• मानहानि का दावा!

    एक महिला ने एक आदमी पर मान हानि का दावा ठोक दिया आरोप यह था कि वह आदमी उसे सूअर कहकर बुलाता था, आदमी दोषी पाया गया और उसे जुर्माना चुकाना पड़ा!

    मुकदमे के बाद उस आदमी ने जज से पूछा जज साहब इसका मतलब हुआ कि मैं श्रीमती प्रीतो को सूअर नहीं बुला सकता?

    जज ने कहा: जी, हाँ बिल्कुल!

    फिर उस आदमी ने कहा तो इसका मतलब यह भी हुआ कि मैं किसी सूअर को श्रीमती प्रीतो नहीं बुला सकता?

    जज ने कहा तुम बिना किसी डर के सूअर को श्रीमती प्रीतो बुला सकते हो इस पर कोई मुकदमा भी नहीं कर सकता!

    फिर वह आदमी श्रीमती प्रीतो कि तरफ मुड़ा और उसकी आँखों में आँखें डालकर कहने लगा श्रीमती प्रीतो जी नमस्ते!
  • नेक सलाह!

    एक दिन बंटी अपने दोस्त पप्पू से सलाह लेने गया।

    बंटी: यार पप्पू,मैं तुमसे सलाह लेना चाहता हूँ।

    पप्पू: ज़रूर लो दोस्त, मुफ्त मिलेगी।

    बंटी: बात यह है कि मैं किसी लड़की से प्रेम करता हूँ और वो भी मुझे चाहती है। हम दोनों शादी करना चाहते है।

    पप्पू: यह तो अच्छी बात है इसमें दिक्कत क्या है?

    बंटी: मेरे पिता जी इस शादी के खिलाफ हैं।

    पप्पू: क्यों?

    बंटी: क्योंकि वो बहुत ग़रीब है और मेरे पिता जी मेरी शादी किसी विधवा से करना चाहते हैं जो कि बहुत अमीर है।

    पप्पू (कुछ सोचने के बाद): देखो दोस्त यह तुम्हारी ज़िन्दगी है। तुम वही करो जिससे तुम खुश रह सको। तुम अपनी प्रेमिका से शादी करने का पक्का फैंसला करो और अपने पिता जी को बता दो। मुझे विश्वास है कि वो तुम्हारी बात को समझ जायेंगे।

    बंटी: तुम ठीक कहते हो, मैं आज ही पिता जी से बात करता हूँ।

    पप्पू: और हाँ, उस विधवा का पता मुझे बता दो!
  • जिन्न भी हर काम नहीं कर सकता!

    एक बार संता को रास्ते में एक चिराग मिला तो उसने सोचा कि, "क्यों ना चिराग रगड़ कर देखूं शायद इसमें से कोई जिन्न ही निकल आये"।

    यह सोच कर संता ने चिराग रगडा, तो उसमे से धुंए के साथ एक जिन्न निकल कर आया और संता से बोला।

    जिन्न: क्या हुकुम है मेरे आका?

    संता: मेरे बैंक खाते में 100 करोड़ रूपए जमा करा दो।

    जिन्न: यह तो थोडा मुश्किल काम है आका कोई और हुकुम करें।

    संता: तो ठीक है मेरे घर से लेकर अमेरिका तक सीधी सड़क बना दो।

    जिन्न: आका यह काम भी थोडा नामुमकिन सा है कोई और आदेश करें?

    जिन्न की बात सुन कर संता ने ठंडी सी आह भरते हुए कहा, "अच्छा चलो कम से कम मेरी बीवी को थोड़ी सी अक्ल देकर समझदार तो बना दो"।

    संता की बात सुन कर जिन्न तपाक से बोला, "आका सड़क सिंगल लेन बनानी है या डबल लेन"?
  • तारीफ भी पड़ गयी महंगी!

    एक आदमी की शादी को 20 साल हो गए थे लेकिन उसने आज तक अपनी पत्नी के हाथ से बने खाने की तारीफ नहीं की।

    एक दिन जब वो दफ्तर से घर वापस आ रहा था तो रास्ते में उसे एक बाबा मिले। बाबा ने उस आदमी को रोका और कुछ खाने को माँगा तो आदमी ने बाबा को खाना खिला दिया। बाबा आदमी से बहुत प्रसन्न हुए तो उन्होंने आदमी से कहा कि अगर उसे कोई समस्या है तो बताओ, हम उसका हल कर देंगे।

    आदमी बोला, "बाबा जी, बहुत समय से कोशिश कर रहा हूँ लेकिन काम में तरक्की नहीं हो रही।"

    बाबा: बेटा, तुमने अपनी पत्नी के खाने की कभी तारीफ नहीं की। अपनी पत्नी के खाने की तारीफ करो, तुम्हें अवश्य तरक्की मिलेगी।

    आदमी बाबा को धन्यवाद बोल कर चल दिया।

    घर पहुँच कर उसकी पत्नी ने खाना परोसा, आदमी ने खाना खाया और खाने की जम कर तारीफ की।

    पत्नी एक दम से उठी और रसोई घर से बेलन लेकर आई और आदमी की पिटाई शुरू कर दी।

    आदमी: क्या हुआ? मैं तो तुम्हारे खाने की तारीफ कर रहा हूँ।

    पत्नी: 20 साल हो गए आज तक तो खाने की तारीफ नहीं की और आज जब पड़ोसन खाना दे कर गयी है तो तुम्हें ज़िन्दगी का मज़ा आ गया।