• धार्मिक आदमी!

    एक आदमी था जो एक नदी के किनारे एक छोटे से घर में रहता था वह बहुत ही धार्मिक प्रवृति का आदमी था, उसे भगवान पर बहुत विश्वास था!

    एक दिन उस नदी में बाढ़ आ गयी वह आदमी घर समेत बह गया काफी दूर बहने के बाद उसने बचने का प्रयास किया!

    वह सीधे घर कि छत पर चढ़ गया तो देखा पानी काफी भर चुका है!

    तभी दूर से एक काफी बड़ी नाव में कुछ लोग आये और कहने लगे कि उनके साथ नाव में आ जाये पर वो आदमी कहने लगा कि नहीं मुझे बचाने तो भगवान आयेंगे! ऐसा सुनकर वो नाव वाले वहां से चले गए!

    पानी का स्तर बढ़ ही रहा था उस आदमी का घर पूरा डूबने वाला था तभी एक और नाव वाला वहां से आया और उसे कहा कि उसके साथ चल पड़े पर वो आदमी कहने लगा कोई बात नहीं तुम जाओ मुझे बचाने तो भगवान आयेंगे! तब वो नाव वाला भी वहां से चला गया!

    अब उस आदमी का पूरा घर डूबने वाला था तभी उसे सामने एक पेड़ नजर आया उसने पेड़ को पकड़ लिया थोड़ी देर बाद पानी का स्तर और बढ़ गया वह आदमी पेड़ पर बैठ कर भगवान को याद कर रहा था!

    तभी एक हेलीकाफ्टर आया और उसमें से एक सीढ़ी उस आदमी कि तरफ फेंक दी और कहा कि उसे पकड़ कर उस पर चढ़ जाये पर उस आदमी ने कहा कि कोई बात नहीं मैं ठीक हूँ! हेलीकाफ्टर वाले ने फिर कहा कि जल्दी आ जाओ, तो वो आदमी कहने लगा कि तुम जाओ मुझे बचाने तो भगवान आयेंगे! ऐसा सुनकर हेलिकाफ्टर वाला भी वहां से चला गया!

    आखिरकार वो आदमी पानी के बढ़ जाने से डूब गया और मर गया मरने के बाद स्वर्ग में भगवान के सामने पहुँच गया और बड़े गुस्से में भगवान से कहने लगा तुमने मुझे कहा था कि तुम मुझे हर मुसीबत से बचाओगे पर तुम ने मुझे डूबने दिया!

    तो भगवान ने कहा कि पहले मैंने तुम्हें बचाने के लिए एक नाव भेजी फिर दूसरी नाव भेजी और बाद में हेलीकाफ्टर भी भेजा इससे ज्यादा तुम और क्या चाहते थे!
  • दरियादिल कंजूस!

    एक बार एक औरत बच्चे को लिए रो रही थी।

    एक सिंधी उस से रोने की वजह पूछी तो औरत ने कहा, " मेरा बच्चा बीमार है और मेरे पास दवा के लिए पैसे नहीं हैं।

    यह सुन कर सिंधी ने उसे 1000 का नोट दे दिया और कहा, " जाओ दवा लो और 100 का दूध ले लेना और बाकी पैसे मुझे वापस दे दो।

    औरत थोड़ी देर बाद दवा और दूध लेकर आई और सिंधी को 650 रूपए वापस कर दिए।

    यह देख सिंधी खुश हुआ और सोचने लगा कि, " नेकी कभी बर्बाद नहीं जाती... डॉक्टर को फ़ीस मिल गयी, बच्चे को दवा मिल गयी और
    .
    .
    .
    .
    मेरा नकली नोट भी चल गया।
  • शक करना छोड़ दो!

    क्या कभी ऐसा समय भी आएगा जब एक पत्नी अपने पति पर शक करना छोड़ देगी?
    .
    .
    .
    .
    .
    एक पत्नी रात को देरी से घर आयी जैसे ही अपने बेडरूम में पहुंची तो उसने देखा कि बेड पर कम्बल के नीचे दो के बजाय चार पैर हैं उसने बिना कुछ सोचे समझे बेसबाल बैट लाया और कम्बल पर जोर जोर से मारने लगी!

    ऐसा करने के बाद वह किचन में गयी और पानी पीने लगी जैसे ही वह डाइनिंग टेबल की तरफ मुड़ी उसने देखा उसका पति वहां मैगजीन पढ़ रहा है!

    पति: हाए डार्लिंग!!! ....तुम्हारे मम्मी पापा आये हैं और वे सफ़र करके काफी थक गए थे इसलिए मैंने उन्हें अपने बेडरूम में आराम करने भेज दिया!

    क्या तुम उनसे मिली?
  • पतियों के 500 बहाने!

    एक सेल्समैन घर-घर जाकर किताबें बेचने का काम करता था उसने एक घर की डोरबेल बजाई तो एक महिला ने दरवाजा खोला।

    सेल्समैन: मैडम मेरे पास एक किताब है, जिसमें पतियों के रात देर तक बाहर रहने के 500 बहाने बताये गए है, क्या आप इसे खरीदना चाहेंगी?

    महिला: आप को क्या लगता है कि मैं इस किताब को क्यों खरीदूं?

    सेल्समैन: क्योंकि आज सुबह ही मैंने इस किताब कि एक प्रति आपके पति को बेचीं है।