• आ बैल मुझे मार!

    एक बार जीजा अपनी साली को लेकर शहर से गांव लौट रहा था। उसके हाथों में एक बाल्टी, एक छड़ी, बगल में एक मुर्गी और बकरी की रस्सी थी।

    रात चांदनी थी और साली जवान।

    अचानक साली बोली: मुझे आप के साथ चलने में डर लग रहा है। कहीं आप कुछ बदमाशी ना करने लगें।

    जीजा: अरे मैं कैसे कोई बदमाशी कर सकता हूँ। मेरे तो दोनों हाथ घिरे हुए हैं, चाह कर भी मैं कुछ नहीं कर सकता।

    साली: कैसे नहीं कर सकते? अभी अगर आप छड़ी ज़मीन में गाड़कर बकरी उसके साथ बांध दें और मुर्गी को बाल्टी के नीचे रख दें तो फिर जो चाहें कर सकते हो आप।
  • मज़ा ही मज़ा!

    एक लड़की की शादी हुई और उसकी सहेली को उसकी सुहागरात के बारे में जानने की बड़ी ही उत्सुकता थी।

    सहेली: बता ना कल रात को क्या हुआ?

    लड़की: कुछ नहीं।

    सहेली: पर कल तो तेरी सुहागरात थी, कुछ तो हुआ होगा?

    लड़की: कह रही हूँ ना कुछ नहीं हुआ।

    सहेली: अच्छा तो मुझे कल रात की सारी घटना बता।

    लड़की: रात को दस बजे मेरे पति कमरे में आये।

    सहेली: फिर क्या हुआ?

    लड़की: उन्होंने अपना कोट उतारा और खूँटी पर टांग दिया।

    सहेली: फिर क्या हुआ?

    लड़की: फिर उन्होंने अपनी टाई उतारी और खूँटी पर टांग दी।

    सहेली: फिर क्या हुआ?

    लड़की: फिर उन्होंने अपनी शर्ट उतारी और खूँटी पर टांग दी।

    सहेली: फिर क्या हुआ?

    लड़की: फिर उन्होंने अपनी बनियान उतारी और और खूँटी पर टांग दी।

    सहेली: फिर क्या हुआ?

    लड़की: फिर उन्होंने अपनी बेल्ट उतारी और खूँटी पर टांग दी।

    सहेली: फिर क्या हुआ?

    लड़की: फिर उन्होंने अपनी पैंट भी उतार कर खूँटी पर टांग दी।

    सहेली: फिर क्या हुआ?

    लड़की: फिर उन्होंने मेरी साड़ी उतारी और खूँटी पर टांग दी।

    सहेली: फिर क्या हुआ?

    लड़की: फिर मेरा ब्लाउज उतारा और खूँटी पर टांग दिया।

    सहेली: फिर क्या हुआ?

    लड़की: फिर उन्होंने मेरा पेटीकोट भी उतारा और खूँटी पर टांग दिया।

    सहेली: फिर क्या हुआ?

    लड़की: फिर उन्होंने मेरी ब्रा भी उतार कर खूँटी पर टांग दी।

    सहेली: फिर तो जरूर कुछ मजेदार हुआ होगा?

    लड़की: हाँ हुआ था ना बहुत मजा आया।

    सहेली: क्या हुआ था?

    लड़की: इतने सारे कपड़े लादने की वजह से खूँटी टूट गई और वो सारी रात खूँटी ही ठोकते रह गए।
  • चूतियों के लक्षण!

    चूतिये = फ्री में बैलेंस, मोबाइल, pendrive, T-shirt, झुनझुना आदि के लिए मैसेज भेजते रहते हैं, जो इन्हें कभी नहीं मिलते।

    महा चूतिये =ये 2-2 साल पुराने मैसेज को मार्किट में नया है कहकर फारवर्ड करते रहते हैं। जैसे फलां जगह बच्ची मिली है इसे घर वालों तक पहुंचाओ। इनमें तारीख़ नहीं होती। तारीख़ होती तो पोल खुल जाती।

    अखंड चूतिये = ऐसे एक्सीडेंट की खबरे भेजते हैं, जो 2 साल पहले हुआ था। इनमें भी तारीख़ कभी नहीं होती।

    विश्व प्रसिद्ध चूतिये =व्यर्थ की साईं इमेज, फूल, पत्ती या 1121 ॐ लिखकर कसम देकर लोगों को फारवर्ड करके अपनी बला ग्रुप के मेम्बरों पर चिपकाते हैं। ( क्या मिलता है भाई???)

