• युद्ध और शांति!

    एक सामाजिक अध्ययन का अध्यापक कक्षा में 'युद्ध और शांति' विषय पर पढ़ा रहा था, जब चैप्टर समाप्त हुआ तो अध्यापक ने बच्चों से पूछा, "तो तुम में से कितने लोग हैं जो युद्ध का विरोध करते हैं?"

    सभी ने बिना किसी झिझक के हाथ उठा दिए।

    अध्यापक ने फिर पूछा, "आप में से कोई मुझे कारण देकर बता सकता है कि आप युद्ध का विरोध क्यों करते हैं?"

    कक्षा में सबसे पीछे बैठे हुए बच्चों ने सुस्ताते हुए अपने हाथ ऊपर उठाये और उन में से पप्पू खड़ा हो गया।

    पप्पू ने कहा सर मैं बताता हूँ, "मैं युद्ध पसंद नही करता क्योंकि युद्ध से इतिहास बनते है और मुझे इतिहास (विषय) बिल्कुल पसंद नही।"
  • मैं कौन हूँ?

    पप्पू ट्रेन में एक सीट पर अकेला लेटा हुआ था।

    एक यात्री आया और बोला: भाई साइड में हो जायें, मुझे भी बैठना है।

    पप्पू तुझे पता नहीं मैं कौन हूँ?

    यात्री डर के दूसरी जगह पर जाकर बैठ गया।

    फिर एक पहलवान आया और बोला, साइड में हो जा छोटू मुझे भी बैठना है।

    पप्पू ने उसे भी रोब दिखाते हुए बोला, तुझे पता नहीं मैं कौन हूँ?

    पहलवान ने पप्पू की गर्दन पकड़ के उठा लिया और बोला, हां, बोल तू कौन है?

    पप्पू जी मैं 'बीमार' हूँ, 2 दिन से तेज़ बुखार है।
  • शेर का रिश्तेदार!

    टीचर: अगर तुम एक जंगल में हो और वहां शेर आ जाए तो तुम क्या करोगे?

    पप्पू: सर मैं पेड़ पर चढ़ जाऊंगा।

    टीचर: अगर वह वहां भी आ जाए तो?

    पप्पू: तो मैं पानी में कूद जाऊंगा।

    टीचर: और अगर वह पानी में ही आ जाए तो?

    पप्पू: मास्टर जी, पहले आप यह बताओ कि शेर क्या आपका रिश्तेदार है जो आप उसकी साइड लिए जा रहे हो।
  • अब संता क्या कहे?

    स्कूल से अपने बेटे पप्पू के काफी सारे प्रेम प्रसंगों गलत आदतों की शिकायतें आने के बाद एक दिन संता उसे बुलाया और कहा।

    संता: बेटा मुझे समझ नहीं आ रहा तुम्हे कैसे कहूं पर मुझे लगता की वह वक्त आ गया है जब हम दोनों स्त्री-पुरुष संबंधों के बारे में आपस में खुल कर बातचीत करें।

    संता की बात सुन पप्पू तपाक से बोला, "अरे पापा शर्माइये नहीं बताइए ना आप क्या जानना चाहते हैं?"