• शराब के 5 फायदे

    1. शराब व्यक्ति की नैसर्गिक प्रतिभा को बहार निकलता है| जैसे कोई अच्छा डांसर है लेकिन अपनी शर्म की वजह से लोगो के सामने नहीं नाच पाता, दो घूंट अन्दर जाते ही अपना ऐसा नृत्य पेश करता है कि उसके सामने माइकल जेक्सन भी पानी न मांगे।

    ऐसे कई उदहारण आपने शादी-विवाह के अवसर पर शराबियों को नृत्य करते हुए देखा होगा।

    कोई नागिन बनकर जमीन में लोटता है,

    कोई घूँघट डाल कर महिला नृत्य पस्तुत करता है,

    जो शेयर - ओ - शायरी और साहित्यिक बातें सामान्य अवस्था में नहीं की जाती, शराब पीने के बाद कई लोगो को बड़ी बड़ी साहित्यिक बातें शेयर - ओ - शायरी भी करते देखा गया है।

    2. शराब व्यक्ति के आत्मविस्वास को कई गुणा बढ़ा देती है।

    दो घूंट अन्दर जाते ही चूहे की तरह डरने वाला डरपोक से डरपोक व्यक्ति भी शेर की तरह गुर्राने लगता है।

    शराब पीने के बाद कई पतियों को अपनी पत्नी के आगे गुर्रारते हुए देखा गया है।

    3. शराब व्यक्ति को प्रकृति के करीब लाता है।

    दो घूंट अन्दर जाते ही शराबियो का प्रकृति प्रेम उभर कर सामने आ जाता है कई शराबी शराब का आनंद लेने के बाद ज़मीन, कीचड़, नाली आदि प्राकृतिक जगहों पर विश्राम करते पाए जाते है।

    4. शराब व्यक्ति की भाषाई भिन्नता को कम कर देता है जो लोग अंग्रेजी बोलना तो चाहते है लेकिन नहीं बोल पाते, अंग्रेजी बोलने में हिचकिचाहट महसूस करते है दो घूंट अन्दर जाते ही ऐसी धरा प्रवाह अंग्रेजी बोलने लगते है कि बड़े से बड़ा अंग्रेज़ भी शरमा जाये ऐसे कई लोगो से आपका पाला पड़ा होगा।

    5. शराब व्यक्ति को दिलदार बनाती है।

    कंजूस से कंजूस व्यक्ति भी दो घूंट अन्दर जाते ही किसी सल्तनत के बादशाह की तरह व्यवहार करने लगता है।

    ऐसे लोगो के जेब में भले फूटी कौड़ी न हो लेकिन ये लोग ज़माने को खरीदने में पीछे नहीं हटते है।
  • अब क्या करे पति!

    पत्नी पायलट थी और पति कंट्रोल टॉवर इंस्ट्रक्टर

    पायलट पत्नी: हेलो, कंट्रोल टावर।यह फ्लाइट 367 है। यहां कुछ प्रॉब्लम है।

    कंट्रोल टावर पर पति: आपकी आवाज़ ठीक नहीं आ रही है। दोबारा बताइये क्या प्रॉब्लम है? बोलिये।

    पत्नी: कुछ नहीं जाने दो, तुम्हें मेरी आवाज आती कब है?

    पति: प्लीज। प्रॉब्लम बतायें।

    पत्नी: नहीं, अब तो रहने ही दो।

    पति: प्लीज बताइये।

    पत्नी: कुछ नहीं, मैं ठीक हूँ। तुम रहने दो।

    पति: अरे बोलिये क्या प्रॉब्लम है?

    पत्नी: तुम्हें मेरे प्रॉब्लम से क्या मतलब?

    पति: बेवकूफ औरत 200 पैसेंजर भी है उसमें।

    पत्नी: हाँ! मेरी तो कोई परवाह है नहीं। उन 200 की परवाह है बस। मुझे नहीं करनी बात।
  • सेल्फी का पागलपन!

    वो छत पर खड़ी थी। बाल खुले और बिखरे कभी मुँह इधर कभी उधर, बार-बार सामने निहारती दिन दुनियाँ से बेखबर, मुझे बहुत दया आ रही थी।

    इतनी कम उम्र में पागल होना। पूरी जिंदगी पड़ी है। क्या होगा? कैसे होगा? मुझे उसके पिता की चिंता सताने लगी।

    बेचारा दिन रात मेहनत करके परिवार पालता है। ऊपर से इस पागल लड़की को कैसे संभालेगा?

    धीरे-धीरे पागलपन और बढ़ गया।अब तो वह मुंडेर पर बैठ गयी थी। मैं घबराया, मैंने अपनी बिटिया को बुलाया और अपनी चिंता से अवगत कराया ।

    बिटिया बोली, "अरे पापा वो पागल नहीं हैं, वो तो सैल्फी ले रही है।"
  • शराबी की दास्ताँ!

    एक बार एक शराबी रात के 12 बजे शराब की दुकान के मालिक को फ़ोन करता है और कहता है;

    शराबी: तेरी दुकान कब खुलेगी?

    दुकानदार: सुबह 9 बजे!

    शराबी फिर थोड़ी देर बाद दोबारा दुकानदार को फ़ोन करके पूछता है;

    शराबी: तेरी दुकान कब खुलेगी?

    दुकानदार: कहा ना सुबह 9 बजे!

    कुछ देर बाद शराबी फिर से दुकानदार को फ़ोन कर देता है और पूछता है;

    शराबी: भाईसाहब आपकी दुकान कब खुलेगी?

    दुकानदार: अबे तुझे कितनी बार बताऊँ सुबह 9 बजे खुलेगी इसीलिए सुबह 9 बजे आना और जो भी चाहिए हो ले जाना!

    शराबी: अबे, मैं तेरी दुकान के अन्दर से ही बोल रहा हूँ!