• गलतफहमी!

    एक लड़की हर रोज़ जब कॉलेज से घर आती तो एक लड़के को अपने घर के आगे खड़ा देखती। जब लड़की उस लड़के की तरफ देखती तो लड़का या तो इधर-उधर देखने लग जाता या फिर अपने मोबाइल पर देखता।

    हर रोज़ ऐसा होता और ऐसा होते-होते पूरा एक साल बीत गया।

    लड़की को यकीन हो गया कि लड़का उससे प्यार करता है पर कुछ कह नहीं पा रहा। इसलिए लड़की ने एक दिन खुद ही अपने घर वालों से बात कर ली। घर वाले भी बात समझ गए और उनकी शादी के लिए तैयार हो गए।

    अगले दिन लड़की ने हिम्मत करके लड़के से कहा, "तुम लगातार एक साल से हर रोज़ मेरे घर के आगे खड़े हो जाते हो। मुझे पता है कि तुम मुझ से बहुत प्यार करते हो और मैं भी तुमसे शादी करने के लिए तैयार हूँ।"

    यह सुनकर लड़का डर गया और कांपते-कांपते बोला, "आप गलत समझ रही हैं बहन जी, दरअसल आपके Wi-Fi पर पासवर्ड नहीं लगा हुआ और मैं तो हर रोज़ मुफ्त में Wi-Fi का इस्तेमाल करने के लिए आपके घर के आगे खड़ा होता हूँ।"
  • दामाद और ससुराल दौरा!

    सभी माननीय दामादों की ससुराल दौरे से जुड़ी आवश्यक जानकारी जनहित में जारी

    पहली बार:
    पूरी, 2 सब्ज़ी, चिकन या मटन ( दामाद जी की इच्छानुसार ), फिश फ्राई, रायता,सलाद, मिठाई और अंत में जबरदस्ती दो मिठाई।

    दूसरी बार:
    पूरी, 1 सब्ज़ी, चिकन ( बिना दामाद जी को पूछे),गोभी फ्राई, सलाद, मिठाई

    तीसरी बार:
    पराठा-सब्ज़ी, भिंडी फ्राई, प्याज-टमाटर काट कर और हलवा

    चौथी बार:
    पराठा-आलू का भुजिया सब्ज़ी, प्याज-टमाटर काट कर, और खाना परोसते हुए पूछा जाएगा कि चिकन बनाएँ क्या

    पांचवी बार
    जल्दी मे लगते हैं, खाना भी खायेंगे क्या?

    छठी बार:
    अरे बाद में बैठिये पहले मुन्नू को स्कूल छोड़ आएये और लौटते समय सब्ज़ी लेते आना फिर खाना बनेगा।
  • प्रेम पत्र!

    एक सुन्दर युवती दवाईयों की एक दुकान के सामने काफी देर तक खडी थी। भीड़ छटने का इंतज़ार कर रही थी। दुकान का मालिक उसे शक की नजर से घूर रहा था।

    बहुत देर बाद जब दुकान मे कोई ग्राहक नही बचा, तो वह लड़की दुकान मे आयी।

    एक सेल्समन को धीरे से एक किनारे बुलाया।

    दुकान मालिक अब और भी ज्यादा चौकन्ना हो गया।

    लड़की ने धीरे से एक कागज़ सेल्समन की ओर बढाया और धीरे से फुसफुसायी,

    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    "भैया, मेरी एक डॉक्टर के साथ शादी तय हो गयी है। आज उनकी पहली चिठ्ठी आयी है। थोडा पढ़कर सुनायेंगे क्या?
  • शेर और बंदर!

    एक बार जंगल में एक बहुत बड़े से गड्ढे में एक शेर गिर गया। परेशान होकर शेर यहाँ वहां देखने लगा पर उसे कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा था।

    तभी वहां एक पेड़ पे एक बंदर आ गया। शेर को इस हाल में फंसा देखकर बंदर शेर का मजाक उडाने लगा।

    "क्यों शेर तू तो राजा बना फिरता है, अब तो तेरी अकल ठिकाने आ गयी न, अब शिकारी तुझे मारेंगे, तेरी खाल निकालकर दीवार पर सजायेंगे, तेरे नाखून और दांत निकाल कर दवाई बनायेंगे।

    तभी अचानक वो डाल जिस पे बंदर बैठा था, टूट गयी और बन्दर सीधे शेर के सामने आ गिरा।

    और गिरते ही बोला, "माँ कसम... माफ़ी मांगने के लिए कूदा हूँ।"