• सेर पर सवा सेर!

    एक बार संता और बंता दोनों एक दुकान पर गए। वहाँ सब लोगों को अपने काम में व्यस्त देख कर बंता ने 3 चॉकलेट चुरा लिए।

    जब दोनों बाहर आये तो बंता अपनी ढींगे हांकने लगा कि वो बहुत चालाक है। उसने 3 चॉक्लेट चुराए और किसी को पता भी नहीं लगने दिया। तुम ऐसा नहीं कर सकते।

    यह सुनकर संता को भी गुस्सा आ गया और बोला, "चलो मैं तुम्हें इससे भी बढ़िया चीज़ दिखाता हूँ।"

    वो दोनों वापिस अंदर चले गए। अंदर जाकर संता ने दुकानदार से कहा, "क्या तुम जादू देखना चाहते हो?"

    दुकानदार ने कहा, "हाँ, ठीक है।"

    संता: तो फिर मुझे एक चॉकलेट दो।

    दुकानदार ने संता को चॉकलेट दी और संता ने वो चॉकलेट खा ली और दूसरी चॉकलेट मांगी। दुकानदार ने दूसरी चॉकलेट भी दे दी तो संता ने उसे भी खा लिया। अब संता ने दुकानदार से तीसरी चॉकलेट मांगी और वो भी खा ली।

    दुकानदार ने पूछा, "इसमें जादू कहाँ है?"

    संता: मेरे दोस्त की जेब देखो तो तुम्हें तुम्हारी तीनों चॉकलेट वापिस मिल जाएँगी!
  • दोस्ती की ज़रूरत!

    एक बहुत बड़ा सरोवर था। उसके तट पर मोर रहता था, और वहीं पास एक मोरनी भी रहती थी। एक दिन मोर ने मोरनी से प्रस्ताव रखा कि "हम तुम विवाह कर लें, तो कैसा अच्छा रहे?"

    मोरनी ने पूछा, "तुम्हारे मित्र कितने है?"

    मोर ने कहा, "उसका कोई मित्र नहीं है।"

    तो मोरनी ने विवाह से इनकार कर दिया।

    मोर सोचने लगा सुखपूर्वक रहने के लिए मित्र बनाना भी आवश्यक है।

    उसने एक शेर से, एक कछुए से, और शेर के लिए शिकार का पता लगाने वाली टिटहरी से, दोस्ती कर लीं।

    जब उसने यह समाचार मोरनी को सुनाया, तो वह तुरंत विवाह के लिए तैयार हो गई।

    दोनों ने पेड़ पर घोंसला बनाया और उसमें अंडे दिए, और भी कितने ही पक्षी उस पेड़ पर रहते थे।

    एक दिन जंगल में कुछ शिकारी आए। दिन भर कहीं शिकार न मिला तो वे उसी पेड़ की छाया में ठहर गए और सोचने लगे, पेड़ पर चढ़कर अंडे और बच्चों से भूख बुझाई जाए।

    मोर दंपत्ति को भारी चिंता हुई, मोर मित्रों के पास सहायता के लिए दौड़ा।

    बस फिर क्या था, टिटहरी ने जोर- जोर से चिल्लाना शुरू किया। शेर समझ गया, कोई शिकार है। वह उसी पेड़ के नीचे जा पहुँचा जहाँ शिकारी बैठे थे। इतने में कछुआ भी पानी से निकलकर बाहर आ गया।

    शेर से डरकर भागते हुए शिकारियों ने कछुए को ले चलने की बात सोची। जैसे ही हाथ बढ़ाया कछुआ पानी में खिसक गया। शिकारियों के पैर दलदल में फँस गए। इतने में शेर आ पहुँचा और उन्हें ठिकाने लगा दिया।

    मोरनी ने कहा, "मैंने विवाह से पूर्व मित्रों की संख्या पूछी थी, सो बात काम की निकली न, यदि मित्र न होते, तो आज हम सबकी खैर न थी।`

    मित्रता सभी रिश्तों में अनोखा और आदर्श रिश्ता होता है। और मित्र किसी भी व्यक्ति की अनमोल पूँजी होते हैं। इसलिए अपने दोस्तों को मत भूलो और ज्यादा से ज्यादा दोस्त बनाओ।
  • सयाना पति!

    एक बार एक पति अपनी पत्नी को एक SMS भेजता है और उसमे लिखता है, " जानू आज मुझे घर पहुँचने में देर हो जायेगी इसीलिए तुम ज़रा मेरे सारे गंदे कपडे धो कर रखना और मेरे घर पहुँचने से पहले मेरा मनपसंद खाना बना कर रखना।

    कुछ देर के बाद वह फिर अपनी पत्नी को एक और SMS करता है जिसमे लिखता वह है कि, " जानू एक और बात जो मैं तुम्हे बताना भूल गया वह यह की मेरी कंपनी ने मेरी तनख्वा बढ़ा दी है और इसीलिए मैंने इस महीने के अंत में तुम्हे एक नयी गाडी दिलाने का सोचा है।

    पति जैसे ही यह SMS भेजता है उसके तुरंत बाद दूसरी तरफ से पत्नी का जवाब आता है, वाह यह तो बड़ी अच्छी खबर है, तुम सच बोल रहे हो ना?

    पत्नी का SMS पढ़ पति जवाब भेजता है, "नहीं मैं तो बस यह चेक कर रहा था की तुम्हे मेरा पहला SMS मिला या नहीं।
  • एक से बड़ कर एक!

    प्रेमी-प्रेमिका बाग में बैठे बातें कर रहे थे।

    प्रेमी: कल रात मैंने एक बहुत ही सुन्दर सपना देखा।

    प्रेमिका: अच्छा, क्या देखा सपने में?

    प्रेमी: मैंने देखा कि मेरी शादी हो गयी है, एक बहुत ही खूबसूरत और समझदार लड़की के साथ।

    प्रेमिका: तब तो मुझे मंदिर में प्रसाद चढ़ाना चाहिए।

    प्रेमी: लेकिन मेरी शादी तो किसी और के साथ हो गयी फिर तुम क्यों प्रसाद चढाओगी?

    प्रेमिका: क्योंकि मैंने मन्नत मांगी थी कि जब तुमसे मेरा पीछा छूट जायेगा तो मैं मंदिर में प्रसाद चढ़ाऊंगी!