• स्कूली जीवन का सिनेमा!

    क्लास - बर्दाश्त।

    अटेंडेंस - हेरा फेरी।

    क्लास रूम - नो एंट्री।

    टीचर - जानी दुश्मन।

    एग्जाम - बुरी मौत।

    इग्ज़ैमनर - डॉन।

    फ्रेंड पेपरों में - हम आपके हैं कौन?

    मौखिक परीक्षा - सामना।

    एग्जाम टाइम - कयामत।

    चीटिंग - लगे रहो मुन्ना भाई।

    मार्केटिंग - अँधा कानून।

    प्रश्न पेपर - एक पहेली।

    उत्तर सीट - कोरा कागज।

    रिजल्ट - सदमा।

    पास - चमत्कार।

    फेल - देवदास।

    फ्यूचर - ना तुम जानो ना हम।
  • पत्नियों की माया!

    अलग-अलग महिलाएं अपने पतियों से लड़ रही थी।

    पायलट की पत्नी: ज्यादा उड़ो मत समझे।

    मास्टर की पत्नी: मुझे मत सिखाओ ये आपका स्कूल नहीं।

    डेंटिस्ट की पत्नी: दांत तोड़ के हाथ में दे दूंगी।

    डॉक्टर की पत्नी: तबियत दुरुस्त कर दूंगी।

    MBA की पत्नी: अपने काम से काम रखो।

    इंजीनियर की पत्नी: ज्यादा करंट मत मारो।

    चार्टर्ड अकाउंटेंट की पत्नी: पहले पास तो हो लो, फिर बात करना बुड्ढे।
  • जान ले लो जानू की

    भारतीय लड़कियां खेलों में अच्छी क्यों नहीं हैं?

    क्योंकि, सिर्फ 10% क्रिकेट, हॉकी, टेनिस, बैडमिंटन, शतरंज आदि खेलती हैं बाकि कि 90% तो जानू से खेलने में व्यस्त रहती हैं।

    जानू कहाँ हो?

    जानू क्या कर रहे हो?

    जानू कब आओगे?

    जानू आप मुझसे प्यार करते हो न?
    जानू किसके साथ हो?

    जानू मुझे ये चाहिए।

    जानू फिल्म देखने चलें, जानू ये क्या है?

    जानू क्या किया दिनभर?

    जानू आपने मुझे याद किया न?

    जानू कुछ तो बोलो।

    जानू मुझे आपकी बहुत याद आ रही है।

    जानू ये।

    जानू वो।

    जानू कुछ नहीं।

    "जान ले लो जानू की।"
  • जिन्न भी हर काम नहीं कर सकता!

    एक बार संता को रास्ते में एक चिराग मिला तो उसने सोचा कि, "क्यों ना चिराग रगड़ कर देखूं शायद इसमें से कोई जिन्न ही निकल आये"।

    यह सोच कर संता ने चिराग रगडा, तो उसमे से धुंए के साथ एक जिन्न निकल कर आया और संता से बोला।

    जिन्न: क्या हुकुम है मेरे आका?

    संता: मेरे बैंक खाते में 100 करोड़ रूपए जमा करा दो।

    जिन्न: यह तो थोडा मुश्किल काम है आका कोई और हुकुम करें।

    संता: तो ठीक है मेरे घर से लेकर अमेरिका तक सीधी सड़क बना दो।

    जिन्न: आका यह काम भी थोडा नामुमकिन सा है कोई और आदेश करें?

    जिन्न की बात सुन कर संता ने ठंडी सी आह भरते हुए कहा, "अच्छा चलो कम से कम मेरी बीवी को थोड़ी सी अक्ल देकर समझदार तो बना दो"।

    संता की बात सुन कर जिन्न तपाक से बोला, "आका सड़क सिंगल लेन बनानी है या डबल लेन"?