• मैं औऱ मेरी तनहाई!

    मैं औऱ मेरी तनहाई! मैं औऱ मेरी तनहाई,
    अक्सर ये बाते करते हैं;

    ज्यादा पीऊं या कम,
    व्हिस्की पीऊं या रम;

    या फिर तौबा कर लूं,
    कुछ तो अच्छा कर लूं;

    हर सुबह तौबा हो जाती है,
    शाम होते होते फिर याद आती है;

    क्या रखा है जीने में,
    असल मजा है पीने में;

    फिर ढक्कन खुल जाता है,
    फिर नामुराद जिंदगी का मजा आता है;

    रात गहराती है,
    मस्ती आती है;

    कुछ पीता हूं,
    कुछ छलकाता हूं;

    कई बार पीते पीते,
    लुढ़क जाता हूं;

    फिर वही सुबह,
    फिर वही सोच;

    क्या रखा है पीने में,
    ये जीना भी है कोई जीने में;

    सुबह कुछ औऱ,
    शाम को कुछ औऱ;

    मैं औऱ मेरी तनहाई,
    अक्सर ये बाते करते हैं।
  • भलाई का ज़माना नहीं रहा!

    एक बार मार्किट साइड से जा रहे थे तो क्या देखते हैं कि एक सुंदर सी लड़की बेचारी लंगड़ा लँगड़ा के चल रही थी। हमारा दिल पसीज गया। ज़िम्मेदार नागरिक होने के नाते पूछ लिए, "मैडम कोई मदद कर दूँ?"

    वो नहीं मानी और बोली, "मैं ठीक हूँ।"

    हमने सोचा बड़ी खुद्दार है ये तो। फिर हम बोले, "अरे आपको तकलीफ हो रही होगी। आप ऐसा करो मेरी गाड़ी में बैठ जाओ मैं ड्राप कर दूंगा।"

    वो फिर नहीं मानी।

    हम बोले, "चलो बाहों का सहारा दे दूँ, ठीक से चल पाओगी आप।"

    वो बोली, "नो थैंक्स।"

    हमने सोचा पुण्य तो कमा के ही रहेंगे आज। आखिरी बार बोला, "मैडम चलो न मेरी न आपकी, आपको बाहों में उठा लूँ क्या?"

    वो बोली, "आगे दस कदम की दूरी पे मोची की दुकान है। मेरी सैंडल टूट गई है साले। और तू घुसी जा रहा है। बाहों में उठा लूँ, गोद में बिठा लूँ। चल भाग यहाँ से।"
  • समझदारी का फैंसला!

    एक गाँव में एक बूढ़ा बुजुर्ग अकेला रहता था। उसने अपने जीवन में शादी ही नहीं की थी। एक बार किसी युवक ने उस बुजुर्ग से पूछा, "बाबा आपने जीवन भर शादी क्यों नहीं की?"

    बुजुर्ग थोड़ा मुस्कुराया और बोला, "बेटा यह मेरी जवानी की बात है, एक बार मैं एक पार्टी में गया था, वहाँ अनजाने में मेरा पैर आगे खडी एक खूबसूरत युवती के लटकते पल्लू पर पड़ गया। वो सांप की तरह फुफकार मारकर एकदम पीछे पल्टी और शेर की तरह दहाडी, 'ब्लडी हैल, अंधे हो क्या?"

    युवक: फिर क्या हुआ?

    बुजुर्ग: मैं हकलाकर माफी मांगने लगा। फिर उसकी नजर मेरे चेहरे पर पडी और वो बडे़ ही मधुर स्वर में बोली, 'ओह माफ कीजिये, मैंने समझा मेरे पति हैं।' बस जनाब उस दिन के बाद से आज तक मेरा शादी करने का कभी हौंसला ही नहीं हुआ।"
  • पंतजलि हर्बल विष!

    वो दिन दूर नहीं जब बाबा रामदेव ज़हर भी बनाने लगेंगे। सोचो अगर सच में ऐसा हो गया तो सोचिये विज्ञापन कैसा होगा?

    भारत में हर साल लाखों लोग असफल आत्महत्या का प्रयास करते हैं लेकिन मरते नहीं।

    इस बात का हमें ध्यान रखना चाहिए कि कहीं वो इंसान मिलावट वाला ज़हर तो नहीं खा रहा।

    हमारे शोध में ये बात साबित हुई है कि मार्केट में महंगे दामों पर मिलने वाले आम ज़हर वाले 'प्रोडेक्ट' में कई तरह के सस्ते जहर, जैसे कि चूहे मारने की दवाई, धतूरा, नौशादर आदि मिलाये जाते हैं। जिससे बन्दा मरता नहीं बस झाग छोड़ बच्चों को डराता है।

    इनकी आत्महत्या की कोशिशों को नाटक मान बाद में इन्हें कायदे से जलील किया जाता है।

    त्वरित मौत चाहने वालों के लिए पतंजलि लाया है, अफ्रीकन माम्बा और भारतीय किंग कोबरा के शुद्ध जहर के सत से बना "पतंजलि हर्बल विष" जिसे बस खायें और खाते ही लुढ़क जायें।