• फ़ोन का बिल!

    फ़ोन का बहुत अधिक बिल आने पर एक आदमी ने अपने घर के सभी लोगों को बुलाया और कहने लगा।

    आदमी: देखो, मुझे इस बात पर बिल्कुल भी यकीन नही हो रहा है कि फ़ोन का इतना अधिक बिल कैसे आ सकता है? जबकि मैं तो सारे फ़ोन अपने ऑफिस के फ़ोन से करता हूँ।

    पत्नी: बिल्कुल, मैं भी! मैं तो कभी भी इस फ़ोन से फ़ोन नही करती क्योंकि मेरे पास तो अपना ऑफिस वाला फ़ोन है।

    बेटा: मुझे तो मेरी कंपनी वालों ने बिल्कुल नया फ़ोन दिया है मैं तो उसी से फ़ोन करता हूँ।

    नौकरानी: तो इसमें दिक्कत क्या है साहब? सभी अपने काम वाले फ़ोन से ही फ़ोन करते हैं।
  • गाडी हो गई लेट!

    पठान अपने बेटे के लिए एक खिलौना रेलगाड़ी खरीद कर लाया।

    खिलौना देने के कुछ देर बाद जब वह बेटे के कमरे में गया तो देखा कि बच्चा रेलगाड़ी से खेल रहा है और कह रहा है कि जिस उल्लू के पट्ठे को उतरना है वो उतर जाए, जिस उल्लू के पट्ठे को चढ़ना है वो चढ़ जाए। रेलगाड़ी दो मिनट से ज्यादा नहीं रुकेगी।

    बच्चे के मुंह से यह भाषा सुनकर पठान को गुस्सा आ गया। उसने बच्चे को जोर से दो तमाचे लगाए और फिर कभी इस तरह से न बोलने की चेतावनी दी और बोला, "मैं दो घंटे के लिए बाजार जा रहा हूं। तब तक तुम सिर्फ पढ़ोगे, समझे।"

    दो घंटे बाद बाद जब पठान लौटकर आया तो बच्चे को पढ़ते हुए देखा। यह देखकर उसका दिल पसीज गया और उसने बच्चे को फिर रेलगाड़ी से खेलने की इजाजत दे दी।

    अबकी बार उसने बच्चे को कहते हुए सुना जिस उल्लू के पट्ठे को उतरना है वो उतर जाए, जिस उल्लू के पट्ठे को चढ़ना है वो चढ़ जाए। गाड़ी पहले ही एक उल्लू के पट्ठे की वजह से दो घंटे लेट हो चुकी है!
  • नशा और जानवर!

    एक चीता सिगरेट का कश लगाने ही वाला था कि अचानक चूहा वहाँ आया और बोला, "भाई छोड़ दो नशा, आओ मेरे साथ, देखो जंगल कितना खूबसूरत है।"

    चीता चूहे के साथ चल दिया।

    आगे हाथी कोकीन ले रहा था, चूहा फिर बोला, "भाई छोड़ दो नशा, आओ मेरे साथ, देखो जंगल कितना खूबसूरत है।"

    हाथी भी साथ चल दिया।

    आगे शेर व्हिस्की पीने की तैयारी कर रहा था, चूहे ने उसे भी वही कहा।

    शेर ने ग्लास साइड पर रखा और चूहे को 5-6 थप्पड़ मारे।

    हाथी बोला: अरे क्यों मार रहे हो इस बेचारे को?

    शेर बोला, "ये साला रोज़ अफ़ीम पीके ऐसे ही सबको पूरी रात जंगल घुमाता है।"
  • काबिल कुता!

    एक दुकान के बाहर लिखा था, "इन्सानों की तरह बात करने वाला कुत्ता बिकाऊ है।"

    एक आदमी दुकानदार से जाकर बोला, "मैं उस कुत्ते को देखना चाहता हूं।"

    दुकानदार ने कहा,"साथ के कमरे में बैठा है, जा कर मिल लो।"

    ग्राहक उस कमरे में गया तो उसने देखा, कुर्सी पर एक हट्टा-कट्टा कुत्ता बैठा था तो उसने उस से पूछा, "क्यों भई, तुम यहां क्या कर रहे हो?"

    कुता बोला, "कर तो मैं बहुत कुछ सकता हूं, लेकिन आजकल इस दुकान की रखवाली करता हूं। इससे पहले अमेरिका के जासूसी महकमे में काम करता था और कई खूंखार आतंकवादियों को पकड़वाया, फिर मैं इंग्लैंड चला गया जहां पुलिस के लिए मुखबरी करता था। एक साल बाद यहां आ गया।"

    कुत्ते की बात सुन उस आदमी ने दुकानदार से पूछा, "इतने गुणवान कुत्ते को आप बेचना क्यों चाहते हैं?"

    दुकानदार: जी क्योंकि यह अव्वल नम्बर का झूठा है।