• लाजवाब ख़ूबसूरती!

    निकाह के बाद दूल्हा मौलवी साहब से बोला, " मौलवी साहब आपकी फीस?"

    मौलवी: जनाब बेगम की ख़ूबसूरती के मुताबिक दे दो।

    मौलवी की बात सुन कर दूल्हे ने अपनी जेब में हाथ डाला और चुपचाप दस रूपए का नोट मौलवी साहब के हाथ में थमा कर उठ कर जाने लगा।

    तभी अचानक हवा से दुल्हन का घूँघट उठ गया।

    मौलवी: अमा मियाँ बाकि के पैसे तो लेते जाओ।
  • ये भी क्या ज़िन्दगी है!

    बिक्री के बोझ से बीमार एक सेल्समेन से उसकी पत्नी ने कहा, " इस बार जानवरों के डॉक्टर को दिखाओ तो ही ठीक होगे।"

    सेल्समेन: क्यों?

    पत्नी: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो।

    लोमड़ी की तरह इधर उधर से आर्डर बटोरते हो।

    गधे की तरह दिन भर टारगेट पूरे करते हो।

    घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भौंकते हो, शेर की तरह मुझे खाने को पड़ते हो, और फिर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर तुम्हे क्या ख़ाक ठीक कर पायेगा।
  • एक पति का पत्नी को मैसेज!

    मेरी प्यारी बेगम।

    सवाल कुछ भी हो।

    जवाब तुम ही हो।

    रास्ता कोई भी हो।

    मंजिल तुम ही हो।

    दुःख कितना ही हो।

    ख़ुशी तुम ही हो।

    अरमान कितना ही हो।

    आरजू तुम ही हो।

    गुस्सा जितना भी हो।

    प्यार तुम ही हो।

    ख्वाब कोई भी हो।

    ताबीर तुम ही हो।

    "यानी ऐसा समझो कि सारे फसाद की जड़ तुम हो और सिर्फ तुम ही हो।"
  • पति भक्त पत्नी!

    एक औरत अपने पति की कब्र पर पंखा झल रही थी।

    एक राहगीर उसकी यह पति भक्ति देखकर ठिठक कर रुक गया।

    उसने पास जाकर कहा, "बहन जी, अब तो यह मर गया है, अब इस पर पंखा झलने से क्या फायदा?"

    औरत ने ठंडी सांस लेकर कहा, "मैं इस कब्र को जल्द सुखाने की कोशिश कर रही हूं क्योंकि हमारे यहां का कायदा है कि जब तक पति की कब्र सूख न जाए, औरत दूसरी शादी नहीं कर सकती।