• पप्पू की शैतानियाँ

    2 महीने की गर्मियों की छुट्टियों के बाद पप्पू अपने स्कूल जाता है!

    अभी उसके स्कूल शुरू हुए एक हफ्ता भी नहीं गुज़रा होता है कि उसके स्कूल से उसकी अध्यापिका जीतो को फ़ोन करती है और कहती है;

    अध्यापिका: क्या मैं पप्पू की माता जी से बात कर सकती हूँ?

    जीतो: जी हाँ कहिये मैं बोल रही हूँ!

    अध्यापिका: जी आपके पप्पू ने अपनी शैतानियों से सारे स्कूल की नाक में दम कर रखा है!

    अध्यापिका की बात सुन कर जीतो तुरंत जवाब देती है;

    जीतो: वाह मैडम जी वाह आपने तो एक हफ्ते में ही फ़ोन कर दिया, पिछले 2 महीने से जब उसने मेरा जीना मुहाल किया हुआ था तो मैंने तो कभी आपसे उसकी शिकायत नहीं की!
  • संता का पिज़्ज़ा आर्डर!

    एक बार संता पिज़्ज़ा हट पर फ़ोन करता है और कहता है;

    संता: हैलो क्या आप पिज़्ज़ा हट से बोल रहे हैं!

    मैनेजर: जी बताइये सर मैं आपकी क्या सहायता कर सकता हूँ!

    संता: भाई मैं बता तो दूं पर आप मेरी वह सहायता करेंगे नहीं!

    मैनेजर: नहीं सर आप बताइये तो सही मैं आपकी पूरी पूरी सहायता करूँगा!

    संता: तो फिर बता कि मैं घर पर पिज़्ज़ा कैसे बनाऊँ?

  • संता की गहराई की सच्चाई!

    एक बार संता और बंता एक कोयले की खदान में नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जाते हैं तो मैनेजर पहले बंता को बुलाता है और उसका इंटरव्यू लेता है;

    मैनेजर: क्या तुमने इस से पहले भी कभी खदान में काम किया है!

    बंता: जी हाँ!

    मैनेजर: अच्छा तो मुझे यह बताओ की उसकी गहराई कितनी थी?

    बंता: जी 20 फुट!

    बंता की बात सुन मैनेजर को गुस्सा आ जाता है तो वह उस से कहता है;

    मैनेजर क्या बकवास कर रहे हो 20 फुट गहरी भी कोई खदान होती है, तुम झूठ बोल रहे हो इसीलिए मेरे कमरे से बहार निकल जाओ!

    मैनेजर की बात सुन बंता बहार आ जाता है और संता को अन्दर हुई सारी बात बताता है और कहता है;

    बंता: अगर मैनेजर अन्दर तुमसे खदान की गहराई के बारे में पूछे तो ज्यादा से ज्यादा बताना!

    उसके बाद संता की बारी आती है तो मैनेजर फिर उस से वही सवाल पूछता है;

    मैनेजर: क्या तुमने इस से पहले कभी खदान में काम किया है?

    संता: जी हाँ!

    मैनेजर: अच्छा तो उस खदान की गहराई कितनी थी?

    संता: जी 20,000 हज़ार फुट!

    मैनेजर: बहुत बढ़िया तो एक बात और बताओ की इतनी गहराई में काम करते वक्त तुम किस तरह की लाईटों का प्रयोग करते थे?

    संता: जी मुझे कभी लाईटों की ज़रूरत नहीं पड़ी क्योंकि मेरी दिन की शिफ्ट होती थी!

  • निधन सन्देश!

    एक बार जीतो एक अखबार के दफ्तर में अपने पति संता का निधन सन्देश अखबार में प्रकाशित करवाने जाती है और वहां जाकर अखबार के प्रकाशक से कहती है;

    जीतो: भाई साहब मेरे पति का निधन हो गया है और मुझे उनके निधन का सन्देश अखबार में छपवाना है!

    जीतो की बात सुन प्रकाशक जवाब देता है;

    प्रकाशक: जी ठीक है परन्तु इसके लिए आपको 100 रूपए प्रति शब्द के हिसाब से हमें पैसे का भुगतान करना होगा!

    प्रकाशक की बात सुन जीतो जवाब देती है;

    जीतो: ठीक है तो आप बस इतना सन्देश छाप दीजियेगा की "संता मर गया"!

    जीतो की बात सुन प्रकाशक कहता है;

    प्रकाशक: मैं माफ़ी चाहूँगा मैडम पर ऐसे किसी भी सन्देश में कम से कम छः शब्द होने अनिवार्य हैं!

    जीतो कुछ देर सोचती है और कहती है;

    जीतो: ठीक है तो फिर यह प्रकाशित कर दीजियेगा कि "संता मर गया, स्कूटर बिकाऊ है"!