• पति हो तो ऐसा!

    एक ट्रेन में दो लड़कियां यात्रा करते हुए बात कर रही थीं।

    पहली लड़की: तुझे कैसा पति चाहिए?

    दूसरी लड़की: मुझे एक करोड़पति पति चाहिए।

    पहली लड़की: अगर करोड़पति नहीं मिला तो?

    दूसरी लड़की: तो 50 लाख के दो पति भी चलेंगे।

    पहली लड़की: अगर 50 लाख वाला भी नहीं मिला तो?

    दूसरी लड़की: तो 25 लाख के 4 पति भी चलेंगे।

    इन दोनों की बात सुन ऊपर की बर्थ पर बैठा हुआ संता बोला, "जब यह सौ रुपए पर आए तो मुझे उठा देना"।
  • ग्राहक को कभी खाली नहीं जाने दो!

    एक बार संता एक दुकान पर काम करने के लगा तो दुकान का मालिक उसको दुकानदारी समझाते हुए बोला;

    दुकानदार: ग्राहक को कभी खाली ना जाने दो, अगर दुकान में वो चीज़ नहीं जो उसे चाहिए तो कोशिश करो कि तुम उसे दूसरी चीज़ बेच सको!

    संता: ठीक है मालिक!

    मालिक अपनी बात समझा कर किसी काम से चला जाता है कि तभी कुछ देर बाद एक ग्राहक दुकान में आया और संता से बोला;

    ग्राहक: एक पैकेट टॉयलेट पेपर का देना!

    संता: वो तो है नहीं, रेगमार ले लो!

  • संता को प्‍यार हो गया!

    एक बार संता को एक करोडपति बाप की इकलौती बेटी से प्यार हो जाता है तो वह शादी का प्रस्ताव लेकर लड़की के घर जाता है!

    जैसे ही वह लड़की के घर पहुँचता लड़की का बाप उस से पूछता है;

    लड़की का बाप: अगर मेरी लड़की गरीब बाप की बेटी होती तो क्या फिर भी तुम उसे प्यार करते?

    लड़की के बाप की बात सुन कर संता ने उसे पटाने के लिए बड़े ही फ़िल्मी स्टाइल में जवाब दिया!

    संता: जी हाँ बेशक!

    लड़की का बाप: तुम जा सकते हो, मैं अपनी बेटी का विवाह तुमसे नहीं करूंगा, क्योंकि मुझे अपने परिवार में मूर्खों की संख्या नहीं बढ़ानी है!

  • ये कैसी सहायता है!

    एक रात दो बजे बहुत तेज़ बारिश हो रही थी तो संता ने एक घर की घंटी बजाई और पूछा;

    संता: भाई साहब मेहरबानी करके धक्का लगा देंगे क्या ?

    आदमी नींद में था इसलिए मना कर दिया और अन्दर आ गया, परन्तु फिर उसे एहसास हुआ की कभी वो खुद बारिश में फंस जाये और कोई उसकी मदद न करे तो?

    यह सोच कर वह उठा और बाहर जा कर बोला;

    आदमी: क्या तुम्हे अभी भी धक्का चाहिए?

    संता की आवाज़ आई: हाँ!

    आदमी: ठीक है पर तुम हो कहाँ?

    संता: यहाँ गार्डन में झूले पर!