• पत्नी का पत्र!

    गांव में एक स्त्री थी । उसके पति आई.टी.आई मे कार्यरत थे। वह आपने पति को पत्र लिखना चाहती थी, पर अल्पशिक्षित होने के कारण उसे यह पता नहीं था कि पूर्णविराम (Full Stop) कहां लगेगा ।

    इसीलिये उसका जहां मन करता था वहीं पूर्णविराम लगा देती थी ।

    तो एक बार उसने अपने पति को कुछ इस प्रकार चिठ्ठी लिखी:

    मेरे प्यारे जीवनसाथी मेरा प्रणाम आपके चरणो मे।

    आप ने अभी तक चिट्टी नहीं लिखी मेरी सहेली को। नौकरी मिल गयी है हमारी गाय को। बछडा दिया है दादाजी ने। शराब की लत लगाली है मैने। तुमको बहुत खत लिखे पर तुम नहीं आये कुत्ते के बच्चे। भेड़िया खा गया दो महीने का राशन। छुट्टी पर आते समय ले आना एक खूबसूरत औरत। मेरी सहेली बन गई है। और इस समय टीवी पर गाना गा रही है हमारी बकरी। बेच दी गयी है तुम्हारी मां। तुमको बहुत याद कर रही है एक पडोसन। हमें बहुत तंग करती है।

    तुम्हारी चंदा।
  • पत्नियों की माया!

    अलग-अलग महिलाएं अपने पतियों से लड़ रही थी।

    पायलट की पत्नी: ज्यादा उड़ो मत समझे।

    मास्टर की पत्नी: मुझे मत सिखाओ ये आपका स्कूल नहीं।

    डेंटिस्ट की पत्नी: दांत तोड़ के हाथ में दे दूंगी।

    डॉक्टर की पत्नी: तबियत दुरुस्त कर दूंगी।

    MBA की पत्नी: अपने काम से काम रखो।

    इंजीनियर की पत्नी: ज्यादा करंट मत मारो।

    चार्टर्ड अकाउंटेंट की पत्नी: पहले पास तो हो लो, फिर बात करना बुड्ढे।
  • पत्नी और घड़ी के बीच का संबंध!

    समानताएं:

    1. घड़ी चौबीस घंटे टिक-टिक करती रहती है, और पत्नी चौबीस घंटे किट-किट करती रहती है।

    2. घड़ी की सूइयाँ घूम-फिर कर वहीं आ जाती हैं। उसी प्रकार पत्नी को आप कितना भी समझा लो, वो घूम- फिर कर वहीं आ जायेगी और अपनी ही बात मनवायेगी।

    3. घड़ी बिगड़ जाये तो मैकेनिक के यहाँ जाती है। पत्नी बिगड़ जाये तो मायके जाती है।

    4. घड़ी को चार्ज करने के लिये सेल (बैटरी) का प्रयोग होता है, और पत्नी को चार्ज करने के लिये सैलेरी का प्रयोग होता है।

    विषमतायें:

    1. घड़ी में जब 12 बजते हैं तो तीनों सूइयाँ एक दिखाई देती हैं, लेकिन पत्नी के जब 12 बजते हैं तो एक पत्नी भी 3-3 दिखाई देती है।

    2. घड़ी के अलार्म बजने का फिक्स टाइम है, लेकिन पत्नी के अलार्म बजने का कोई फिक्स टाइम नहीं है।

    3.घड़ी बिगड़ जाये तो रूक जाती है, लेकिन जब पत्नी बिगड़ जाये तो शुरू हो जाती है।

    4. सबसे बड़ा अंतर ये कि घड़ी को जब आपका दिल चाहे बदल सकते हैं, मगर पत्नी को चाह कर भी बदल नहीं सकते, उल्टा पत्नी के हिसाब से आपको खुद को बदलना पड़ता है।
  • मुहावरों के आधुनिक अर्थ!

    1. खुद की जान खतरे में डालना = शादी करना

    2. आ बैल मुझे मार = पत्नी से पंगा लेना

    3. दीवार से सिर फोड़ना = पत्नी को कुछ समझाना

    4. चार दिन की चाँदनी वही अँधेरी रात = पत्नी का मायके से वापस आना

    5. आत्महत्या के लिए प्रेरित करना = शादी की राय देना

    6. दुश्मनी निभाना = दोस्तों की शादी करवाना

    7. खुद का स्वार्थ देखना = शादी ना करना

    8. पाप की सजा मिलना = शादी हो जाना

    9. लव मैरिज करना = खुद से युद्ध करने के लिए योद्धा ढूंढना

    10. जिंदगी के मज़े लेना = कुँवारा रहना

    11. ओखली में सिर देना = शादी के लिए हाँ करना

    12. दो पाटों में पिसना = दूसरी शादी करना

    13. खुद को लुटते हुऐ देखना = पत्नी की मांग पूरी करना

    14. शादी के फ़ोटो देखना = गलती पर पश्चाताप करना

    15. शादी के लिए हाँ करना = स्वेच्छा से जेल जाना

    16. शादी = बिना अपराध की सजा

    17. बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना = दूसरों के दुःख से खुश होना

    18. साली आधी घर वाली = वो स्कीम जो दूल्हे को बताई जाती है लेकिन दी नहीं जाती।