• गुटर-गुं!

    एक बार एक आदमी अपनी प्रेमिका के साथ पार्क में बाहों में बाहें डाल कर बैठा हुआ था और कुछ बड़ी ही रूमानी बातें कर रहा था कि तभी अचानक वहां एक हवलदार आया और बोला, "आपको शर्म नहीं आती आप एक समझदार व्यक्ति होकर खुलेआम पार्क में ऐसी हरकत कर रहे हैं"।

    आदमी: देखिये हवालदार साहब आप गलत समझ रहे हैं, जैसा आप सोच रहे हैं वैसा कुछ भी नहीं है।

    हवलदार: तो कैसा है?

    आदमी: जी हम दोनों शादीशुदा हैं।

    हवालदार: अगर तुम शादीशुदा हो तो फिर अपनी ये प्यार भरी गुटरगूं अपने घर पर क्यों नहीं करते।

    आदमी: हवालदार साहब कर तो लें पर वहां मेरी पत्नी और और इसके पति को शायद अच्छा नहीं लगेगा।
  • अच्छी पत्नी!

    एक महिला अपने बीमार पति को लेकर डॉक्टर के पास गयी महिला के पति की जांच के बाद डॉक्टर ने उस महिला को अपने ऑफिस में अकेले बुलाया।

    डॉक्टर ने कहा, "आपके पति एक गंभीर बीमारी से ग्रस्त है दूसरा उन्हें अत्यंत दबाव है अगर आपने वो सब नहीं किया जो मैं आपसे कह रहा हूँ तो आपके पति निश्चित तौर पर मर जायेंगे।"

    "हर सुबह उन्हें स्वास्थ्यवर्द्धक नाश्ता देना उन्हें हमेशा खुश रखना और इस बात का विशेष ध्यान रखें कि उनके आसपास का माहौल हमेशा अच्छा रहे, लंच में उन्हें पौष्टिक भोजन करवाएं और डिनर में उन्हें विशेष प्रकार का भोजन करवाएं।"

    "उनसे किसी प्रकार का काम न करवाएं जिससे उनके आराम में कोई फर्क पड़े, अपनी किसी भी समस्या को उनके सामने न ले जाएँ इससे उनका मानसिक दबाव बढ़ जायेगा, उनकी हर एक इच्छा को पूरा करने की कोशिश करना, अगर आप लगातार इस तरह अगले 8 -10 महीने या 1 साल तक करेंगी तो मुझे पूरा विश्वास है कि आपके पति पहले की तरह बिलकुल ठीक और स्वस्थ हो जायेंगे", इतना कहकर डॉक्टर ने कहा अब आप जाईए।

    घर जाते हुए रास्ते में पति ने पूछा कि डॉक्टर साहब ने क्या कहा?

    पत्नी ने झट से कहा आप मरने वाले हैं।
  • सेब या घोडा?

    बहुत समय पहले एक नगर में एक राजा था। एक दिन उसने एक सर्वे करने का सोचा, जिससे कि यह पता चल सके कि उसके राज्य के लोगों की घर गृहस्थि पति से चलती है या पत्नी से।

    उसने एक ईनाम रखा कि "जिसके घर में पति का हुक्म चलता हो उसे मनपसंद घोडा़ ईनाम में मिलेगा और जिसके घर में पत्नि की सरकार हो वह एक सेब ले जाए।"

    एक के बाद एक सभी नगरजन सेब उठाकर जाने लगे। राजा को चिंता होने लगी कि क्या मेरे राज्य में सभी सेब वाले ही हैं?

    इतने में एक लम्बी-लम्बी मूछों वाला, मोटा तगडा़ और लाल-लाल आखों वाला जवान आया और बोला, "राजा जी मेरे घर में मेरा ही हुक्म चलता है! लाओ घोडा़ मुझे दीजिये!"
    राजा खुश हो गए और कहा, "जा अपना मनपसंद घोडा़ ले जा।"

    जवान काला घोडा़ लेकर रवाना हो गया। घर गया और फिर थोडी़ देर में दरबार में वापिस लौट आया।

    राजा: क्या हुआ? वापिस क्यों आये हो?

    आदमी: महाराज, घरवाली कहती है काला रंग अशुभ होता है, सफेद रंग शांति का प्रतीक होता है तो आप मुझे सफेद रंग का घोडा़ दीजिये!

    राजा: घोडा़ रख और सेब लेकर निकल।

    इसी तरह रात हो गई दरबार खाली हो गया लोग सेब लेकर चले गए।

    आधी रात को महामंत्री ने राजा के कमरे का दरवाजा खटखटाया!

    राजा: बोलो महामंत्री कैसे आना हुआ?

    महामंत्री: महाराज आपने सेब और घोडा़ ईनाम में रखा, इसकी जगह एक मण अनाज या सोना रखा होता तो लोग कुछ दिन खा सकते थे या जेवर बना सकते थे।

    राजा: मुझे तो ईनाम में यही रखना था लेकिन महारानी ने कहा कि सेब और घोडा़ ही ठीक है इसलिए वही रखा।

    महामंत्री: महाराज आपके लिए सेब काट दूँ!

    राजा को हँसी आ गई और पूछा, "यह सवाल तुम दरबार में या कल सुबह भी पूछ सकते थे। तो आधी रात को क्यों आये?"

    महामंत्री: मेरी धर्मपत्नी ने कहा अभी जाओ और पूछ के आओ सच्ची घटना का पता चले।

    राजा (बात काटकर): महामंत्री जी, सेब आप खुद ले लोगे या घर भेज दिया जाए।

    शिक्षा: समाज चाहे कितना भी पुरुष प्रधान हो लेकिन संसार स्त्रीप्रधान है!
  • पत्नी और कामवाली!

    अगर आप पत्नी और कामवाली बाई के बीच के वार्तालाप पर गौर करें तो काफी सारे "वन-लाइनर्स" ऐसे होते हैं मानो एक प्रेमिका अपने प्रेमी से बात कर रही हो।

    जैसे कि...

    सुनो, कल टाइम से आ जाना हाँ।

    कल दो बार आ जाना, देखो मैं इंतज़ार करूंगी, धोखा मत दे देना ऐन टाइम पे।

    मैं कब से तुम्हारा इंतज़ार कर रही थी। आज बहुत देर कर दी, कल थोड़ा जल्दी आ जाना।

    और सबसे क्लासिक, "देखो जब भी छोड़ना हो तो पहले से बता देना, एकदम से मत छोड़ना ताकि मैं दूसरा इंतजाम कर सकूं।"