• ख़ुशी मिलती है!

    एक आदमी ने एक वकील के ऑफिस में फ़ोन किया और वकील का नाम लेकर कहा कि मैं अपने वकील से बात करना चाहता हूँ।

    रिसेप्शन वाले ने कहा, "जी माफ़ कीजिये, पिछले हफ्ते ही उनका देहांत हो गया।"

    अगले दिन फिर से उस आदमी ने उसी तरह पूछा, "जी, क्या मैं अपने वकील के साथ बात कर सकता हूँ?"

    रिसेप्शन वाले ने फिर से वही बात कही कि माफ़ कीजिये उनका पिछले हफ्ते देहांत हो गया।

    अगले दिन फिर से उस आदमी ने फोन किया, "क्या मैं अपने वकील से बात कर सकता हूँ?"

    रिसेप्शन वाले ने उस दिन दुखी होकर उसे पूछ ही लिया, "सर आज ये आपका तीसरा दिन है, लगातार मैं आपको बता रहा हूँ कि आपके वकील मर चुके हैं। आप फिर भी बार-बार फोन करके क्यों पूछ रहे हैं?"

    उस आदमी ने बड़ी सहजता से जवाब दिया, "क्योंकि यह सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी मिलती है कि अब मेरे पैसे बच जायेंगे।"
  • भलाई का ज़माना नहीं!

    एक साहब सुबह ऑफिस जाने के लिए बस में सवार हुए तो कंडक्टर ने सवाल किया, "रात ठीक-ठाक घर पहुंच गए थे?"

    आदमी ने बड़ी हैरानी से कंडक्टर की तरफ देखा और पूछा, "क्यों, मुझे क्या हुआ था रात को?"

    कंडक्टर ने जवाब दिया, "कल रात आप शराब पीकर टुन्न थे ना इसलिए।"

    आदमी: तुम्हें कैसे पता चला? मैंने तो तुम से बात तक नहीं की थी।

    कंडक्टर: आप जब बस में बैठे हुए थे तो एक मैडम बस में चढ़ी थीं, जिन्हें आपने उठकर अपनी सीट ऑफर की थी।

    आदमी: तो इसमें मैंने क्या गलत किया?

    कंडक्टर: अरे उस समय बस में केवल आप दो ही पैसेन्जर थे साहब।
  • बाकी पैसे कहाँ हैं?

    एक मंत्री जी भाषण दे रहे थे उसमें उन्होंने एक कहानी सुनाई:

    एक व्यक्ति के तीन बेटे थे, उसने तीनों को 100-100 रूपए दिए और ऐसी वस्तु लाने को कहा जिससे कमरा पूरी तरह भर जाये।

    पहला पुत्र 100 रूपए की घास लाया पर उससे पूरी तरह कमरा नही भरा।

    दूसरा पुत्र 100 रूपए का कपास लाया उससे भी कमरा पूरी तरह नही भरा।

    तीसरा पुत्र 1 रूपए की मोमबती लाया और उससे पूरा कमरा प्रकाशित हो गया।

    आगे उस मंत्री ने कहा हमारे प्रधानमंत्री उस तीसरे पुत्र की तरह है, जिस दिन से राजनीति में आये है उसी दिन से हमारा देश उज्जवल प्रकाश और समृद्धि से जगमगा रहा है।

    तभी पीछे से किसी आदमी की आवाज आई वो सब तो ठीक है बाकी के 99 रूपए कहाँ है?
  • पति पर निबंध!

    पति एक घरेलू प्राणी है , यह सभी घरों में अनिवार्य रूप से पाया जाता है।

    इस घरेलू प्राणी को पालने का पूरा अधिकार पत्नी पद से सम्मानित महिला को प्राप्त होता है।

    1. इसकी दो आंखे होती है जिससे यह मूक रहकर मात्र देखता है।

    2. इसके दो कान होते है जिससे पत्नी कि डांट फटकार सुनता है।

    3. इसका एक मुख होता है जिसके खुलने पर पूर्णतः पाबंदी होती है।

    4. इसकी इकलौती कटी नाक में अदृश्य नकेल होती है।

    5. यह काफी कुछ मनुष्य से मिलता जुलता प्राणी होता है।

    6. वैसे पति होने से पूर्व यह मनुष्य कि श्रेणी में होता है। पति के प्रकार:

    जोरू का गुलाम: यह प्रजाति हमारे देश में बहुतायत रूप से पायी जाती है। इस प्रजाति के पति टिकाऊ, मेहनती, सीधे व वफादार होते है। यह उम्दा नस्ल के होते है। डांट, मार, गालियाँ इन पर प्रभावहीन होती हैं। पालने के लिए यह पति सबसे अच्छे होते हैं।

    जोरू का बादशाह: यह प्रजाति धीरे धीरे लुप्त होती जा रही है। इसलिए सरकार जल्द ही इनके संरक्षण के लिए "बादशाह पति संरक्षण" नामक अभियान चलाने जा रही है।