• आँख मिचोली!

    स्वर्ग के दरवाजे पर दस्तक हुई तो धर्मराज ने जाकर दरवाजा खोला। उन्होंने बाहर झाँका तो एक मानव को सामने खड़ा पाया। धर्मराज ने कुछ बोलने के लिए मुंह खोला ही था कि वो एकाएक गायब हो गया। धर्मराज ने कंधे उचकाए और फाटक बंद कर लिया।

    तत्काल फिर दस्तक हुई।

    उन्होंने फिर दरवाजा खोला, उसी मानव को फिर सामने मौजूद पाया, लेकिन वो फिर गायब हो गया।

    ऐसा तीन चार बार हुआ तो धर्मराज धीरज खो बैठे।

    वो बोले, "क्या बात है भाई, तू मेरे से पंगा ले रहा है?"

    मानव बोला: अरे नहीं बॉस, दरअसल मैं.....
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    .
    वेंटीलेटर पर हूँ!
  • मुहावरे और उनके शराबिक अर्थ!

    हाथ पाँव फूलना - समय पर दारू का ना मिलना

    ऊंट के मुंह मे जीरा - दारू कम पड़ जाना

    कलेजा ठंडा होना - एक पैग गले के नीचे उतरना

    मुँह मीठा करना - पहली बार किसी को दारू पिलाना

    हाथ साफ करना - दूसरे का पैग भी चुपचाप पीना

    नेकी कर दरिया में डाल - फ्री में दोस्तो को पिलाना

    आँख फडकना - नशा उतरते जाना

    आँख लाल करना - फुल नशा हो जाना

    अंधे की लकडी़ - कोई पिलाने वाला मिल जाना

    अंगारों पर पैर रखना - दारू पीकर घर जाना

    आकाश के तारे तोड़ना - ठेके की लाईन में पहले स्थान पर होना

    तिल का ताड़ बनाना - दारू पीकर उपदेश देना

    ठन ठन गोपाल - पीने के लिए पैसा न होना

    दम मे दम आना - पीने के साथ चखना जुगाड़ हो जाना

    छाती पर साँप लोटना - बिना जानकारी ठेका बंद हो जाना

    काम तमाम करना - पूरी बोतल खतम करना
  • पति-पत्नी के कुछ किस्से!

    पत्नी: चलो एक खेल खेलते हैं, मैं छुपती हूँ और आप मुझे ढूंढ़ना। अगर आपने ढून्ढ लिया तो मैं आपके साथ शॉपिंग करने चलूंगी।
    पति: और अगर नहीं ढून्ढ पाया तो?
    पत्नी: ऐसा मत कहो जानू, बस दरवाज़े के पीछे ही छुपूंगी।

    एक औरत अपने बॉयफ्रेंड के साथ बाजार में घूम रही थी कि तभी उसका पति मिल गया। पति दोनों को देखा और पत्नी के बॉयफ्रेंड को पीटना शुरू कर दिया।
    पत्नी: मारो और मारो, अपनी बीवी को कभी घुमाने नहीं ले गया औरों की बीवियों को घुमाता है।
    तभी बॉयफ्रेंड को जोश आ गया और उसने पति को पीटना शुरू कर दिया।
    औरत: मारो और मारो, खुद तो कभी घुमाने ले जाता नहीं और दूसरों को भी नहीं घुमाने देता।

    पति: साहब मेरी पत्नी गुम हो गयी है।
    पोस्ट मॉस्टर: अभे अँधा है क्या? ये पोस्ट ऑफिस है, पुलिस स्टेशन नहीं।
    पति: माफ़ करना भाई, क्या करूँ ख़ुशी के मारे कुछ समझ नहीं आ रहा कि किधर जाऊं।
  • पप्पू का प्यार!

    दस वर्षीय पप्पू और उसके पड़ोस में रहने वाली नौ-वर्षीय चिंकी को साथ-साथ खेलते हुए यह एहसास हो जाता है कि वे एक-दूसरे से बेहद प्यार करते हैं, और उन्हें शादी कर लेनी चाहिए।

    पप्पू चिंकी के पिता के पास पहुंच गया, और हिम्मत जुटाकर बोला, "अंकल, मैं और आपकी बेटी चिंकी एक-दूसरे से प्यार करते हैं, और मैं आपसे शादी के लिए उसका हाथ मांगने आया हूं।"

    चिंकी के पिता को नन्हे शरारती पप्पू की हरकत बेहद प्यारी लगी, और वह डांटने के बजाए मुस्कुराते हुए उससे से पूछते हैं, "यार, तुम अभी सिर्फ 10 साल के हो, और तुम्हारे पास घर भी नहीं है... तुम और चिंकी रहोगे कहां?"

    पप्पू तपाक से बोला, "चिंकी के कमरे में, क्योंकि वह मेरे कमरे से बड़ा है, और वहां हम दोनों के लिए ज़्यादा जगह है।"

    चिंकी के पिता को अब भी पप्पू की इस मासूमियत पर प्यार आता है, और वह फिर पूछते हैं, "ठीक है, लेकिन तुम लोग गुज़ारा कैसे चलाओगे, आखिर इस उम्र में तुम्हें नौकरी तो मिल नहीं सकती?"

    पप्पू फिर बहुत शांत स्वर में जवाब देता है, "हमारा जेबखर्च है न उसे 50 रुपये प्रति सप्ताह मिलता है, और मुझे 100 रुपये प्रति सप्ताह, इस हिसाब से हम दोनों के लगभग 600 रुपये हर महीने मिल जाता है, जो हमारी ज़रूरतों के लिए काफी रहेगा।"

    चिंकी के पिता इस बात से भौंचक्के रह जाते हैं, कि पप्पू ने इस विषय पर इतनी गंभीरता से, और इतनी आगे तक सोच रखा है सो, वह सोचने लगते हैं कि ऐसा क्या कहें कि पप्पू को जवाब न सूझे, और उसे इस उम्र में चिंकी से शादी न करने के लिए समझाया जा सके कुछ देर बाद वह फिर मुस्कुराते हुए पप्पू से सवाल करते हैं, "यह बहुत अच्छी बात है बेटे कि तुमने इतनी अच्छी तरह सब प्लान किया हुआ है, लेकिन यह बताओ, कि अगर तुम दोनों के बच्चे हो गए, तो क्या यह जेबखर्च कम नहीं पड़ेगा?"

    पप्पू ने इस बार भी तपाक से जवाब दिया, "अंकल, हम बेवकूफ नहीं हैं... जब आज तक नहीं होने दिए, तो आगे भी रोक लेंगे।"

    चिंकी के पापा आज तक कोमा में हैं और घरवालों को इसकी वजह तक नही पता।