• पति-पत्नी!

    कार से किसी शादी मे जा रहे थे। रास्ते में कार पंक्चर हो गयी। बेचारा पति उतरा और स्टेपनी बदलने के काम पर लग गया। पत्नी भी उतरी और भुनुर भुनुर करने लगी।

    सुनिये उसका भुनुर भुनुर:

    देख कर तो चला ही नही सकते हो

    नुकीले पत्थर पर ही गाड़ी चढा दी

    पंक्चर तो हुआ ही डेंट भी लगा दिया

    पता नही कैसे ड्राईवर हो

    बीवी को बिठाकर भी रफ चलाते हो

    जरूर नजर इधर उधर होगी

    पता नही किसने तुमको लाईसेंस दिया

    एक काम ठीक से कर नही सकते

    पता नहीं स्टेपनी ठीक है भी कि नहीं

    अब शादी मे भी देर से पहुँचेंगे

    सोंचा था मेरी नयी साड़ी से सब जलेगी

    अब तो वरमाला के बाद ही पहुँचेंगे

    तुमसे तो मेरी कोई खुशी देखी नही जाती

    अरे बड़े अजीब आदमी हो

    कुछ कहोगे भी कि गूँगे ही बने रहोगे

    मेरी तो किस्मत ही फूटी थी कि तुम मिले

    बोलते बोलते बेचारी कांपने भी लगी

    इतने में एक साइकिल सवार आकर रूका और पूछा, "भाई साहब कुछ मदद करूँ?"

    पति: भाई तू इस मैडम से थोड़ी देर बात कर ले तो मैं ये स्टेपनी लगा लूँ।
  • डॉक्टर की होशियारी!

    मरीज: डॉक्टर साहब, जल्दी कुछ करो, मेरे पैरों पर एक औरत ने गाड़ी चढा दी।

    डॉक्टर ने अच्छे से चेक किया और पाया कि मामूली चोट है पर मरीज घबराया हुआ है।

    डॉक्टर: ओ हो, भाई आपरेशन करना पडेगा, बहुत खर्चा आयेगा... तैयार हो?

    मरीज: कुछ भी करो जल्दी करो। कमीनी ने मरा सोच कर उठाया भी नहीं।

    इतने में ही डॉक्टर की पत्नी का फोन आया।

    डॉक्टर: हैलो

    पत्नी: हैलो छोड़ो, ये बताओ मैं क्या करूं? मुझसे कार चलाते में एक आदमी मर गया जय हिंद चौक पर।

    डॉक्टर: आदमी ने कपड़े कैसे पहन रखे थे?

    पत्नी: हरी टी शर्ट और काली पैंट।

    डॉक्टर: ओ हो, तो उसे तुमने मारा है। पुलिस खूनी को तलाश करती हुई घूम रही है।

    पत्नी: तो अब क्या करूं?

    डॉक्टर: करना क्या है, 4-6 महीने के लिए मायके भाग जा जल्दी।

    पत्नी: ठीक है जा रही हूँ।

    मरीज: डॉक्टर साहब करो ना कुछ।

    डॉक्टर: भाई कुछ नहीं हुआ है तेरे को, ये ले 500 रूपये और चार बियर ले आ, दोनो पियेंगे... और हाँ, यह हरी टी शर्ट निकाल के जा।
  • आधार कार्ड और ससुराल!

    एक अति आवश्यक सूचना:

    अपना आधार कार्ड 31 मार्च 2017 तक अपनी ससुराल से लिंक करवा लें अन्यथा ससुराल पक्ष में होने वाली शादी के समय मिलने वाले कपड़े आने- जाने का किराया, उपहार, पार्सल (सिदोरी) और एक वर्ष में मिलने वाले सीजनेबल आईटम जैसे पापड, बड़ी, सेवई, कुरोडी, अचार, फल और साथ ही मदद के लिए मिलने वाला रिटर्नेबल या नाट रिटर्नेबल लोन जैसे कि घर में शादी, बीमारी, पढाई , मकान, प्लाट, नई गाडी, कोई यात्रा आदि के लिए मिलने वाली सहायता नहीं मिल सकेगी। इसलिए जल्दी हीअपना आधार लिंक करायें।

    योजना सिर्फ 10 साल पुराने दामाद और बहू पर लागू। उससे पुराने को तो वैसे भी कोई नहीं पूछता।
  • अजीब रहस्य!

    अंडरवियर बनाने वाली कंपनी जॉकी को एक बहुत बड़ी परेशानी हो गई।

    दिन में जितनी भी चड्डी बनाते थे दिन के अंत में गिनो तो कम ही हो जाती थी। सिक्योरिटी ने घर जाने के समय सबके बैग-सामान की तलाशी लेनी शुरू की।

    सभी कर्मचारियों के बैग इत्यादि चेक किये गये लेकिन सब कुछ ठीक ही होता था।

    अभी भी कोई पकड़ा नहीं गया लेकिन स्टॉक चोरी होना जारी रहा।

    अब सिक्योरिटी ज्यादा टाइट कर दी... सभी के अंडरवियर चेक किये जाने लगे।

    लेकिन प्रत्येक कर्मचारी एक ही अंडरवियर पहने हुए थे और कोई भी एक से अधिक जोड़ी के साथ नहीं पाया गया।

    फिर... एक दिन, सुरक्षा को सूचित किया गया कि वे सभी कर्मचारीयों को फेक्टरी में आने से पहले जांच करें।