    ब्रम्हांड प्रसिद्ध चूतिये ="पुजारी मंदिर में पूजा कर रहा था फिर एक सांप/बन्दर आया और उसने इंसान का रूप ले लिया" इसे आगे भेजो लाटरी निकल जायेगी। (अरे मूर्ख तेरी ही नहीं निकली तो दूसरे की क्या खाक निकलेगी?)

    चूतियों के बादशाह =अभी अभी पैदा हुए बच्चे के गले में आलपिन फंस गई, 50 लाख लगेंगे बच्चे के गले में आलपिन कौन डालेगा ? कौनसे ऑपरेशन में 50 लाख लगते हैं भाई ? ऊपर से बोलेंगे कि प्रति शेयर 50 पैसा व्हाट्सऐप की तरफ से मिलेगा। जबकि सच्चाई ये है की व्हाट्सएप्प को 19 बिलियन डॉलर में खरीदने वाले मार्क जकरबर्ग को इससे अभी 25 पैसे नही मिलते।

    सबसे बड़ी बेवकूफी तो तब होती है जब कोई कहता है कि- "मैसेज आगे भेजो आपकी बैटरी फुल चार्ज हो जायगी"/ घोडा दौड़ने लगेगा, भैंस का रंग बदल जायेगा या ताला खुल जायेगा। (भाई physics नाम की भी कोई चीज़ होती है।)

    चुतियापा का कोर्स करने वाले = किसी आदमी के डॉक्यूमेंट, डिग्रियाँ गिर गए हैं, ये मैसेज उस तक पहुचाने में मदद करें. (अरे मंदबुद्धि डॉक्यूमेंट आधार कार्ड,परिचय पत्र आदि में उसका पता नहीं है क्या?)

    यदि इनमें से कोई भी लक्षण आप में हैं, तो आप भी Whatsapp पर अपने चुतियापे का परिचय दे रहे हैं।

    अनावश्यक पोस्ट डालकर मोबाइल को कूड़ाघर नहीं बनायें। कोई भी msg पोस्ट करने से पहले सोच लें कि आप क्या पोस्ट कर रहे हैं। थोड़ा अपना दिमाग लगाएँ।

    अगर आपको भी बेकार के मैसेज से बचना है तो इसे अन्य ग्रुप में भेजो ताकि चूतिये उन्हें पढ़ लें। आपको फालतू के msg आना बंद हो जायेंगे। और ऐसे पागलो से पीछा छूट जायेगा
  • आज की नारी!

    एक बार एक पति और पत्नी में लड़ाई हो जाती है, तो पति परेशान हो कर बाजार जाता है और आत्महत्या करने के इरादे से एक बोतल जहर ले कर आ जाता है।

    घर लौटकर वह अपनी पत्नी से कहता है।

    पति: बहनचोद मैं तेरी रोज की किटकिट से परेशान हो गया हूं और इसीलिए मैं अपनी जान दे रहा हूं, और इतना कहकर वह जहर की बोतल अपने मुंह में उड़ेल लेता है।

    परंतु जहर खाने के बाद उसकी मौत होने के बजाये उसकी तबियत खराब हो जाती तो पत्नी गुस्से से उससे कहती है।

    पत्नी: गांडू के बीज तू ज़िन्दगी में कोई काम ढंग से नहीं कर सकता, तुझसे सौ बार कहा है कि चीजें देखकर खरीदा कर पैसे भी गए और जिस काम के लिए जहर लाया था वो भी नहीं हुआ।