये चाहिए।

    जानू फिल्म देखने चलें, जानू ये क्या है?

    जानू क्या किया दिनभर?

    जानू आपने मुझे याद किया न?

    जानू कुछ तो बोलो।

    जानू मुझे आपकी बहुत याद आ रही है।

    जानू ये।

    जानू वो।

    जानू कुछ नहीं।

    "जान ले लो जानू की।"
  • शादी के बाद पति - पत्नी!

    शादी के बाद पत्नी कैसे बदलती है, जरा गौर कीजिए:

    पहले साल: मैंने कहा जी खाना खा लीजिए, आपने काफी देर से कुछ खाया नहीं।
    दूसरे साल: जी खाना तैयार है, लगा दूं?
    तीसरे साल: खाना बन चुका है, जब खाना हो तब बता देना।
    चौथे साल: खाना बनाकर रख दिया है, मैं बाजार जा रही हूं, खुद ही निकाल कर खा लेना।
    पांचवे साल: मैं कहती हूं आज मुझ से खाना नहीं बनेगा, होटल से ले आओ।
    छठे साल: जब देखो खाना, खाना और खाना, अभी सुबह ही तो खाया था।

    शादी के बाद पति कैसे बदलते हैं, जरा गौर कीजिए:

    पहले साल: जानू संभलकर उधर गड्ढा है।
    दूसरे साल: अरे यार देख के उधर गड्ढा है।
    तीसरे साल: दिखता नहीं उधर गड्ढा है।
    चौथे साल: अंधी है क्या गड्ढा नहीं दिखता।
    पांचवे साल: अरे उधर - किधर मरने जा रही है गड्ढा तो इधर है।
  • बुरे फंसे यार!

    एक आदमी की उम्र 35 वर्ष हो चुकी थी पर अभी तक उसकी शादी नही हुई थी, उसके दोस्त उसे अक्सर शादी के करने के लिए कहते रहते पर वह हर बार यही कहता कर लेंगे कर लेंगे।

    एक दिन उसके दोस्त ने उसे गंभीरता से पूछ ही लिया, "अरे यार, क्या बात है क्या तुम एक अच्छी लड़की की तलाश में हो या सारी जिन्दगी ऐसे ही रहना है? क्या अभी तक तुमने अपनी पसंद की कोई लड़की नही देखी?"

    आदमी: नही मैं कई अच्छी लड़कियों से मिला, मैंने उन्हें अपने घर वालों से भी मिलवाया पर मेरी माँ को वो बिल्कुल भी पसंद नही आयी, तभी आज तक मैं बस लड़कियां ही ढूंढ रहा हूँ।

    उसके दोस्त ने कहा तुम एक काम क्यों नही करते कि अपनी माँ की पसंद की कोई लड़की ढूंढ लो?

    फिर दोनों दोस्त कई दिनों के बाद मिले उसके दोस्त ने पूछा, "क्या तुम्हें कोई लड़की मिली जिसे तुम्हारी माँ ने भी पसंद किया?"

    आदमी: हाँ यार मैंने एक लड़की को पसंद किया जो मेरी माँ को भी पसंद है, वो बिल्कुल मेरी माँ जैसी है, मेरी माँ उसे बहुत प्यार करती है और उन दोनों की आपस में खूब पटती है।

    दोस्त: तो फिर तो तुमने अभी तक इस लड़की से सगाई कर ली होगी।

    आदमी: अरे नही यार, कहाँ कर ली सगाई।

    दोस्त: क्यों क्या हुआ?

    आदमी: वो लड़की मेरे बाप को पसंद नहीं है। क्योंकि वो मेरी माँ जैसी है।
  • अनोखा परीक्षण!

    एक बदसूरत काला सा आदमी जुकाम की शिकायत लेकर डाक्टर के पास गया। डाक्टर ने उसे सरसरी निगाह से देखकर कहा कि वो अपने कपडे उतार दे और दोनों हाथों को जमीन पर टिका दे।

    आदमी हैरान परेशान हो गया पर उसने वैसा ही किया जैसा कि डॉक्टर ने उसे करने के लिए कहा।

    डाक्टर: ठीक है, अब जानवरों की तरह चलिए, और कमरे के दायें कोने में जाएं।

    आदमी ने यही किया।

    डाक्टर: ठीक अब बाएँ कोने में जाएं।

    आदमी उधर चला गया।

    डॉक्टर: अब इस कोने में, अब उस कोने में, अब सामने, अब बीच में।

    आदमी घबरा के उठ खड़ा हुआ और बोला, "डाक्टर साहब, कोई गंभीर बीमारी तो नहीं हो गयी मुझे?"

    डॉक्टर: अरे नहीं, मामूली जुकाम है, ये दो गोली लो सुबह तक ठीक हो जाओगे।

    आदमी: पर डॉक्टर साहब आपने ये मेरा एक घंटे तक इस तरह परीक्षण क्यों किया?

    डॉक्टर: कुछ नहीं यार, बात यह है कि मैंने एक काले रंग का सोफा ख़रीदा है, मैं देखना चाहता था इस कमरे में वो किस जगह ठीक दिखेगा।