• पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट!

    एक दिन दफ्तर से घर आते हुए पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट हो गयी;

    और जो बीवी से मिलने की जल्दी थी वह ज़रा से लेट हो गयी;

    जाते ही बीवी ने आँखे दिखाई -आदतानुसार हम पर चिल्लाई;

    तुम क्या समझते हो मुझे नहीं है किसी बात का इल्म;

    जरुर देख रहे होगे तुम सक्रेटरी के साथ कोई फिल्म;

    मैंने कहा - अरी पगली, घर आते हे ऐसे झिडकियां मत दिया कर;

    कभी तो छोड़ दे, मुझ बेचारे पर इस तरह शक मत किया कर;

    पत्नी फिर तेज होकर बोली - मुझे बेवकूफ बना रहे हो;

    6 बजे दफ्तर बंद होता है और तुम 10 बजे आ रहे हो;

    मैंने कहा अब छोड़ यह धुन - मेरी बात ज़रा ध्यान से सुन;

    एक आदमी का एक हज़ार का नोट खो गया था;

    और वह उसे ढूंढने के जिद्द पर अड़ा था;

    पत्नी बोली, तो तुम उसकी मदद कर रहे थे;

    मैंने कहा , नहीं रे पगली मै ही तो उस पर खड़ा था;

    सुनते ही पत्नी हो गयी लोट-पोट;

    और बोली कहाँ है वह हज़ार का नोट;

    मैंने कहा बाकी तो खर्च हो गया यह लो सौ रुपये;

    वह बोली क्या सब खा गए बाकी के 900 कहाँ गए;

    मैंने कहा : असल में जब उस नोट के ऊपर मै खडा था;

    तो एक लडकी की निगाह में उसी वक़्त मेरा पैर पडा था;

    कही वह कुछ बक ना दे इसलिए वह लडकी मनानी पडी;

    उसे उसी के पसंद के पिक्चर हाल में फिल्म दिखानी पडी;

    फिर उसे एक बढ़िया से रेस्टोरेन्ट में खाना खिलाना पड़ा;

    और फिर उसे अपनी बाइक से घर भी छोड़कर आना पड़ा;

    तब कहीं जाकर तुम्हारे लिए सौ रुपये बचा पाया हूँ;

    यूँ समझो जानू तुम्हारे लिए पानी पुरी का इंतजाम कर लाया हूँ;

    अब तो बीवी रजामंद थी - क्यूंकि पानी पुरी उसे बेहद पसंद थी;

    तुरंत मुस्कुराकर बोली : मै भी कितनी पागल हूँ इतनी देर से ऐसे ही बक बक किये जा रही थी;

    सच में आप मेरा कितना ख़याल रखते है और मै हूँ कि आप पर शक किये जा रही थी!
  • सेलिब्रिटीज ट्रेन!

    सुरेश प्रभु की ब्रांड्स के नाम पर ट्रेन दौड़ाने की घोषणा के साथ सेलिब्रिटीज के नाम ट्रेनों का सोशल मीडिया पर ट्रेंड चल गया।

    मोदी एक्सप्रेस : सुरेश प्रभु ने रेल बजट में एक मोदी एक्सप्रेस नाम की ट्रेन चलाने की घोषणा की है। ट्रेन चलेगी नहीं, सिर्फ तेज हॉर्न बजाएगी।

    बप्पी लाहिरी एक्सप्रेस : आपने चेन खींची तो आपको इसके पीछे एक और चेन नजर आएगी।

    एकता कपूर एक्सप्रेस : एक प्लेटफार्म पर तीन बार आएगी।

    आमिर खान एक्सप्रेस : साल में एक बार दौड़ेगी और यात्रियों का चुनाव भी खुद ही करेगी।

    सलमान खान एक्सप्रेस : फुटपाथ पर भी चल सकती है।

    मनमोहन ट्रेन : एकमात्र साइलेंट ट्रेन।

    रजनीकांत एक्सप्रेस : ट्रेन खड़ी रहेगी, स्टेशन आते-जाते रहेंगे।

    धोनी एक्सप्रेस : 95 प्रतिशत सफर में 10 किमी प्रति घंटे की रफ्तार, शेष 5 फीसद सफर में 400 किमी प्रतिघंटा की गति।

    राहुल गांधी एक्सप्रेस : बार-बार पटरी से उतरेगी।

    कांग्रेस एक्सप्रेस : हर बोगी में एक अनुभवी ड्राइवर है, लेकिन इंजन का ड्राइवर छुट्टी पर है।

    केजरीवाल एक्सप्रेस : आपको चादर के बदले मफलर मिलेंगे।

    अमित शाह ट्रेन : दिल्ली को छोड़कर पूरे देश को कवर करेगी।

    अन्ना हजारे ट्रेन : पैंट्री कार नहीं रहेगी।
  • बारिश से निवेदन!

    प्रिय बारिश,

    ज्यादा रोमांटिक होने की जरूरत नहीं है।

    हमारे पास ऐसी गर्लफ्रेंड नहीं है जो शिफॉन की साड़ी पहनकर बारिश में डांस करती हो।

    हमारे पास तो बीवियाँ हैं, जो बारिश होने पर जब हम ऐसी ठंड़ मे भीगे हुए घर आते हैं तो वो बेचारी दौड़कर हमारे पास आती हैं और बोलती हैं
    "गेट पर ही रुक जाओ। अंदर मत आना सारा घर गन्दा हो जयेगा।"
  • पत्नी और घड़ी के बीच का संबंध!

    समानताएं:
    1. घड़ी चौबीस घंटे टिक-टिक करती रहती है, और पत्नी चौबीस घंटे किट-किट करती रहती है।

    2. घड़ी की सूइयाँ घूम-फिर कर वहीं आ जाती हैं। उसी प्रकार पत्नी को आप कितना भी समझा लो, वो घूम- फिर कर वहीं आ जायेगी और अपनी ही बात मनवायेगी।

    3. घड़ी बिगड़ जाये तो मैकेनिक के यहाँ जाती है। पत्नी बिगड़ जाये तो मायके जाती है।

    4. घड़ी को चार्ज करने के लिये सेल (बैटरी) का प्रयोग होता है, और पत्नी को चार्ज करने के लिये सैलेरी का प्रयोग होता है।

    विषमतायें:
    1. घड़ी में जब 12 बजते हैं तो तीनों सूइयाँ एक दिखाई देती हैं, लेकिन पत्नी के जब 12 बजते हैं तो एक पत्नी भी 3-3 दिखाई देती है।

    2. घड़ी के अलार्म बजने का फिक्स टाइम है, लेकिन पत्नी के अलार्म बजने का कोई फिक्स टाइम नहीं है।

    3.घड़ी बिगड़ जाये तो रूक जाती है, लेकिन जब पत्नी बिगड़ जाये तो शुरू हो जाती है।

    4. सबसे बड़ा अंतर ये कि घड़ी को जब आपका दिल चाहे बदल सकते हैं, मगर पत्नी को चाह कर भी बदल नहीं सकते, उल्टा पत्नी के हिसाब से आपको खुद को बदलना पड़ता है।