• अब संता क्या कहे?

    स्कूल से अपने बेटे पप्पू के काफी सारे प्रेम प्रसंगों गलत आदतों की शिकायतें आने के बाद एक दिन संता उसे बुलाया और कहा।

    संता: बेटा मुझे समझ नहीं आ रहा तुम्हे कैसे कहूं पर मुझे लगता की वह वक्त आ गया है जब हम दोनों स्त्री-पुरुष संबंधों के बारे में आपस में खुल कर बातचीत करें।

    संता की बात सुन पप्पू तपाक से बोला, "अरे पापा शर्माइये नहीं बताइए ना आप क्या जानना चाहते हैं?"
  • और करो सवाल!

    एक बार कक्षा में टीचर ने बच्चों से पूछा, "बताओ बच्चों 1869 में क्या हुआ था?"

    बंटी: मैडम जी 1869 में गाँधी जी का जन्म हुआ था।

    टीचर: शाबाश, अच्छा अब बताओ 1872 में क्या हुआ था?

    पप्पू: मैडम जी 1872 में गांधी जी तीन साल के हो गए थे।
  • लूट गया पप्पू!

    एक लड़की पुल के ऊपर से छलांग लगाने ही वाली थी कि पप्पू बाइक से आकर उसके पास रुका और बोला," अगर तुम आत्महत्या करने जा ही रही हो तो मुझे एक लंबी किस (चुंबन) देती जाओ।"

    वो लड़की तैयार हो गई फिर उसने इतनी लंबी किस दी कि वैसी किस पप्पू ने पहले कभी किसी से नहीं ली थी।

    फिर पप्पू ने लड़की से आत्महत्या करने का कारण पूछा तो लड़की ने कहा, " मेरा नाम बबलू है और मेरे घर वालों को पसंद नहीं कि मैं लड़की बनकर घूमूं।"

    पप्पू बेहोश, बबलू मदहोश।
  • बुरी खबर या अच्छी खबर?

    एक बार पप्पू का परीक्षा परिणाम आया तो वह अपना रिपोर्ट कार्ड लेकर अपने घर पहुंचा।

    संता: पप्पू तुम्हारा परीक्षा परिणाम आ क्या?

    पप्पू: जी पापा।

    संता: तो क्या रहा तुम्हारा परीक्षा परिणाम?

    पप्पू: पापा एक अच्छी खबर है और एक बुरी खबर है, अब आप बताइये पहले कौनसी बताऊँ?

    संता: पहले अच्छी खबर बता।

    पप्पू: जी मैं पास हो गया।

    संता: अरे वाह! और बुरी खबर क्या है?

    पप्पू: जी अच्छी खबर झूठी है।