• बीवी हो तो ऐसी!

    पत्नी : इतने लेट कैसे हो गए, क्या अपनी ऑफिस वाली के साथ पिक्चर देखने गए थे?

    पति: कभी तो शक मत किया कर, शादी की पहली रात से ही शकीली निगाहों से देखती है।

    पत्नी: तो फिर 7 बजे घर आने का टाइम होने के बाद भी रात 10 बजे आ रहे हो।

    पति: वो क्या हो गया ना की एक आदमी का 1000 रुपये का नोट गुम हो गया था।

    पत्नी: अच्छा तो तुम क्या उसे ढूंढने में मदद कर रहे थे ?

    पति: नहीं, मै उस नोट पर खड़ा था।

    पत्नी: लाओ जल्दी कहां है वो नोट।

    पति: ये लो 100 रुपए।

    पत्नी: बाकी के 900 रुपए कहां गए।

    पति: वो क्या है कि जिस लड़की ने मुझे नोट उठाते हुए देख लिया था उसे फिल्म दिखानी पड़ी और फिर सस्ते होटल में खाना खिलाया और अपने स्कूटर से घर छोड़कर आया तब जाकर ये 100 रुपए तुम्हारे लिए बचाए ताकि तुम्हारी पानी पूरी का इंतेजाम हो सके, तुम्हे बहुत पसन्द है ना।

    पत्नी: आप मेरा कितना ख्याल रखते हैं और मैं आप पर बेवजह शक कर रही थी।
  • सयाना आदिवासी!

    एक बार एक आदिवासी बाप-बेटा शिकार पे गए।

    एक पतली सी औरत को देख कर बेटे ने पूछा, "पापा इसे खा ले?"

    पिता: नहीं इस से हम दोनों का पेट नहीं भरेगा।

    आगे गए तो एक मोटी औरत नज़र आई।

    बेटा: पापा इसे खा ले?"

    पिता: नहीं, इस में मोटापा बहुत है, कोलेस्ट्रॉल बढ़ जायेगा।

    भूख से निढाल बच्चे को एक बहुत सुन्दर लड़की नज़र आई।

    बेटा: पापा, ये बिलकुल ठीक है इसे खा लेते है।

    पिता: "नहीं बेटा, इसे घर ले जाते है और तेरी मम्मी को खा लेते है।"
  • पत्नी का पत्र!

    गांव में एक स्त्री थी । उसके पति आई.टी.आई मे कार्यरत थे। वह आपने पति को पत्र लिखना चाहती थी, पर अल्पशिक्षित होने के कारण उसे यह पता नहीं था कि पूर्णविराम (Full Stop) कहां लगेगा ।

    इसीलिये उसका जहां मन करता था वहीं पूर्णविराम लगा देती थी ।

    तो एक बार उसने अपने पति को कुछ इस प्रकार चिठ्ठी लिखी:

    मेरे प्यारे जीवनसाथी मेरा प्रणाम आपके चरणो मे।

    आप ने अभी तक चिट्टी नहीं लिखी मेरी सहेली को। नौकरी मिल गयी है हमारी गाय को। बछडा दिया है दादाजी ने। शराब की लत लगाली है मैने। तुमको बहुत खत लिखे पर तुम नहीं आये कुत्ते के बच्चे। भेड़िया खा गया दो महीने का राशन। छुट्टी पर आते समय ले आना एक खूबसूरत औरत। मेरी सहेली बन गई है। और इस समय टीवी पर गाना गा रही है हमारी बकरी। बेच दी गयी है तुम्हारी मां। तुमको बहुत याद कर रही है एक पडोसन। हमें बहुत तंग करती है।

    तुम्हारी चंदा।
  • इंजीनियर!

    एक पादरी, वकील और इंजीनियर को विद्रोह के कारण मौत की सजा मिली। जब सजा देने का वक़्त आया तो अपराधियों को आखिरी ख्वाहिश की प्रथा बताई तो उन्हें गर्दन ऊपर और नीचे रखने के विकल्प मिले।

    पादरी ने ऊपर देखना स्वीकारा ताकि भगवान को देख सके और जैसे ही बटन दबाया गया तो आरी, गर्दन से सिर्फ दो इंच ऊपर रुक गई। अधिकारियों ने इसे ईश्वर की मर्जी समझ के उसे छोड़ दिया।

    वकील ने भी ऊपर देखा और जब आरी रुकी तो वह बोला कानूनन एक व्यक्ति को दो बार सजा नहीं दी जा सकती और वह भी छूट गया।

    इंजीनियर ने भी ऊपर ही देखने का फैंसला किया। जब बटन दबाया जा रहा था तो वो चिल्लाया, "एक मिनट रुको, अगर आप उस हरे और लाल तार को आपस में बदल देंगे तो काम हो जायेगा।"

    बस काम तमाम हो गया।